तो….”Human bomb” के लिए….जुटेगी भीड़ !

आज ‘आरा’ में “ह्यूमन बम” को देखने जुटेगी सैकड़ो की आवाम


आरा 16 सितंबर. Human bomb का नाम सुनते ही मन में आतंकियों की एक छवि बनती है जो आए दिन देश में कई घटनाओं को अंजाम देते हैं. घबराइए नहीं आरा में कोई Human bomb नहीं आया बल्कि यह एक फिल्म का नाम है जिसकी स्क्रीनिंग भोजपुर वासियों के लिए नि:शुल्क किया जा रहा है. दरअसल स्क्रीनिंग कई मामलों में खास है क्योंकि पहली बार किसी शॉर्ट फिल्म की स्क्रीनिंग बड़े पर्दे पर आरा जैसे शहर में की जा रही है. बताते चलें की यह शार्ट फिल्म amba (अश्लीलता मुक्त भोजपुरी एसोसिएशन) द्वारा बनाई गई है जिसकी पटकथा व निर्देशन बॉलीवुड अभिनेता सत्यकाम आनंद की है.




सत्यकाम की यह पहली निर्देशित फिल्म है फिल्म संवेदनशील मुद्दे पर बनी हुई है जो बताती है की धर्म ग्रंथों को पहचानना टेढ़ी खीर है लेकिन जो मां हमें बताती है धर्म ग्रंथों के बारे में, वही सच्ची होती है क्योंकि मां कभी भी गलत बता ही नहीं सकती. फिल्म में सत्यकाम खुद ही अभिनय करते हुए दिखेंगे, वही नवोदित चेहरों में आरा शहर के राहुल बदलानी और पटना रंगमंच की चर्चित युवा अभिनेत्री अदिति सिंह मुख्य किरदारों में नजर आएंगे. सहयोगी कलाकार में पटना के नीतीश,रौशन व वाराणसी की वीणा सहाय नजर आएंगी. फिल्म का फिल्मांकन व एडिटिंग पटना के फेमस सिनेमाटोग्राफर अभिनव झा ने किया है. फिल्म का बैकग्राउंड संगीत आशीष मोहंती ने दिया है वही डबिंग विष्णु शंकर बेलु ने किया है. फिल्म का DI शीनू मोहंती ने किया है जबकि इस फ़िल्म के एसोसिएट डायरेक्टर आरा के चर्चित युवा रंगकर्मी और निर्देशक ओ. पी. पांडे है. फ़िल्म को प्रोड्यूस किया प्रदीप बदलानी ने.

अंबा के लिए भावुक पल


अश्लीलता के विरुद्ध लड़ाई लड़ने वाली अश्लीलता मुक्त भोजपुरी एसोसिएशन के लिए आज का दिन खास इसलिए है क्योंकि यह भावुकता भरा पल होगा, जब अंबा के सदस्य, उनसे जुड़े फ्रेंड्स और फैंस अंबा की फिल्म को देखने के लिए पहली बार सिनेमाघरों में पहुंचेंगे. बताते चलें अंबा ने अपनी यात्रा की शुरुआत आरा से ही की थी. 2014 से शुरू हुआ यह सफर अब तक देश-विदेश तक अंबा के फॉलोअर्स के रूप में पहुंच चुका है. अंबा ने इसी कारण भोजपुर वासियों के लिए आरा के सिनेमाघर में यह स्क्रीनिंग रखी, ताकि अंबा को सपोर्ट करने वालों को अंबा यह सुखद सौगात दे सकें. इस माध्यम से अंबा पारिवारिक दर्शकों को भी सिनेमाघरों तक बुलाने की कोशिश कर रही है, जिसे भोजपुरी के फ़ूहड़ निर्माताओं और कलाकारों ने उन्हें घर में सिमटने पर मजबूर कर दिया है. अंबा की Human bomb का हिंदी में प्रस्तुतीकरण कहानी के परिवेश की मांग है. इसके साथ ही दुनिया को यह भी बताना है कि अंबा टीम, मेकिंग में भाषा से परे है.

बैनर पोस्टर और पंपलेट से पटा शहर


amba की बहुप्रतीक्षित फिल्म Human bomb के पोस्टरों,बैनर और पंपलेट से शहर पट चुका है. सोशल मीडिया से लेकर हर जुबान तक सिर्फ एक ही चर्चा है, तो वह है – मोहन सिनेमा में होने वाले दोपहर 3:00 बजे से फिल्म की स्क्रीनिंग की. फिल्म पिछले साल जुलाई महीने में शूट की गई थी, जिसको तकनीकी रूप से बनाने में लगभग 1 साल का समय लग गया. पिछले साल से अंबा के शुभचिंतकों के बीच इस फिल्म को देखने के लिए काफी कौतूहल था जो आज पूरा हो जाएगा सोशल मीडिया पर पिछले 1 हफ्ते से Human bomb ही ट्रेंड कर रहा है.

जिसे ना सिर्फ अंबा के सदस्य बल्कि अंबा के प्रशंसकों द्वारा समय-समय पर पोस्ट और लाइक किए जा रहा हैं अब देखना यह दिलचस्प होगा इतनी बेकरारी से फिल्म को देखने की लालसा फिल्म देखने के बाद दर्शकों में क्या रंग लाती है.

आरा से अपूर्वा व ऋतुराज की रिपोर्ट