आतंकवाद को मात देने के लिए एक ‘ठोस सामूहिक इच्छाशक्ति’ की जरूरत-मोदी

हार्ट ऑफ एशिया में बोले दिग्गज 

भारत-अफ़ग़ानिस्तान ने एक सुर में कहा- आतंकी ठिकानों को ख़त्म करे पाक




 लश्कर-जैश का भी हुआ  ज़िक्र

modi afganistan-haeart of asia

भारत की ओर से कहा गया की हम यह मानते हैं कि क्षेत्र में शांति, स्थिरता और सहयोग के लिए आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा है. हम अफगानिस्तान सरकार को सहयोग जारी रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय को प्रोत्साहित करते हैं. हम हार्ट ऑफ एशिया में आतंकी पनाहगाहों को नष्ट करने सहित आतंकवाद के सभी रूपों का खात्मा सुनिश्चित करने के लिए समन्वित क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय सहयोग की जोरदार अपील करते हैं . इसमें कहा गया कि इस सिलसिले में हम सभी देशों से अपनी अपनी राष्ट्रीय आतंक रोधी नीतियों, उनके अंतरराष्ट्रीय दायित्वों और संयुक्त राष्ट्र वैश्विक आतंकवाद रणनीति 2006 के मुताबिक इन आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील करते हैं. घोषणापत्र में कहा गया कि इसके अलावा हम अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर काम्प्रीहेंसिव कंवेंशन को आमराय से शीघ्र अंतिम रूप दिए जाने को प्रोत्साहित करते हैं. सम्मेलन में अपने संबोधन में मोदी ने आतंकवाद को मात देने के लिए एक ‘ठोस सामूहिक इच्छाशक्ति’ की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि आतंकवाद अफगानिस्तान एवं शेष दक्षिण एशिया की शांति एवं सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है. उन्होंने आतंकवाद का ‘समर्थन और धन’ मुहैया कराने वालों के खिलाफ ठोस कार्रवाइ्र करने की वकालत की और चेतावनी दी कि चुप्पी और कोई कार्रवाई नहीं करने से आतंकवादियों और उनके आकाओं का मनोबल बढ़ेगा.