कई स्कूलों का मर्जर, कई स्कूल अब इतिहास के पन्नों में होंगे दर्ज

इधर सीएम शिक्षा विभाग की समीक्षा मीटिंग ले रहे थे, दूसरी तरफ उसपर अमल भी शुरू हो गया. पटना में कई सरकारी स्कूल इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गए. जी हां, आपने सही पढ़ा. आए दिन आपको ये सुननो को मिलता था. एक ही भवन में चल रहे हैं कई स्कूल या फिर कई स्कूल बिना भवन के ही झोपड़ी या खुले में चल रहे हैं. अक्सर ये भी देखने को मिलता था कि भले ही स्कूल में बच्चे हों या नहीं टीचर भरे पड़े हैं. या फिर स्कूल में बच्चे तो बड़ी संख्या में हैं लेकिन शिक्षक काफी कम हैं.




अब ये समस्याएं बीते दिनों की बात हो जाएंगी. कम से कम राजधानी पटना में तो ये शुरुआत हो गई है. गुरुवार को पटना डीएम संजय अग्रवाल ने पटना शहर के ऐसे स्कूलों को मर्ज कर 46 स्कूल करने की घोषणा की.

जरा गौर करिए इन स्कूलों पर-

  • पटना का रमना मिडिल स्कूल परिसर में कन्या मध्य विद्यालय, गुलजारबाग एवं
    प्रा वि बड़ी पटन देवी भी संचालित हैं.
  • प्राथमिक विद्यालय केदारनाथ मठ के परिसर  में कन्या प्राथमिक विद्यालय, सादिकपुर भी संचालित है.
  • प्राथमिक विद्यालय केदारनाथ मठ में 85 छात्रों पर 4 शिक्षक तथा कन्या प्रा.वि. साकिदपुर में 97 छात्राओं पर 3 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • प्रा. वि. नयागांव में 85 विद्यार्थियों पर 3 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित प्रा. वि. चैलीटांड़ स्लम में 80 छात्रों पर 3 शिक्षक तथा प्रा.वि. मीना बाजार जल्ला में 85 छात्रों पर 3 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • उर्दु मध्य विद्यालय, दर्जीटोला में 110 नामांकित छात्र-छात्राओं  पर कुल 7 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित उर्दू कन्या मध्य विद्यालय दर्जीटोला में 98 छात्राओं पर 6 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • उर्दु मध्य विद्यालय, बाकरगंज बजाजा  में 98 नामांकित छात्र-छात्राओं पर कुल 7 शिक्षक हैं.
  • मुरादपुर मध्य विद्यालय, बिहारी साव लेन में 205 छात्र-छात्राओं पर 8 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित कन्या मध्य विद्यालय, बिहारीसाव लेन में 67 छात्राओं पर 7 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • प्राथमिक विद्यालय चकारम में 83 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 4 शिक्षक हैं जबकि इसी के परिसर में प्राथमिक विद्यालय, उत्तरी मंदिरी भी संचालित है, जिसमें मात्र 88 छात्र-छात्रायें नामांकित हैं.
  • प्राथमिक विद्यालय, दाउदबिगहा में 118 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 4 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित प्रा वि  जकिउलहक में 56 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 3 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • प्राथमिक विद्यालय, नेहरू चिल्ड्रेन, कबीर मठ में 71 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 3 शिक्षक जबकि इसी परिसर में संचालित प्राथमिक विद्यालय सोनारटोली में 86 छात्र-छात्राओं के लिए 3 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • प्रा वि अम्बेदकर काॅलनी, हनुमान नगर में नामांकित 64 छात्र-छात्राओं पर 3 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित प्रा वि अम्बेदकर नगर झुग्गी-झोपड़ी में 69 छात्र-छात्राओं पर 3 शिक्षक पोस्टेड हैं.
  • प्रा.वि. नन्द नगर, सैदपुर में 78 छात्र-छात्राओं पर 4 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित अर्ल हिन्दू गर्ल्स प्रा. वि. कुनकुन सिंह लेन में 112 छात्र-छात्राओं पर 4 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • श्रमिक म वि यारपुर में 250 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 9 शिक्षक हैं पदस्थापित जबकि इसी परिसर में संचालित न्यू ऐरा चिल्ड्रेन मध्य विद्यालय, मीठापुर में 246 नामांकित छात्र-छात्राओं के लिए 10 शिक्षक पदस्थापित हैं.
  • बालक मध्य विद्यालय, करबिगहिया में 73 नामांकित छात्र-छात्राओं पर 5 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित प्रा वि  करबिगहिया, झुग्गी-झोपड़ी में 60 छात्र-छात्राओं पर 3 शिक्षक  पदस्थापित हैं.
  • कन्या मध्य विद्यालय, सालिमपुर अहरा में 250 छात्र-छात्राओं पर 6 शिक्षक तथा इसी परिसर में संचालित एस एस मध्य विद्यालय, कदमकुआं में 140 छात्र-छात्राओं पर 7 शिक्षक पदस्थापित हैं.

ऐसे में स्कूलों को मर्ज करके एक कैंपस में एक स्कूल चलाया जाएगा. साथ ही शिक्षकों को रेशनलाइज किया जाएगा ताकि सभी स्कूलों में पर्याप्त संख्या में शिक्षक उपलब्ध हो सकें.

 

अबतक एक ही कैम्पस में 6 विद्यालय तक चल रहे थे. लेकिन सब एक विद्यालय ही होकर एक कैम्पस में संचालित होगा. यानि अब एक कैम्पस, एक विद्यालय एवं एक प्राचार्य होंगे. हमने शिक्षा विभाग के सभी पदाधिकारियों/प्राचार्यों के साथ बैठक कर विद्यालय संचालन नियमावली का पालन करने का निर्देश दिया है. विद्यालयों के एकीकरण होने से विद्यालयों में फर्जी नामांकन पर भी रोक लग जाएगी- संजय अग्रवाल, डीएम पटना