बिहार के संगीत और लोकगायन को जानना हो तो कल जरूर आइए

‌बिहार में संगीत परंपरा और लोक गायन को समझने की कोशिश है बिहारनामा

पटना,9जुलाई. आने वाली 10 जुलाई को भोजपुरी के शेक्सपियर और लोक कलाकार भिखारी ठाकुर की पुण्यतिथि मनाई जाएगी. इस मौके पर एक विशेष आयोजन पटना के बिहार म्यूजियम में ‘लोकराग’ की तरफ से हो रहा है जिस के सह-आयोजक ‘आखर’ हैं और विशेष सहयोग बिहार म्यूजियम की तरफ से होगा. यह कार्यक्रम दोपहर 2:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक चलेगा. कार्यक्रम का शीर्षक ‘बिहारनामा’ रखा गया है, जिसमें चर्चा का विषय बिहार की संगीत परंपरा और भारतीय संगीत में उसका योगदान होगा. विशेष व्याख्यान नॉर्वे में रहने वाले और पेशे से डॉक्टर चर्चित लेखक प्रवीण झा देंगे जिनकी किताब ‘कुली लाइंस’ भारतीय आप्रवासी मजदूरों पर आधारित है और अभी चर्चा में है. डॉक्टर झा की अगली किताब संगीत पर है आने वाली है. इस व्याख्यान के बाद एक संवाद का भी आयोजन होगा जिसमें भिखारी ठाकुर के जीवन पर शोध करने वाले तैयब हुसैन पीड़ित और चर्चित लेखक हृषिकेश सुलभ शिरकत करेंगे और भिखारी ठाकुर की रचनाओं में स्त्रियों का स्वर और उनके पक्ष पर चर्चा करेंगे साथ ही वे श्रोताओं के सवालों का भी जवाब देंगे.




कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण ‘पुरबिया तान’ फेम गायिका चंदन तिवारी और उनकी टीम का भोजपुरी में भिखारी ठाकुर के गीतों का गायन होगा. इस आयोजन में कई नामी-गिरामी साहित्य, संगीत और संस्कृति से जुड़े लोग शिरकत करेंगे. कार्यक्रम का सूत्रधार ‘आखर’ होगा और इस कार्यक्रम में श्रोताओं का प्रवेश निशुल्क होगा. ऐसी उम्मीद है कि ऐसा अनूठा आयोजन बिहार में संगीत परंपरा और लोक गायन को समझने में मील का पत्थर साबित होगा.

रवि प्रकाश सूरज की रिपोर्ट