सुझावों पर निर्भर स्कूलों के संचालन का निर्णय

शिक्षा विभाग ने स्कूल संचालन के लिए शिक्षको समेत छात्रों व अभिभावकों से मांगा सुझाव

छात्रों,अभिभावकों, शिक्षकों,विद्यालय प्रबंधको व पदाधिकारियों से प्राप्त सुझावों के आधार पर तय होगा शिक्षण संस्थानों का भविष्य




पटना, 5 जून. बिहार सरकार के शिक्षा विभाग के अपर सचिव सह निदेशक(मा. शिक्षा) गिरिवर दयाल सिंह ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियो को पत्र जारी किया है. यह पत्र covid-19 संक्रमण के बाद लॉक डाउन हटाने के फेज-II के तहत शिक्षण संस्थानों को पुनः खोलने के लिए जारी किया गया है. 3 जून 2020 को जारी किया गया यह पत्रांक-423/नि. मा. भारत सरकार(गृह मंत्रालय) द्वारा जारी किए 30 मई 2020 के नियमावली के साथ भेजा गया है. सरकार ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियो से उनके जिले में स्थित सभी विद्यालयों से विद्यालय खोलने के लिए प्रस्ताव व सुझाव माँगा है. यह सुझाव शिक्षण संस्थानों में अध्ययन करने वाले छात्र-छात्राओं, अभिभावकों, शिक्षक और विद्यालय प्रबंधको से मांगा गया है. सुझाव covid-19 के संक्रमण से प्राभावित स्थिति के बाद स्कूल,कोचिंग व अन्य अध्ययन वाले स्थलों को खोलने व वहां पठन-पाठन के व्यवस्था को लेकर मांगा गया है.
परामर्श 9 बिन्दुओ पर मांगा गया है जिसमें
विद्यालय खोलने की तिथि, क्लास में नामांकन की तिथि, विद्यालय संचालन की अवधि, कक्षा में बच्चों की अधिकतम संख्या, कक्षा अवधि, कक्षा में बैठने की व्यवस्था,प्रार्थना सत्र का संचालन, विद्यालय एवं कक्षाओं में सोशल डिस्टेंस कैसे बनाया जाए जैसे मुदो पर छात्रों,अभिभावकों, शिक्षकों, विद्यालय प्रबंधको व कोचिंग संचालकों सुझाव मांगे गए हैं. इन सुझावों को जिला शिक्षा पदाधिकारी तक 6 जून तक मेल के जरिये भेजना है और 7 जून तक माध्यमिक शिक्षा विभाग ने अपने ईमेल आईडी पर सभी प्राप्त सुझावों को मांगा है. सभी जगहो से प्राप्त सुझावों के बाद ही स्कूलों के संचालन का रास्ता साफ हो पायेगा.

पटना नाउ के लिए ओ पी पांडेय की रिपोर्ट