शहाबुद्दीन जेल से छूटे हैं, बहुत हायतौबा की जरूरत नहीं-पप्पू यादव

11 वर्षों के बाद शहाबुद्दीन आज जेल से छूटे हैं. बहुत हायतौबा की जरूरत नहीं है. उम्मीद की जानी चाहिए कि ‘सिवान के भय’ के माहौल को वे स्वयं समाप्त करेंगे. कोई निजी दुश्मन नहीं होगा,सबों के साथ मेल-जोल बढ़ेगा. आज मीडिया/सोशल मीडिया इतनी ताकतवर है कि वह सब कुछ खोल देती है. कुछ भी छुपाया नहीं जा सकता.बीजेपी को हो-हल्ला का कैसा अधिकार है वह तो खुद सूरजभान सिंह,सुनील पांडेय,रमा सिंह,बबलू सिंह,ब्रजभूषण शरण सिंह जैसों का बचाव करती है.ये बातें पप्पू यादव ने सोशल मीडिया में अपने पोस्ट में कही है.
पप्पू यादव ने लिखा है की हम सीधे तौर पर मानते हैं कि शहाबुद्दीन की इमेज को ‘डॉन’ के रुप में डेवलप करने का काम लालू प्रसाद ने किया. फिर राबड़ी देवी जी के राज में प्रतापपुर में पुलिस के हाथों हत्या की साजिश भी रची गई. लालू जी,कभी भी शहाबुद्दीन को स्वतंत्र राजनेता के रुप में नहीं बढ़ते देखना चाहेंगे. खैर, नेता कौन,कौन नहीं, तय शहाबुद्दीन करेंगे. फिलवक्त,हम उम्मीद करते हैं कि लंबे अर्से से इंतजार कर रहे परिजनों के साथ अच्छे पल वे गुजारें और सबों का साथ लेकर प्रेम और सौहार्द की राह पर आगे बढ़ें.pappu