ऐसे हुआ बीपीएससी पीटी परीक्षा का प्रश्न पत्र वायरल

आरा के कॉलेज में परीक्षा के 15 मिनट पहले पहुंची थी कार

कौन लोग थे कार में सवार किसी को नहीं पता




पुलिस वालों ने गाड़ी अन्दर कैसे जाने दी

सुबह 10:34 बजे स्कैन किया गया

11:35 बजे पटना के एक छात्र के वाट्सएप पर भेजा गया

पटना के एक कोचिंग से जुड़ा है छात्र

वहीँ से हुआ प्रश्न पत्र वायरल

परीक्षा के लिए सुपर जोनल मजिस्ट्रेट अचानक गए थे छुट्टी पर

दो अलग कमरों में चल रहा था पहले से एग्जाम

बीपीएससी की 67वीं पीटी के पेपर लीक मामले की जांच के लिए इओयू (आर्थिक अपराध इकाई) ने एसपी सुशील कुमार के नेतत्व में एसआइटी बनायी है. 14 सदस्यीय इस टीम में साइबर एक्सपर्ट से लेकर ट्रेंड डीएसपी व इंस्पेक्टर तक को शामिल किया गया है. इसके साथ ही एसआइटी ने जांच तेज कर दी है. सू्त्रों के अनुसार तकनीकी जांच में पता चला है कि रविवार को पीटी के पेपर का सबसे पहले था.

अलग कमरे में बैठ कर परीक्षा देते अभ्यर्थी

यह पेपर सबसे पहले 11:35 बजे पटना के एक कोचिंग संस्थान के एक छात्र के वाट्सएप पर पहुंचा और फिर वायरल हो गया. सू्त्रों के अनुसार एसआइटी ने उस कोचिंग संस्थान के संचालक से संपर्क कर उस छात्र को बुलाया और पूछताछ की. एसआइटी के सूत्रों का दावा है कि पूरे मामले का खुलासा जल्द ही कर दिया जायेगा. इधर इओयू ने इस संबंध में अज्ञात के खिलाफ मामला (20/22) दर्ज किया है. एसआइटी ने आरा के अलावा करीब दो दर्जन लोगों को इओयू कार्यालय बुलाकर भी पूछताछ की गयी.

जांच के लिए पटना से आरा पहुंचे अधिकारी

एसआइटी ने आरा पहुंच कर जांच शुरू कर दी. इस दौरान टीम ने वीर कुंवर सिंह कॉलेज के प्राचार्य योगेंद्र सिंह, परीक्षा नियंत्रक सुशील कुमार सिंह, दो प्रोफेसर, स्टैटिक मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात बड़हरा बीडीओ, दारोगा संतोष कुमार व केंद्र के गेट पर तैनात सात पुलिसकर्मियों से पूछताछ की. बाद में इन्हें पटना बुलाकर भी पूछताछ की गयी. परीक्षा के दौरान वहां बने कंट्रोल रूम को सील कर दिया गया है. परीक्षा के लिए सुपर जोनल मजिस्ट्रेट डीटीओ को बनाया गया था. लेकिन, उनके अचानक अवकाश पर जाने से यह प्रभार जगदीशपुर नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी विनय कुमार को दिया गया था, उनसे भी पूछताछ की जायेगी.

दूसरे कमरे में चल रहे एग्जाम को लेकर परीक्षार्थियों ने किया हंगामा

सूत्रों के अनुसार केंद्र पर पेपर पहुंचने के समय को लेकर केंद्राधीक्षक और स्टैटिक मजिस्ट्रेट के बयानों में विरोधाभास पाया गया है. आरा के वीर कुंवर सिंह कॉलेज परीक्षा केंद्र में परीक्षा शुरू होने के 15 मिनट पहले एक कार घुसी थी. उसमें कौन लोग सवार थे, इसको लेकर काफी चर्चा हो रही है. ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने कार को प्रवेश कैसे दिया, इसकी भी जांच हो रही है.

वीर कुंवर सिंह कॉलेज स्थित परीक्षा केन्द्र पर मजिस्ट्रेट के तौर पर तैनात बड़हरा प्रखंड के बीडीओ जयवर्धन गुप्ता को BPSC पेपर लीक कांड में गिरफ्तार किया गया।

PNCDESK