भोजपुर प्रशासन ने किया बड़हरा क्षेत्र का दौरा, बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए सभी हुए दुरुस्त


सबकी छुट्टियाँ हुई रद्द, BDO और CO को अंचलों में बने रहने का निर्देश, देंगे जल स्तर की पल-पल रिपोर्ट

आरा, 17 सितम्बर. छपरा में गंगा के पानी बढ़ने के बाद भोजपुर जिले में भी बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. बढ़ते जलस्तर  को देखते हुए जिलाधिकारी रोशन कुशवाहा ने अधिकारियों की टीम के साथ बड़हरा प्रखंड के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया तथा ग्रामीणों का फीडबैक प्राप्त किया. जिलाधिकारी ने केशोपुर- बखोरापुर रोड के केशोपुर, नेकनाम टोला, फरना, बलुआ नरगदा,  सरैया ,सलेमपुर आदि स्थानों पर जल स्तर की स्थिति ,जल का फैलाव ,रोड की स्थिति,  गांव के पास  पानी की स्थिति , गांव से संपर्क पथ का जुड़ाव आदि बिंदुओं का सूक्ष्मता से निरीक्षण किया. जिलाधिकारी ने संभावित बाढ़ की स्थिति को देखते हुए सभी अधिकारियों की छुट्टी रद्द कर दिया है तथा सभी अधिकारियों को मुख्यालय में बने रहने तथा एहतियात के तौर पर अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया है. सभी संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी को अपने-अपने क्षेत्रों में जल स्तर की स्थिति पर नजर रखने तथा भ्रमणशील रहने को कहा गया है.




जिलाधिकारी ने आपात स्थिति से निपटने हेतु डॉक्टरों को अस्पतालों में आवश्यक मेडिकल सुविधा उपलब्ध रखने तथा ड्यूटी पर बने रहने का निर्देश दिया है. उन्होंने सिविल सर्जन को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में तैनाती हेतु मेडिकल टीम गठित रखने तथा आवश्यक एवं पर्याप्त दवा एवं एंबुलेंस की सुविधा त्वरित कार्रवाई हेतु तैयार रखने का निर्देश दिया  है. उन्होंने आपदा प्रभारी को राहत शिविर के संचालन हेतु सभी आवश्यक व्यवस्था दुरुस्त रखने को कहा है. जिलाधिकारी के साथ उप विकास आयुक्त माधव कुमार सिंह, अपर समाहर्ता कुमार मंगलम ,डायरेक्टर डीआरडीए प्रमोद कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सदर अरुण प्रकाश,आपदा प्रभारी शशांक कुमार , भूमि सुधार उप समाहर्ता सदर मुकेश कुमार सहित कई अन्य अधिकारीगण मौजूद थे.

सावन कुमार की रिपोर्ट