बक्सर में पत्रकार पर दर्ज FIR बदले की कार्रवाई: WJAI

FIR वापस लेने के लिए WJAI ने की मंत्री से बात


पटना, 30 मई(ओ.पी. पांडेय).भाजपा प्रदेश कार्य समिति के  सदस्य परशुराम चतुर्वेदी द्वारा बक्सर में ईटीवी भारत के पत्रकार उमेश पांडेय के पर दर्ज किए गए FIR पर वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (WJAI) ने संज्ञान लिया है. पत्रकार पर परशुराम चतुर्वेदी द्वारा किये गए इस FIR को WJAI ने बदले की भावना से प्रेरित बताया है.




WJAI के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद कौशल, महासचिव डॉ. अमित रंजन और कोषाध्यक्ष ओम प्रकाश अश्क ने एक संयुक्त बयान जारी कर पत्रकार पर लगाए गए आरोपों को भाजपा नेता द्वारा बदले की कार्रवाई बताया है. उन्होंने कहा कि ईटीवी भारत के पत्रकार ने एक केंद्रीय मंत्री के खिलाफ खबरें लिखी थीं लेकिन मंत्री की ओर से न तो उस सम्बन्ध में कुछ कह गया और न ही उस खबर का खंडन ही किया गया. बल्कि कई गंभीर आरोपों के साथ पत्रकार पर ही FIR दर्ज करा दिया गया.
WJAI ने कहा है कि अगर खबरें तथ्यहीन या गलत थीं तो पहले मंत्री महोदय काे अपना पक्ष रखना चाहिए था.  अगर उनकी बातों को वह पत्रकार अपने पोर्टल या खबरों में जगह नहीं देते तो उन्हें लीगल नोटिस भेजा जाना चाहिए था. लेकिन ऐसा न कर सीधे पत्रकार पर केस दर्ज कराना यह दर्शाता है कि भाजपा नेता मीडिया की आवाज को दफन करना चाहते हैं. संगठन के अध्यक्ष आनंद कौशल ने मंत्री से हस्तक्षेप करते हुए पत्रकार पर दर्ज FIR को वापस लेने और मामले का निपटारा करने का आग्रह किया है. साथ ही यह भी कहा है कि उन्हें खबरों पर आपत्ति है तो वे अपना पक्ष संबंधित पत्रकार को भेजें.

बताते चलें कि केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने भी इसी साल फरवरी में एक नियम पारित किया है कि अगर किसी पोर्टल की खबरों पर आपत्ति है तो इसकी शिकायत पहले ग्रीवांस अधिकारी से की जा सकती न कि संबंधित रिपोर्टर पर मुकदमा दायर कर दिया जाए.

ओ पी पांडे