अली अनवर के बाद शरद यादव पर भी गिरी गाज

JDU के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद शरद यादव को जदयू ने राज्यसभा में पार्टी के नेता पद से हटा दिया है. उनकी जगह RCP सिंह को चुना गया है. शनिवार को जेडीयू के 7 राज्यसभा सांसद, 2 लोकसभा सांसद और राष्ट्रीय महासचिव संजय झा उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से मिले और उन्हें पार्टी की ओर से पत्र सौंपा.




बता दें कि बिहार में NDA के साथ सरकार बनाने के बाद शरद यादव ने इससे असहमति जताते हुए अपना स्टैंड साफ कर दिया. इसी को लेकर वे 10 अगस्त के बिहार के कई जिलों का दौरा कर रहे हैं और खुलेआम नीतीश कुमार के इस फैसले को धोखा बता रहे हैं. उनके इस स्टैंड को लेकर पार्टी के प्रवक्ताओं ने विरोध जताया था और कहा था कि उन्हें अपनी बात 19 अगस्त को पटना में होने वाली जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में रखनी चाहिए. सूत्रों के मुताबिक अगर शरद यादव जदयू की बैठक में शामिल नहीं हुए को उन्हें पार्टी से सस्पेंड किया जा सकता है.

जदयू नेताओं ने शरद यादव को राज्यसभा नेता के पद से हटाने को सही करार दिया है. जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि उनपर कार्रवाई करना जरूरी था. वे बेवजह पार्टी के खिलाफ अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं. नीरज कुमार ने कहा कि शरद यादव दरअसल लालू यादव की भाषा बोलने लगे थे और लालू यादव के भ्रष्टाचार में उनका साथ दे रहे थे. इसलिए उनपर हुई कार्रवाई बिल्कुल सही है.