फुलवारी में महागठबंधन और एनडीए उम्मीदवार के के बीच कांटे की टक्कर

गोपाल रविदास


जदयू के अरुण मांझी की तीर और माले के गोपाल रविदास के तीन तारा के बीच चुनावी अखाड़ा
अतिक्रमण, हाइवे सड़के जाम और पुनपुन में जल जमाव मुख्य मुद्दे

अरूण मांझी

फुलवारी शरीफ।। बिहार विधान सभा चुनाव 2020 के चुनावी महासमर में फुलवारी (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में जातीय समीकरण का बोलबाला हावी रहा है. फुलवारी (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में महागठबंधन और एनडीए उम्मीदवार के के बीच कांटे की टक्कर है. 26 प्रत्याशियों के मैदान में होने के बावजूद जदयू के अरुण मांझी की तीर और माले के गोपाल रविदास के तीन तारा के बीच मुख्य चुनावी अखाड़ा होने जा रहा है. तीर और तीन तारा के अखाड़े में जन अधिकारी पार्टी के उम्मीदवार सत्त्येंद्र पासवान अपनी कैंची चलाकर दोनों ही प्रमुख गठबंधन के मतदताओं को अपने पाले में करने में जी जान से कूद पड़े हैं. वैसे इस बार यहाँ से फुलवारी प्रखंड के दो दो पूर्व प्रमुख राधे रमण पासवान और कमलेश कान्त चौधरी भी मैदान में हैं. पटना के अनीसाबाद से औरंगाबाद के हरिहरगंज तक जाने वाली एनएच 98 सडक और अनीसाबाद बाइपास सहित सिपारा से पुनपुन मसौढ़ी जहानाबाद और गया तक जाने वाली हाईवे किनारे अतिक्रमण के चलते रोजाना हाईवे पर लगने वाले भीषण जाम की गंभीर समस्या , पुनपुन बाजार और फुलवारी के कई इलाके में जल जमाव एवं फुलवारी खगौल मुख्य मार्ग किनारे के मुख्य ड्रेनेज नाला का कई वर्षो बाद भी पूरा नहींं होना मुख्य मुद्दे हैं.




पटना से अजीत