‘जेटली विपरीत परिस्थितियों में भी विचलित नहीं होते थे’

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व०अरुण जेटली के जन्मदिवस पर शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कंकड़बाग में नवस्थापित आदमकद प्रतिमा का लोकार्पण किया. इस अवसर पर नीतीश ने स्व०अरुण जेटली की पत्नी श्रीमती संगीता जेटली को उनके स्वर्गीय पट्टी की छोटी मूर्ति मेमेंटों के रूप में भेंट कर सम्मानित किया. मुख्यमंत्री ने श्रीमती संगीता जेटली एवं उनके परिवार के सदस्य गणों को अरुण जेटली की मूर्ति के लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उनका आभार प्रकट किया. पटना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश संजय करोल भी परिवार सहित इस अवसर पर उपस्थित थे. मुख्यमंत्री ने मुख्य न्यायाधीश संजय करोल को स्व० अरुण जेटली की छोटी मूर्ति मोमेंटो के रूप में भेंट की. इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि स्व०जेटली विपरीत परिस्थितियों में भी विचलित नहीं होते थे तथा वे हमेशा उत्साहित होकर अपनी बात रखते थे. अरुण जेटली विलक्षण प्रतिभा के धनी थे. उनके मन में जो भी तत्काल विचार आते थे उस पर भी बोलते थे वह कुछ भी छुपाते नहीं थे पूरी स्पष्टता के साथ हमेशा खुलकर बातें करते थे. मैं बिहार के रहने वाले नहीं थे लेकिन उनका बिहार से विशेष लगाव था. बिहारियों के प्रति उनके मन में आदर का भाव था. वह सब की बातों को गौर से सुनते थे और उस पर सलाह देते थे. उन्होंने भारत सरकार में कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों की जिम्मेदारियों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया. वे एक उत्कृष्ट न्यायविद भी थे. उन्होंने उच्च राजनीतिक मूल्यों एवं पारदर्शी की बदौलत सार्वजनिक जीवन में कुछ शिखर को प्राप्त

Read more

नहीं रहे जेटली | नरेंद्र मोदी, नीतीश, राशिद, सुशील मोदी ने व्यक्त की संवेदना

पटना / नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं देश के पूर्व वित्त मंत्री 66 वर्षीय अरुण जेटली का शनिवार को निधन हो गया है. उन्होंने दिल्ली के एम्स में दोपहर 12.07 बजे अंतिम सांस ली. वह लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे थे तथा 9 अगस्त से ही दिल्ली एम्स में भर्ती थे. उन्हें दो सप्ताह पहले सांस लेने में तकलीफ होने के कारण एम्स में भर्ती कराया गया था. एम्स में अनुभवी डॉक्टरों की टीम की देखरेख में उनका इलाज किया जा रहा था. उनका अंतिम संस्कार रविवार को 2 बजे दिल्ली के निगम बोध घाट पर किया जाएगा. दिल्ली के एम्स की विज्ञप्ति के अनुसार उनका निधन दोपहर 12 बजकर 07 मिनट पर हुआ. जेटली के निधन की खबर सुनने के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने अपने हैदराबाद दौरे को बीच में ही खत्म कर दिल्ली लौट गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हुए दुखीजेटली का निधन ऐसे वक्त में हुआ है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश दौरे पर अभी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में है. प्रधानमंत्री ने यूएई से ही जेटली की पत्नी संगीता और बेटे रोहन से बात की और उन्हें सांत्वना दी. मोदी ने ट्वीट में लिखा कि “जेटली एक करिश्माई व्यक्ति थे जिनका समाज के सभी वर्गों में बहुत सम्मान था। अपने लंबे राजनीतिक करियर में उन्होंने कई मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली थी”. पीएम मोदी 26 अगस्त को देश लौटेंगे. बताते चले कि अरुण जेटली के परिवार की ओर से किए गए आग्रह के बाद पीएम मोदी के विदेश दौरे

Read more

नमामि गंगे की सभी वर्तमान परियोजनाओं को 13 महीने के भीतर पूरा कर लिया जाएगा : नितिन गडकरी

नई दिल्ली / पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | केन्द्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण, सड़क परिवहन और राजमार्ग तथा नौवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आश्वासन दिया है कि नमामि गंगे की सभी वर्तमान परियोजनाओं को मार्च, 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा. नई दिल्ली में बुधवार 27 फरवरी को स्वच्छ गंगा आंदोलन पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्वच्छ और अविरल गंगा जल के प्रधानमंत्री के स्वप्न को पूरा करने के लिए वह कठोर परिश्रम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्षों में गंगा कार्यों के लिए 27,000 करोड़ रुपयों की मंजूरी दी जा चुकी है, जबकि पिछले 50 वर्षों में केवल 4,000 करोड़ रुपये दिये गये. अब तक 276 परियोजनाओं को मंजूरी दी जा चुकी हैं, जिनमें से 82 पूरी हो चुकी हैं. गंगा की 40 सहायक नदियों और प्रमुख नालों पर काम शुरू हो चुका है, जो नदी की पूरी सफाई के लिए आवश्यक होगा. उन्होंने कहा कि 145 में से 70 घाट पूरे हो चुके है और 53 मुक्ति धामों पर कार्य पूरा होने वाला है. समारोह की अध्यक्षता करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि स्वच्छ गंगा मिशन हमेशा से सरकार की सर्वोच्च प्रा‍थमिकता में रहा है. इसके परिणामस्वरूप सफल कुंभ देखने को मिला, जहां लोगों ने गंगा जल के स्वच्छ प्रवाह के लिए सरकार को बधाई दी. उन्होंने कहा कि गंगा हमारे इतिहास, संस्कृति और सभ्य‍ता का प्रतीक है और यह हजारों मछुआरों, नाविकों और इसके तट पर रहने वाले लोगों की जीवन रेखा है.

Read more