डॉ. डी.वाई.पाटिल कुछ तकनीकी शिक्षा संस्थानों की स्थापना करेंगे बिहार में

डॉ. डी. वाई. पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल में डॉ. पाटिल का भव्य स्वागतपुलवामा के शहीद संजय कुमार के पुत्र अमरनाथ को डी० वाई० पाटिल मेडिकल कालेज नवी मुंबई में निशुल्क नामांकन एवम् सम्पूर्ण पढाई – लिखाई एवम भोजनादि की नि:शुल्क व्यवस्थामिडियाकर्मियों के बच्चों के लिए डी० वाई० पाटिल संस्थाओ में नामांकन शुल्क सौ प्रतिशत मुफ्त होगा पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | मंगलवार दिनांक 6 अगस्त 2019 को डॉ. डी. वाई. पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल में डॉ. डी. वाई. पाटिल का भव्य स्वागत किया गया. ज्ञातव्य है कि यह विद्यालय उनकी स्वर्गीय पत्नी पुष्पलता पाटिल जी की अंतिम इच्छा के रूप में उन्हीं की स्मृति में बनाया गया है. अतः उन्होंने सर्वप्रथम उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी.कार्यक्रम का प्रारंभ डॉ. डी. वाई. पाटिल, विद्यालय के अध्यक्ष प्रेमरंजन सिंह, उपाध्यक्ष अमरेंद्र मोहन, निदेशक डॉ. सी. बी. सिंह तथा प्राचार्या राधिका के. ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया. कार्यक्रम का शुभारम्भ बच्चों द्वारा प्रस्तुत स्वागत-गान के साथ हुआ. महाराष्ट्र का प्रसिद्ध नृत्य ‘लावणी’ कार्यक्रम का आकर्षण केंद्र रहा. इसके अलावा ‘बूंद- बूंद, लहर- लहर…. ‘, ‘तू है, तेरा यह संसार…….. जैसे गीतों पर बच्चों ने मनोहारी नृत्य प्रस्तुत किए.बच्चों के प्रदर्शन तथा विद्यालय के अनुशासन की डॉ. पाटिल ने मुक्त कंठ से प्रशंसा की. उन्होंने विद्यालय की गुणवत्ता एवं उपलब्धियों पर प्रसन्नता जाहिर की. बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि वे कठिन परिस्थितियों में भी सदा जीवन -पथ पर अग्रसर होते रहें. कठिनाइयाँ मनुष्य को मजबूत बनाती हैं, उन से डरे नहीं, डट

Read more

बोर्ड परीक्षा में 86% या अधिक अंक लाने वाली छात्राओं को सीधे निःशुल्क प्रवेश

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | राज्य की मेधावी छात्राओं में प्रतिस्पर्धा जगाने एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए डॉ0 डी वाई पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल ने कक्षा 11 में प्रवेश लेने वाली छात्राओं को निःशुल्क प्रवेश देने की घोषणा की है. इस तरह की घोषणा से उन छात्राओं को आगे पढ़ने व बढ़ने का मौका मिलेगा जो सपने तो देखती है, मगर आर्थिक तंगी के कारण उन सपनों को साकार नही कर पाती. उन्हें अपने सपनों को भुल कर मायूसी में जीना पड़ता है और किसी के आगे हाथ फैलाना पड़ता है. जी हाँ, राजधानी पटना स्थित बिहार के पूर्व राज्यपाल डॉ0 डी.वाई.पाटिल के संरक्षण में चल रहे डॉ0डी वाई पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल ने कक्षा 11 में प्रवेश लेने वाली छात्राओं को निःशुल्क प्रवेश देने की घोषणा की है. विद्यालय के निदेशक डॉ0 सी0 बी सिंह और प्राचार्या श्रीमती राधिका के ने संयुक्त रूप से बताया कि स्व0 पुष्पलता पाटिल की इच्छा थी कि छात्राओं के लिए कुछ अगल करें, जो गरीबी के कारण पढ़ नही पाती. उनके नाम से संचालित विद्यालय में यह सुविधा संस्थापिका के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है. उन्होंने बताया कि उनके मन में नारी शिक्षा और उनके सशक्तिकरण की प्रबल लालसा थी. उन्होंने बताया कि दशम की बोर्ड परीक्षा में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले सभी छात्रों के विद्यालय में निःशुल्क प्रवेश की सुविधा पूर्व से ही प्राप्त है. ये सभी सुविधाएँ 31 मई तक प्राप्त की जा सकेंगी. बालिकाओं को कुछ अन्य सुविधाएं मसलन पुस्तके, यूनिफार्म, वार्षिक शुल्क में छूट देने का

Read more

डॉ. डी. वाई. पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल का एनुअल स्पोर्ट्स मीट सम्पन्न

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | शनिवार 2 फरवरी को डॉक्टर डी. वाई. पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल का वार्षिक क्रीड़ोत्सव पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स, पटना में आयोजित हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुंदन. कृष्णन, ए.डी. जी. तथा जय कुमार सिंह, उद्योग मंत्री , बिहार सरकार रहे. अजय कुमार सिंह, जनरल सेक्रेटरी, जेडीयू विशिष्ट अतिथि रहे. अतिथियों का स्वागत विद्यालय के निदेशक डॉ. सी. बी. सिंह ने पुष्पगुच्छ देकर किया. बच्चों द्वारा ‘हे परमेश्वर….’ स्वागत – गान प्रस्तुत किया गया. कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि कुंदन कृष्णन, जय कुमार सिंह, सचिव प्रेम रंजन सिंह, निदेशक डॉ. सी. बी. सिंह एवं प्राचार्या श्रीमती राधिका के. ने संयुक्त रूप से मशाल प्रज्वलित कर किया. बच्चों द्वारा प्रस्तुत किया गया’ मार्च पास्ट’ और ‘शपथ ग्रहण समारोह’ अत्यंत आकर्षक रहे. मुख्य अतिथि कुंदन कृष्णन ने बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि यह बच्चे अलग- अलग खेलों में भाग लेकर अपनी प्रतिभा का परिचय दे रहे हैं. अध्ययन के साथ- साथ खेलों का भी हमारे जीवन में महत्त्वपूर्ण स्थान है. आधुनिक परिवेश में आवश्यकता इस बात की है कि बच्चों का सर्वांगीण विकास हो. अध्ययन के अतिरिक्त वे खेलकूद में भी भाग लें. ‘अनेकता में एकता’ इस भारतीय – संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर समारोह का शुभारंभ किया. कक्षा प्रथम एवं द्वितीय के छात्रों द्वारा सामूहिक व्यायाम (ड्रिल) का प्रदर्शन किया गया, जिससे उनके अनुशासन की झलक मिली. कक्षा छठीं से आठवीं के छात्र-छात्राओं के लिए 100 मीटर एवं 200 मीटर दौड़, रिले दौड़, कक्षा नौंवी से ग्यारहवीं के लिए

Read more