आधी रात के कौन हैं ये मसीहा, जो हरते हैं हाड़ कँपाती ठंड

यूनाइट हुए ‘क्षत्रियन’ करेंगे हर महीने सामाजिक कार्य

मकर-संक्रांति को फिर बांटेंगे कम्बल




आरा. अंधेरी रातों में सुनसान सड़कों पर… जी हां यह गाना तो आपने जरूर सुना होगा और इस गाने के साथ ही आपको शहंशाह की याद भी आयी होगी, जो आम लोगों की हिफाजत बदमाशों और लुटेरों से करता था. कुछ इसी अंदाज में पिछले दिनों आरा के युवाओं के एक झुंड देर रात शहर की सुनसान सड़कों पर हाड़ कपाने वाली इस पूस की रात में ठिठुरते,अपने आप में सिमटे हुए, बेचैन से पड़े, कहीं कोने में दुबके, गरीब और असहाय लोगों की मदद के लिए पहुंचे ‘क्षत्रियन.’

उन्होंने इन गरीबों और जरूरतमंदों को कंबल दे पूस की ठंड से उनका बचाव किया. मानवता के सेवा में निकले ‘क्षत्रियन’ इसी मसीहा से कम नहीं, जिन लोगों ने लगभग डेढ़ सौ लोगों का बचाव कंबल के जरिए ठंड से किया.

कौन हैं ये क्षत्रियन ?


हित नारायणन क्षत्रिय प्लस 2 विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र संघ का नाम ‘क्षत्रियन’ है जिन्होंने इस बैनर तले आरा शहर में देर रात गरीब और जरूरतमंद लोगों के बीच कम्बल वितरण का कार्यक्रम किया. बताते चलें कि पिछले बीते साल अक्टूबर में क्षत्रीय हाई स्कूल के ये पूर्ववर्ती छात्र पहली बार रियुनाइट हुए थे.

उसके बाद यह दूसरा मौका है जब सभी मिलकर गरीबों के लिए कुछ कर रहे हैं. पूस की हाड़ कँपाती ठंड के बीच इस मौके पर क्षत्रियन परिवार ने 150 जरूरतमंद लोगों को ऑन स्पॉट जाकर कम्बल बांटे. टीम ने शहर के रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, रैन बसेरा, गांगी पुल, धरहरा, सदर अस्पताल समेत फुटपाथ के किनारे सो रहे लोगों को कम्बल दिया. इससे पहले पूर्ववर्ती छात्र संघ की एक बैठक सह नववर्ष मिलन समारोह महाराणा प्रताप नगर में अवधेश कुमार पांडेय की अध्यक्षता में हुई. इस बैठक में पूर्ववर्ती छात्र संघ के बैनर तले हुए कार्यों की समीक्षा की गई साथ ही भविष्य में किये जाने वाले सामाजिक कार्यों को लेकर भी रूपरेखा तैयार की गई थी. क्षत्रियन परिवार के सभी सदस्यों ने हरेक महीने सामाजिक दायित्वों के तहत चैरिटी और जन सरोकार से जुड़े कार्यों को करने का निर्णय लिया. कार्यक्रम का आयोजन क्षत्रियन परिवार के संयोजक अमरेंद्र कुमार की देख-रेख में हुआ. इस अवसर पर कम्बल वितरण का अगला कार्यक्रम मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर करने का निर्णय लिया गया.

कार्यक्रम में डॉक्टर राम कृष्णा, सेवानिवृत्त डीएसपी अविनाश प्रसाद, अवर निर्वाची पदाधिकारी रक्सौल संतोष कुमार, प्रोफेसर चंदन कुमार, डॉक्टर रोहित तिवारी, इंजीनियर रंजन तिवारी, मनोरंजन कुमार, विनोद कुमार, पंकज किरण, विष्णु शंकर, पवन पांडेय, संदीप कुमार, निखिल कुमार, श्रीमन नारायण पांडे, सुनील पांडेय, अभिमन्यु सिंह राजपूत, हरि जी, अनिल कुमार, मनीष कुमार सिंह, मुकेश प्रकाश, पंकज कुमार, चंदन कुमार, ब्रजेन्द्र कुमार समेत क्षत्रियन क्षत्रियन परिवार के लगभग 50 सदस्य उपस्थित थे.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट