Live: विधान सभा का शताब्दी वर्ष ,राष्ट्रपति का सम्बोधन

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद लाइव LIVE

#LIVE:बिहार विधानसभा भवन शताब्दी वर्ष समारोह, राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद के कर कमलों से शताब्दी स्मृति स्तंभ का शिलान्यास, पवित्र बोधि वृक्ष के शिशु पौधे का रोपण एवं “सदन में विमर्श ही संसदीय प्रणाली का मूल है” विषय पर व्याख्यान ।




https://twitter.com/i/broadcasts/1djxXPBBRLoxZ

फ़ाइल फोटो

विधान सभा के 100 साल पुरे होने पर गरिमामयी आयोजन में 21 अक्टूबर को राष्ट्रपति बिहार विधानसभा) के शताब्दी समारोह कार्यक्रम में शामिल हुए . सियासत और समाजिक बदलाव का गवाह रहा है विधान सभा .राष्ट्रपति सुबह 10:50 बजे वो विधानसभा स्थित कार्यक्रम स्थल पर पहुंचें और विधानसभा में राष्ट्रपति विधानसभा परिसर में बोधि वृक्ष भी लगाया. राष्ट्रपति ने शताब्दी वर्ष स्तंभ का शिलान्यास के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर के कार्यक्रम का उद्घाटन किया. बिहार विधानसभा भवन के सौ साल पूरे होने पर आयोजित शताब्‍दी समारोह का उद्घाटन गुरुवार को राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बतौर मुख्‍य अतिथि किया। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने विधानसभा परिसर में शताब्दी स्मृति स्तंभ का शिलान्यास किया।

25 फीट ऊंचे इस स्तंभ की स्थापना मुख्य भवन के सौ वर्ष पूरे होने की याद में की जा रही है। राष्ट्रपति ने बोधिवृक्ष का पौधा भी लगाया। महामहिम का विधानसभा अध्‍यक्ष विजय चौधरी और सीएम नीतीश कुमार ने राष्‍ट्रपति का स्‍वागत किया। मुख्यमंत्री नीतीश ने बिहार विधानसभा के गौरवशाली इतिहास का उल्‍लेख करते हुए हुए कहा कि लोकतंत्र की जड़ों को मजबूत बनाने में इसका महत्‍वपूर्ण योगदान है। नीतीश ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्‍वागत करते हुए कहा कि वो दो वर्ष तक बिहार के राज्‍यपाल रहे। हम आज भी उन्‍हें बिहारी ही मानते हैं। उन्‍होंने कहा कि देश के राष्‍ट्रपति के रूप में राम नाथ कोविंद से बिहार वासी को गर्व की अनुभूति होती है। राष्‍ट्रपति‍ ने कहा कि विधानसभा ने शराबबंदी लागू किया। इस अधिनियम को कानून का दर्जा देने का गौरव मुझे भी मिला।–राम नाथ कोविंद ने कहा कि बिहार लोकतंत्र की धरती है। यहां वैशाली में लोकतंत्र फला-फूला। इस धरती पर नालंदा, विक्रमशिला जैसे शिक्षण संस्‍थान थे तो यहां आर्यभट्ट व चाणक्‍य हुए। इस परंपरा को आगे बढ़ाने की जिम्‍मेदारी अब बिहार के लोगों की है।राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि बिहार आता हूं तो अच्‍छा लगता है। बिहार से अलग नाता लगता है। यहां आने पर लगता है कि घर आया हूं। बिहार हमेशा इतिहास रचता है। आज भी इतिहास रचा गया है। आज देश ने भी इतिहास रचा है। देश ने सौ करोड़ कोरोना वैक्‍सीनेशन पूरा किया है। राज्‍यपाल फागू चौहान ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्‍वागत किया और बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग होने के बाद बिहार विधानसभा के इतिहास के बारे में विस्तार से बताया। उन्‍होंने कहा कि बिहार विधानसभा बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग होने से पहले बिहार-ओडिशा विधान परिषद भवन था। बिहार विधानसभा ने इतिहास के कई दौर देखे हैं।

बिहार के प्रसिद्ध व्यंजनों का स्वाद लेंगे राष्ट्रपति

शाम में  विधानसभा के अध्यक्ष विजय सिन्हा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सम्मान में अपने आवास पर रात्रि भोज व सांस्कृति कार्यक्रम का आयोजन करेंगे. इसमें बिहारी कलाकारों की ओर से सांस्कृतिक प्रस्तुति दी जायेगी. सांस्कृतिक कार्यक्रम में मैथिली, मंगली, बज्जिका समेत सभी बिहारी विधा के प्रोग्राम होंगे. इस कार्यक्रम में 71 कलाकारों को बुलाया गया है. वहीं, रात्रि भोज के लिए दो विशेष पंडाल बनाये गए हैं. एक में सांस्कृतिक कार्यक्रम और दूसरे में भोज का इंतजाम है. डिनर कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को शुद्ध शाकाहारी व्यंजन परोसने की तैयारी है. बिहार के प्रसिद्ध व्यंजनों का राष्ट्रपति स्वाद लेंगे. इस रात्रि भोज में राज्यपाल, मुख्यमंत्री और उनकी सरकार के तमाम मंत्री, विधायक और विधान पार्षद भी शामिल होंगे.

live ke liye यहाँ क्लिक करें

https://t.co/QCbigOrPOX?amp=1

https://bit.ly/3aXQDfe