पारम्परिक गीतों के बीच संपन्न हुआ लोक महापर्व छठ

गडहनी,4 नवम्बर. कांच ही बांस के बहंगिया बहंगीय…… लचकत जाये………व उग हे सूरूज देव……. भईले अरग के बेर……… जैसे पारम्परिक लोक गीतों के साथ महापर्व छठ का चार दिवसीय अनुष्ठान शनिवार को अस्ताचलगामी व रविवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ पूरे आस्था भारी भक्तिपूर्ण माहौल में शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया. प्रखंड के गडहनी, काउप, बालबाँध,बड़ौरा के शिवपुर,हरपुर के करनौल, बलिगांव समेत अन्य सूर्य मंदिरों पर ग्रामीण क्षेत्रों में नदी तालाबों पर श्रद्धालु छठ व्रतियों ने कुआँ समेत अन्य जलाशयों पर स्नान कर सूर्य मंदिर शिवालय समेत अन्य स्थलों पर अर्घ्य अर्पित कर अनुष्ठान संपन्न किया. इस दौरान विभिन्न पुजा समितियों द्वारा घाटों व मार्गो की साफ सफाई, तोरणद्वार , सजावट व प्रकाश की सराहनीय व्यवस्था की गई थी. पूजा समितियों लाइट की रोशनी से रात भर घाट को जगमगाए थे. घाटों तक पहुंचने के लिए ग्रामीणों द्वारा अस्थाई मार्ग निर्माण, घाटों पर महिलाओं के लिये ड्रेस चगिंग रूम, जलधारा में गहराई को इंगित करने के लिये बारकेटिंग् व अस्थाई शौचालय आदि के भी प्रबंध किये गए थे. सभी जगह साफ-सफाई व सजावट समेत सुविधा, सुरक्षा के प्रबंध आवश्यकतानुसार किया गया था.

विभिन्न पूजा समितियों द्वारा छठ घाटों पर देवी जागरण नाटक अन्य कार्यक्रमों के साथ-साथ छठ व्रतियों के लिए सुबह में चाय वह हलवा की भी वितरण का व्यवस्था किया गया था. वहीं काउप सूर्य मंदिर पर नाट्य कला परिषद की ओर से भोजपुरी नाटक दहेज के दलिदर नाटक का मंचन किया गया. नाटक का उद्घाटन मुख्य अतिथि धीरज सिंह बिसेन विशिष्ट अतिथि जिला परिषद बिनोद सिंह मुखिया पति ओम नारायण साह समिति मोहन राम भाई अरूनेश ने सामुहिक रूप से दीप प्रज्वलित कर नाटक का शुभारंभ किया. छठ पूजा सेवा कमिटी कुशवाहा टोला काउप के सौजन्य से छठ व्रतियों के लिए लाइट पंडाल दुध चाय हलवा आदि पूजन सामग्री की ब्यवस्था की गई थी.




कमिटी के मनोज कुशवाहा सुनील राजु लाल अमित राम उपेन्द्र,जितेंद्र,विवेक सहित अन्य सदस्यों का योगदान सराहनीय रहा. साथ ही गड़हनी के नया बाजार अवस्थित बनास नदी घाट पर मेडिकल टीम नदारद मिली. इस भीड़ भारी भक्ति माहौल त्योहार में सुरक्षा के लिहाजा पुलिसकर्मियों की तैनाती बहुत ही काम थी. वही बीडीओ तेजबहादुर सुमन ने गड़हनी बनास नदी पुल पर बैरिकेडिंग की खाना पूर्ति की. अंचलाधिकारी आपदा से निपटने के लिए तत्पर दिखे. घाट पर सुरक्षा के दृष्टिकोण से बिजली कर्मी भी नजर आए. गड़हनी राजघाट पर बजरंग दल के सौजन्य से भगवान सूर्य की प्रतिमा भी रखी गई थी. प्रमुख प्रतिनिधि निर्मल यादव ने गंदगी देख घाट के आसपास ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव व अबीर से रंगोली बनवाई. इस मौके पर युवा शक्ति मोर्चा ने पूरे गाँव गड़हनी में मिट्टी के दिये जलाए.

गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट