क्या बिहार में रंगदारी प्रथा फिर से शुरू हो रही है ?

गोलीबारी से डरे दवा कारोबारियों ने किया सड़क जाम पटना एम्स के सामने दवा दुकानों से रंगदारी की मांगडीएसपी के सुरक्षा अश्वासन के बाद हटा जामपुलिस ने की व्यापारियों के साथ बैठकपटना (ब्यूरो रिपोर्ट) । फुलवारी शरीफ थानान्तर्गत पटना AIIMS के सामने तीन दवा दुकानों से बाईक सवार बदमाशों द्वारा पांच लाख की रंगदारी मांगने को लेकर की गई गोलीबारी से डरे दवा कारोबारियों ने शुक्रवार को एम्स के आस पास की सभी दुकानों को बंद करके करीब चार घंटे तक नेशनल हाइवे जाम कर आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन किया. दवा कारोबारियों के जाम के कारण सैंकड़ो वाहनो की कतार लग गयी. इस जाम में एम्स के डायरेक्टर की गाड़ी भी काफी देर तक फंसी रही. रंगदारी किंग्स गैंग के द्वारा मांगी गई. किंग्स गैंग ने दुकान के सामने ताबड़तोड़ फायरिंग (Firing) भी की. उसके बाद दुकान के अंदर पर्चा फेंक कर चलते बने. पर्चे में साफ तौर पर लिखा था कि तीनों दुकानदारों को पांच लाख की रंगदारी देनी होगी. रंगदारों द्वारा गोलीबारी के विरोध में यहां के दवा दुकानों को बंद कर प्रदर्शन कर रहे कारोबारियों ने प्रशासन से जान माल की सुरक्षा की मांग कर रहे थे. मौके पर पहुंचे थानेदार रफिकुर रहमान ने जाम कर रहे लोगो को समझाया. लेकिन लोग मानने को तैयार नही हुए. इसके बाद मौके पर पहुंचे डीएसपी संजय कुमार ने दवा कारोबारियों को सुरक्षा का पूरा आश्वासन दिया. डीएसपी के आश्वासन के बाद लोग नेशनल हाइवे से हटे और सड़क पर आवागमन सुचारू हो पाया. डीएसपी ने दवा कारोबारियों के साथ बैठक भी

Read more

पुलिस ने बिना सुपरविजन के ही कर दिया चार्जशीट !

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पत्रकार नगर थाना इलाके में रहने बाले सब्जी विक्रेता के नवालीग बेटा को जेल भेजने के मामले में निष्पक्ष जाँच करने का आदेश जोनल आई.जी.नैयर हशनैन खान को जाँच का आदेश दिया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश पर शुक्रवार को पटना के जोनल आईजी नैयर हसनैन खान, डीआईजी राजेश कुमार, एसएसपी मनु महाराज समेत कई अधिकारी सब्जी विक्रेता के घर पहुँचे और मामले की जाँच शुरू की. जोनल आई.जी.ने बताया कि मामले की तह तक पहुंचने के बाद ही पता चल सकता है कि मामला क्या है. हमलोग अनुसंधान कर रहे हैं अगर पुलिस दोषी होगी तो पुलिस पर भी कारवाई होगी. बता दें कि पुलिस को रंगदारी में सब्जी नहीं देने पर नाबालिग सब्जी बिक्रेता पंकज कुमार को जेल भेजने का आरोप झेल रही पटना पुलिस की बदनामी जहां पुरे देश में हो रही है. अभी तक की जांच -पड़ताल में पुलिस की कार्रवाई सवालों के घेरे में है. जानकारी के मुताबिक नाबालिग सब्जी बिक्रेता पंकज कुमार पर दर्ज अगमकुआ थाना कांड संख्या 191 /18 एवं 192 /18 में बिना सुपरविजन रिपोर्ट के ही अनुसंधानकर्ता ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया जबकि चार्जशीट दाखिल करने से पूर्व अंतिम प्रतिवेदन की अनुमति पुलिस अधीक्षक से प्राप्त करना आवश्यक एवं बाध्यकारी है. ऐसी स्थिति में केस का अनुसंधानकर्ता ने अपने कर्तव्य के साथ बड़ा लापरवाही की है. और गलत प्रचलन के लिए अनुसंधानकर्ता प्रथम दृष्टी में पूर्ण रूप से दोषी हैं और केस के अनुसंधानकर्ता पर गाज गिरनी तय है. मामला प्रकाश आने के बाद

Read more

48 घंटे के अन्दर अपराधी हत्थे चढ़ा

पटना । बिहार सरकार के मंत्री खुर्शीद अहमद से शनिवार को मांगे गए रंगदारी मामले में पटना पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए 48 घंटे के अन्दर कथित रंगदार को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया. ज्ञातव्य है बिहार के गन्ना व अल्पसंख्यक विकास मंत्री खुर्शीद अहमद से शनिवार 30 दिसम्बर 2017 को पहले SMS, फिर फोन करके 10 लाख रूपये की रंगदारी मांगी गई थी. साथ ही पैसे न देने पर उन्हें जान से मार देने की धमकी भी दी गई थी. इसी घटना पर कोतवाली थाना में कांड संख्या 746 / 17 दर्ज कराई गई थी. अनुसन्धान के क्रम में घटना में प्रयुक्त मोबाइल संख्या  9097 615393 के धारक जूली देवी, पति – सोन साव, थाना – झाझा जिला – जमुई से पूछताछ के उपरांत उसकी निशानदेही पर मोबाइल धारक के तथाकथित प्रेमी बबलू राम, जो दोनों पाँव से दिव्यांग है, को गिरफ्तार किया गया. उसके पास से मोबाइल एवं रंगदारी में मांगी गई 10 लाख की रकम भेजने हेतु दिए गए बैंक खाता संख्या 582110110008163 से सम्बंधित कागजात व शराब बरामद की गई. इसके लिए भोकपुरा नगर थाना में एक प्राथमिकी भी दर्ज कर दी गई है. इस सम्बन्ध में पूर्व में प्रेषित समाचार पढ़ने हेतू क्लिक करें –  https://goo.gl/tA37Ka (ब्यूरो रिपोर्ट)

Read more

जेल से मांग रहे थे 25 लाख की रंगदारी

फोन पर रंगदारी की मांग की शिकायतों से परेशान पटना पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. 9 अक्टूबर को पटना सिटी के महराजगंज में किराना व्यवसायी संजय कुमार से फोन पर एक अपराधी ने 25 लाख की रंगदारी मांगी थी. पीड़ित संजय ने आलमगंज थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी. इसके बाद SSP मनु महाराज ने पटना सिटी SDPO और आलमगंज थानेदार को इस मामले में शामिल अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी के आदेश दिए थे. इसके बाद टेक्निकल और साइंटिफिक इनवेस्टिगेशन से पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए दावा किया है कि पटना के बेउर जेल में बंद रंजीत उर्फ मतिया और विवेक उर्फ विक्की उर्फ विक्की मोबाइल ने संजय कुमार से 25 लाख की रंगदारी मांगी है.

Read more