‘सूमो’ का ट्वीट वार, पस्त हुए विरोधी

‘सूमो’ के ट्वीट से पस्त हुए विरोधी, नही निकली किसी की आवाज

पटना, 25 जनवरी. डिप्टी CM सुशील कुमार मोदी ने बुधवार को एक के बाद एक कई ट्वीट से ट्वीटर सोशल मीडिया पर विरोधियों की बोलती बंद की. उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा कि
1)  लगभग 1000 करोड़ रुपये के चारा घोटाला के तीसरे मामले में भी लालू प्रसाद के दोषी पाये जाने से यह संदेश साफ है कि कोई व्यक्ति अनुचित तरीके अपनाकर  कितनी भी बड़ी राजनीतिक-आर्थिक ताकत बना ले, सबूतों और गवाहों के आधार पर मिलने वाली सजा से उसका बचना संभव नहीं. विशेष अदालत का फैसला न्यायपालिका पर विश्वास बढ़ाने वाला है.




वही दूसरे टैट में कहा:
2) पिछली बार कोर्ट ने जिन लोगों को छोड़ दिया था इस बार उनको भी दोषी ठहराये जाने से न्यायपालिका पर जातिवादी आरोप लगाने वालों का मुंह बंद हो गया. कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर आया यह फैसला राजनीतिक जीवन में ईमानदारी की मिसाल कायम करने वाले महान जननायक को समर्पित एक न्यायिक श्रद्धांजलि है.राजद नेतृत्व की नई पीढ़ी को इस पर राजनीति करने के बजाय आत्ममंथन करना चाहिए.

उन्होंने तीसरे ट्वीट के जरिये विरोधियों की बन्द पड़ी आवाज के बाद कांग्रेस पर निशाना साधते हुए लिखा कि,

3) देश की 1 प्रतिशत आबादी के पास अगर कुल संपदा का 73 प्रतिशत हिस्सा सिमट गया है, तो जवाब उस कांग्रेस को देना चाहिए, जिसने 60 साल शासन किया. असमानता के ये आंकड़े जिनके गाल पर करारा तमाचा हैं, वे ही उल्टे उस प्रधानमंत्री से बेतुके सवाल पूछते हैं, जो राष्ट्रीय संपदा में गरीबों की हिस्सेदारी बढ़ाने में लगे हैं. राहुल गांधी बतायें कि यह विषमता क्या केवल 42 महीनों में पैदा हुई?

पटना नाउ ब्यूरो