हीरो के बाद ये कौन आ गया ?

40 घण्टे बाद भी जदयू नेता के घर गोली चलाने वाले पुलिस की गिरफ्त से दूर

आरा, 16 नवम्बर. भोजपुर पुलिस की एक ओर जहाँ जिले का आतंक बना हीरो के एनकांउटर के बाद सराहना हो रही है वही पुलिस के लिए अभी भी चुनौतियां सिर उठाये खड़ी हैं. युवा होते बच्चों के बीच किसी भी काम को करने के जुनून और जल्द ही अपने नामो के फेमस होने की लालसा उन्हें अपराध के दलदल में धकेल रही है. अभी हीरो के एनकाउंटर हुए 24 घंटे भी नही बीते थे कि बुधवार की रात नवादा थाना के अनाइठ में पूर्व छात्र जदयू सचिव अभिषेक तिवारी के घर पर रात 8.30 बजे के करीब 2 गोलियाँ चला अपराधियों ने दहशत फैला दिया. इस घटना के बाद मुहल्ले में हड़कंप मच गया. चर्चा ये होने लगी कि अपराध का नाम बना हीरो तो मारा गया फिर ये कौन है जो गोलियां बरसा रहा है? कहीं कोई और तो हीरो बनने की तैयारी तो नही कर रहा?




इस घटना के बाद हलांकि पुलिस जदयू नेता के घर पहुँची और तफ्तीश में जुट गई लेकिन 45 घण्टे बीत जाने के बाद भी अभी तक कुछ भी हाथ नही लगा है. घटना स्थल से पुलिस को 1 खोंखा और एक जिंदा कारतूस बरामद हुए और CCTV का फुटेज हाथ लगा. CCTV फुटेज में दो लोगों के गोली चलाने की तस्वीर कैद तो जरूर हुई है पर वे अभी भी पुलिस की कैद से दूर हैं. सूत्रों से मिली जानकारी की माने तो हाल में हुई क्राइम मीटिंग में जिला कप्तान ने नवादा थाना प्रभारी की क्लास भी लगाई थी लेकिन बावजूद उसके ढाक के तीन पात वाली ही कहावत चरितार्थ हुई. नवादा थाना क्षेत्र में ही अपराधियों ने जदयू नेता के घर पर फायरिंग की घटना को अंजाम दे नवादा थाना को कटघरे में खड़ा कर दिया. आये दिन हर जगह पुलिस की गस्ती और लोगों में पुलिस की खौफ तो जरूर है पर अपराधियों के हौसले आसमान पर हैं. पटना नाउ से बातचीत करते हुए नवादा थाना प्रभारी सुबोध कुमार ने बताया कि अपराधियों के पकड़ के लिए अनुसंधान जारी है. वही जदयू जिलाध्यक्ष अशोक शर्मा ने बताया कि भोजपुर पुलिस अपराधियों को पकड़ने में जोड़-तोड़ से लगी हुई है. उनका विश्वास ही नही दावा है कि सुशासन की इस सरकार में अपराधी जरूर पकड़े जाएंगे.

सुशासन के सरकार में पार्टी नेताओं के घर पर ही अपराधी गोली चला रहे हैं और सरकार सुशासन का दावा कर इतरा रही है. भगवान भरोसे आमजन की जिंदगी है. जब खूद की सरकार में पार्टी के नेता सुरक्षित नही तो आम लोगों के सुरक्षा की जिम्मा कौन लेगा? देखना यह होगा कि अपने क्षेत्र में इस वारदात के बाद पुलिस किस एक्शन में आती है.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट