सूचना और साइबर युद्ध के लिए सेनाएं तैयार रहें : उपराष्ट्रपति

सीमापार से आतंकवाद, नशीले पदार्थों की तस्करी, भारत विरोधी गतिविधियों को जो प्रोत्साहन और प्रश्रय हमारे कुछ पड़ोसियों द्वारा दिया जाता रहा है, देश को उससे निरापद करने के लिए हमारे सुरक्षा बलों का चौकन्ना रहना आवश्यक है।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

राजस्थान : देश के आसपास की भू- राजनैतिक स्थिति तेज़ी से अनिश्चितता में बदल रही है और हम अंदर और बाहर दोनों तरफ से प्रकट और छद्म खतरों का सामना कर रहे हैं.उन्होंने सशस्त्र बलों से आग्रह किया कि वे न केवल पारंपरिक युद्ध की तैयारी में अपनी बढ़त बनाए रखें बल्कि युद्ध के नए क्षेत्रों जैसे सूचना और साइबर क्षेत्र में भी अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए तैयार रहें, युद्ध क्षेत्र में रोबोटिक्स तथा ड्रोन के बढ़ते प्रयोग के लिए भी तैयारी करें।ये बातें उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने जैसलमेर में कही. जैसलमेर में भारतीय सेना के अधिकारियों और जवानों से बातचीत करते हुए, उपराष्ट्रपति ने शांति को विकास के लिए आवश्यक शर्त बताया और कहा कि हमारी सेनाओं पर देश की सीमाओं पर और देश के अंदर भी, शांति और स्थिरता बनाए रखने की महती जिम्मेदारी है.भारतीय सेना के शौर्य का अभिनंदन करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि देश की संप्रभुता को चुनौती देने वाली किसी भी ताकत को हमारी सेनाओं ने मुंह तोड़ जवाब दिया है.




उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

उपराष्ट्रपति राजस्थान की पांच दिवसीय यात्रा पर हैं.आज उन्होंने जैसलमेर युद्ध संग्रहालय देखा, जहां उनका स्वागत मेजर जनरल अजीत सिंह गहलोत ने किया। उपराष्ट्रपति ने थार रेगिस्तान की गर्म और कठिन परिस्थितियों में भी देश की सीमाओं की सुरक्षा करने के लिए भारतीय सेना की सराहना की.उन्होंने सैनिकों से कहा कि देश आश्वस्त रहता है कि दुश्मन के किसी भी दुस्साहस का हमारी सेना द्वारा मुंह तोड़ जवाब दिया जायेगा.

बाद में अपने एक फेसबुक पोस्ट में उपराष्ट्रपति नायडू ने लोगों से निकटस्थ युद्ध संग्रहालय जा कर देखने का आग्रह किया जिससे उनको यह याद रहे कि देश के नागरिक रात में चैन से सो सकें इसके लिए हमारे बहादुर सैनिक कितनी कुर्बानियां देते हैं। अपनी यात्रा के दौरान नायडू ने स्मारक पर पुष्प चढ़ा कर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और अपनी पोस्ट में लिखा, ” जब जब देश की संप्रभुता की रक्षा और देश की सुरक्षा की बात उठती है, हमारी सशस्त्र सेनाओं ने बार बार अपना और अपनी शक्ति का लोहा मनवाया है।”

सीमा पर स्थित जैसलमेर की अपनी यात्रा के दौरान उपराष्ट्रपति ने आज सीमा सुरक्षा बल की टुकड़ी के मुख्यालय पर आयोजित सैनिक सामनेकन को संबोधित किया और क्षेत्र में तैनात बीएसएफ बल के सैनिकों से बातचीत की. उन्होंने दुर्गम इलाकों में भी देश की सीमाओं की रक्षा में तत्पर बीएसएफ के सैनिकों की सराहना की.

सीमा पर बढ़ते खतरों की चर्चा करते हुए उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा कि सीमापार से आतंकवाद, नशीले पदार्थों की तस्करी, भारत विरोधी गतिविधियों को जो प्रोत्साहन और प्रश्रय हमारे कुछ पड़ोसियों द्वारा दिया जाता रहा है, देश को उससे निरापद करने के लिए हमारे सुरक्षा बलों का चौकन्ना रहना आवश्यक है। उन्होंने शत्रु के ड्रोन जैसे बढ़ते खतरों का कारगर निराकरण करने के लिए बीएसएफ की सराहना की। उन्होंने सीमा सुरक्षा बल से अपेक्षा की कि वे आधुनिकतम टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी जवानों का प्रशिक्षण बढ़ाएं।