अपराधियों से मुठभेड़ में पटना पुलिस का एक सिपाही शहीद

पुलिस और अपराधियों के बीच हुई क्रॉस फायरिंग में एक सिपाही की मौत पटना में छापेमारी करने गयी पुलिस टीम पर अपराधियों ने चलाई, एक अपराधी को दबोचा एसएसपी समेत कई आला पुलिस अधिकारी पहुंचे न्यू बाईपास स्थित पटना सेंट्रल स्कूल के सामने में हुई वारदात पटना (अजीत की रिपोर्ट) । पटना के न्यू बाईपास पर सोमवार देर शाम अपराधियों ने छापेमार कर रही एसएसपी की विशेष पुलिस टीम के एक कांस्‍टेबल को गोली मार दिया. घायल सिपाही की मौत बाईपास स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल में हो गई. इस घटना की पुष्टि आईजी, पटना ने की है. बताया जा रहा है कि पुलिस नौबतपुर के कुख्यात उज्ज्वल को पकड़ने गई थी. इससे पहले पटना के कंकड़बाग थाना क्षेत्र के जगनपुरा स्थित बाइपास इलाके में पटना सेंट्रल स्कूल के नजदीक अपराधियों के होने की सूचना पुलिस को मिली. पुलिस की एक विशेष टीम इन अपराधियों को पकड़ने गई जिसमें एसएसपी के रंगदारी सेल के कांस्‍टेबल मुकेश कुमार सिंह भी शामिल थे. पटना पुलिस की यह विशेष टीम बाइपास इलाके में छापेमारी कर रही थी. इसी दौरान पटना सेंट्रल स्कूल के सामने अपराधियों से पुलिस टीम की भिड़ंत हो गई. इस पर अचानक अपराधियों ने पुलिस टीम पर गोली चला दी. आमने-सामने की मुठभेड़ में कांस्‍टेबल मुकेश कुमार को बदमाशों ने कमर और कंधे पर दो गोली मार दी, जिससे कॉन्स्टेबल वहीं गिर पड़े. आनन-फानन में टीम के अन्य सदस्यों ने घायल सिपाही मुकेश को नजदीक में स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल ले गए जहाँ मुकेश की मौत हो गई. उधर अपराधियो को

Read more

आपसी विवाद में हत्या

कोइलवर /भोजपुर (आमोद की रिपोर्ट) | चांदी थाना क्षेत्र के सलेमपुर में गोली मार कर एक की हत्या कर दी गयी, पुलिस छान बिन में जुटी. जानकारी के अनुसार सलेमपुर दक्षिण टोला में शुक्रवर को कुम्हरी नदी के पास जमीनी विवाद को लेकर एकपक्ष गजानन्द प्रसाद व दूसरा पक्ष चाँददेव के बीच महीनों से विवाद चला आ रहा था जो शुक्रवार की सुबह यह हिंसक रूप ले लिया. अहले सुबह चाँददेव यादव व उनकी पुत्री बबिता को दूसरे पक्ष के लोग घर के बगल में ही घेर गाली गलौज करने लगे. मामला तू तू मैं मैं से शुरू हुआ व देखते देखते लाठी,डंडे चलाने लगा. जिससे चाँददेव व बबिता पिता-पुत्री जख्मी हो गए.. जब मारपीट की घटना देख शौच से लौट रहा पंकज ने देखा तो पंकज दौड़ा मारपीट वाले जगह पर पहुँचा तो उस पर दूसरे पक्ष के लोगो ने गोली चला दी. गोली पंकज के पेट के दाहिने हिस्से में जा लगी. और वह लहूलुहान हो गिर गया. व मौके पर उसकी मौत हो गयी. जिसके दूसरे पक्ष के हथियारबन्द लोग फायरिंग करते हुए भाग निकले. इधर घटना के बाद दोनो जख्मी को इलाज के लिये सदर अस्पताल आरा ले गए. जानकारी के अनुसार सलेमपुर में जमीन विवाद को लेकर पहले भी कई बार बंदूके गरजी है. अहले सुबह हुई घटना में मौत की खबर गांव में जंगल की आग की तरह फैल गयी. सभी लोग घटना स्थल की ओर दौड़ पड़े। इधर इसकी सूचना मिलते ही चांदी थानाध्यक्ष धनंजय कुमार सिंह मौके पर पहुँच शव को कब्जे

Read more

बिहिया कांड में सुपरफास्ट फैसला | दोषियों को मिली सजा

आरा (सत्य प्रकाश की रिपोर्ट) | भारत को दुनिया भर में “लिंचिस्तान” और “लिंचोक्रेसी” जैसे शब्दों से दागदार बनाने वाले मॉब लीनचिंग की घटनाओं के बाद पहली बार आरा सिविल कोर्ट ने भीड़ की हिंसा को लेकर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा भीड़तंत्र को कानूनी रूप से मान्यता या इजाजत नहीं दिए जाने जैसे सख्त चेतावनी के ठीक बाद यह ऐतिहासिक फैसला बिहार के आरा सिविल कोर्ट से आया है, जहाँ कोर्ट ने राष्ट्रीय स्तर के बहुचर्चित मामले में दलित महिला को निर्वस्त्र कर सरेआम बाजार में घुमाये जाने और हिंसा फैलाने को लेकर अपराध में शामिल 20 लोगों को सजा देकर सही मायने में भीड़तंत्र के मुंह पर एक करारा तमाचा मारा है. ताजा फैसला है बिहार के भोजपुर जिले के आरा सिविल कोर्ट की जहाँ न्यायमूर्ति ADJ-1 ने विगत 20 अगस्त को भोजपुर जिले के बिहिया प्रखंड के बिहिया बाजार में एक दलित महिला को निर्वस्त्र कर सरेबाज़ार घुमाये जाने और हिंसा फैलाये जाने को लेकर कुल 20 लोगों को कड़ी सजा सुनाई है. इस प्रकरण में 5 लोगों को महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने को लेकर 7 वर्ष और एससी/एसटी एक्ट में 2 वर्ष के साथ-साथ 10 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. वहीं दूसरी ओर 15 लोगों को एससी/एसटी एक्ट व बाजार में हिंसा फैलाने को लेकर कोर्ट द्वारा 2-2 साल के सजा सजा का एलान किया गया है और साथ ही 2-2 हज़ार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है. कोर्ट के फैसले के बाद वकील सतेंद्र कुमार सिंह ने बताया

Read more

बिहिया कांड मामले में कोर्ट ने 20 को दोषी करार दिया, फैसला 30 नवंबर को

आरा (सत्या की रिपोर्ट) | बीते 20 अगस्त को हुए बिहिया कांड मामले में गिरफ्तार सभी 20 आरोपियों के खिलाफ बुधवार को सुनवाई में दोषी करार दिया गया है. आरा सिविल कोर्ट के प्रथम अपर जिला सत्र न्यायाधीश रमेश चंद्र द्विवेदी ने फैसले को 30 नवम्बर तक सुरक्षित रखा है. कोर्ट ने 20 आरोपियों में से किशोरी यादव, विष्णु, मुमताज़, मड़ई एवं सिकंदर 5 को महिला को निर्वस्त्र कर सरेआम घुमाने का दोषी पाया है, वहीं अन्य 15 आरोपियों को दंगा फैलाने का दोषी पाया है. कोर्ट का फैसला आने के बाद से कोर्ट परिसर में अफरा-तफरी का माहौल रहा. आपको बता दे कि बिहिया में बीते 20 अगस्त को रेलवे ट्रैक पर छात्र का शव मिलने के बाद सैकड़ों लोग आक्रोशित हो गए थे और शक के आधार पर एक दलित महिला की पिटाई कर उसे निर्वस्त्र कर पूरे बाजार में नंगे घुमाने के साथ उसके घर में आग लगा दी थी. जिसके बाद पुलिस ने वीडियो फूटेज के आधार पर सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया था. देखिये वीडियो  

Read more

हीरो के बाद ये कौन आ गया ?

40 घण्टे बाद भी जदयू नेता के घर गोली चलाने वाले पुलिस की गिरफ्त से दूर आरा, 16 नवम्बर. भोजपुर पुलिस की एक ओर जहाँ जिले का आतंक बना हीरो के एनकांउटर के बाद सराहना हो रही है वही पुलिस के लिए अभी भी चुनौतियां सिर उठाये खड़ी हैं. युवा होते बच्चों के बीच किसी भी काम को करने के जुनून और जल्द ही अपने नामो के फेमस होने की लालसा उन्हें अपराध के दलदल में धकेल रही है. अभी हीरो के एनकाउंटर हुए 24 घंटे भी नही बीते थे कि बुधवार की रात नवादा थाना के अनाइठ में पूर्व छात्र जदयू सचिव अभिषेक तिवारी के घर पर रात 8.30 बजे के करीब 2 गोलियाँ चला अपराधियों ने दहशत फैला दिया. इस घटना के बाद मुहल्ले में हड़कंप मच गया. चर्चा ये होने लगी कि अपराध का नाम बना हीरो तो मारा गया फिर ये कौन है जो गोलियां बरसा रहा है? कहीं कोई और तो हीरो बनने की तैयारी तो नही कर रहा? इस घटना के बाद हलांकि पुलिस जदयू नेता के घर पहुँची और तफ्तीश में जुट गई लेकिन 45 घण्टे बीत जाने के बाद भी अभी तक कुछ भी हाथ नही लगा है. घटना स्थल से पुलिस को 1 खोंखा और एक जिंदा कारतूस बरामद हुए और CCTV का फुटेज हाथ लगा. CCTV फुटेज में दो लोगों के गोली चलाने की तस्वीर कैद तो जरूर हुई है पर वे अभी भी पुलिस की कैद से दूर हैं. सूत्रों से मिली जानकारी की माने तो हाल में हुई

Read more

हीरो के एनकाउंटर होने तक…..

आरा (सत्या की खास रिपोर्ट) । नाम मनीष उर्फ हीरो, काम- रंगदारी के लिए किसी को भी मौत के घाट उतार देना और गोलियों से भून डालना. कुछ ऐसा ही था भोजपुर पुलिस और एसटीएफ की गोलियों का शिकार बने मनीष का प्रोफाइल. कम समय में ही जिले में खौफ और आतंक का पर्याय बन चुके इस अपराधी को पुलिस ने ढेर कर चैन की सांस ली है. हीरो का नाम भोजपुर समेत आसपास के जिलों में बड़ी तेजी से फैल रहा था और उसके गैंग में नौजवान शामिल हो रहे थे. इसे भी पढ़े      हीरो का एनकाउंटर।।। भोजपुर पुलिस ने एसटीएफ की मदद से मंगलवार की शाम कुख्यात अपराधी मनीष सिंह उर्फ हीरो को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया. इस दौरान पुलिस ने उसके दो साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया जो कि बनारस के जीवीएम मॉल में हुई शूटआउट की घटना के आरोपी थे और फरार चल रहे थे. पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में हीरो का एक साथी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहा. दरअसल पुलिस हीरो की टोह में कई दिनों से लगी थी. इसी दौरान ये सूचना मिली कि हीरो अपने 4 गुर्गों के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए भोजपुर के ही पीरो की ओर जा रहा है. पुलिस ने रास्ते में तत्काल घेराबंदी की तो हीरो और उसके गैंग ने गोलीबारी शुरू कर दी. इसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई शुरू की और हीरो को मार गिराया. पुलिस ने उसके दो साथी कुंदन और अभिषेक को

Read more

कुख्यात हीरो का एनकाउंटर

आरा (राकेश कुमार तिवारी की रिपोर्ट) | भोजपुर के लिए आतंक बन चुके मनीष उर्फ हीरो को पुलिस STF ने पीरो के जीतौरा बाजार के समीप बरांव गांव में एक मुठभेड़ के दौरान मार गिराया. हीरो के अपने सहयोगियों के साथ जीतौरा में आने की सूचना मिली थी. सूचना मिलने पर पुलिस ने घेराबंदी की। हीरो गैंग की तरफ से फायरिंग होने पर पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की. इस एनकाउंटर में हीरो मारा गया. पुलिस ने हीरो के साथ चल रहे कुछ अन्य अपराधकर्मियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है. पहले भी मनीष उर्फ हीरो कोर्ट परिसर से पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा था. बाद में उसने आरा शहर में आतंक फैलाने के लिए एक ही दिन में गोलीबारी की लगातार कई घटनाओं को अंजाम दिया था, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हुई थी. इसके बाद उसने व्यवसायियों में आतंक फैला कर रंगदारी वसूलने के लिए कई अन्य घटनाओं को अंजाम दिया था. हीरो हर घटना के बाद अपना विजिटिंग कार्ड छोड़ कर जाता था ताकि दहशत पैदा हो सके. पिछले तीन महीनों से पुलिस के लिए सिरदर्द बन चुके हीरो को पुलिस ने कई बार घेरा मगर हर बार वह बच निकलता था. एसपी आदित्य कुमार ने हीरो के मारे जाने की पुष्टि की है.

Read more

‘हीरो’ की दस्तक से जब मची दहशत

गौलियों की बौछार से दुबके लोग, भटटा का मुंशी घायल आरा, 21 अक्टूबर. भोजपुर में इन दिनों एक ऐसे ‘हीरो’ की चर्चा है जिसके नाम से लोग खौफ खाते हैं. जी हां ‘हीरो’ अपराध जगत का एक ऐसा उभरता सितारा है, जिसने बहुत ही कम उम्र में कई घटनाओं को अंजाम दे भोजपुर पुलिस का सिर दर्द बना हुआ है. नाम ‘हीरो’ तेवर भी हीरो वाला… लेकिन काम ‘विलेन- वाला’. लूट,हत्या,फिरौती,रंगदारी और धमकी…यही पेशा है अपराध के उभरते इस सितारे हीरो का जिसका नाम भी ‘हीरो’ ही है. फिल्मी स्टाइल की तरह वह घटनाओं को अंजाम देने के बाद अपने नाम का कार्ड छोड़ कर चला जाता है या यूं कहें कि घटनाओं को अंजाम देने के बाद वह अपनी पहचान छोड़ भोजपुर पुलिस को एक चैलेंज दे जाता है और अंडरग्राउंड हो जाता है कुछ दिनों के लिए, जिसे पुलिस खोजते-खोजते परेशान हो जाती है. उसकी इस शातिर अंदाज ने उसे कुख्यात अपराधियों का अब सरगना बना दिया है. आज शहर एक बार फिर हीरो के खौफ से सहम उठा जब उसने एक ईंट भट्ठा पर काम कर रहे मुंशी को रंगदारी की मांग कर नही देने पर गोली मार कर जख्मी कर दिया. कुख्यात हीरो ने ईट भट्ठा मुंशी को न सिर्फ गोली मारी बल्कि दहशत फैलाने के लिए करीब 15 राउंड फायरिंग भी की और अपने आतंक का खौफ जमाने के लिए हीरो लिखा हुआ कार्ड फेंक कर वहां से हथियार लहराते हुए फरार हो गया. सूत्रों की माने तो घटना उस समय घटी जब नगर थाना

Read more

पटना एम्स में हंगामा को लेकर कन्हैया समेत 2 लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज

पटना एम्स में हंगामा को लेकर एफआईआर दर्ज, फुलवारीशरीफ थाने में दर्ज हुई एफ आई आर, कन्हैया समेत 2 लोगों के खिलाफ नामजद FIR, 80 अज्ञात लोगों पर भी एम्स प्रशासन ने दर्ज कराई प्राथमिकी आइये जानते हैं वाकया क्या था. दरअसल कल जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व नेता कन्हैया कुमार अपने समर्थक के साथ रविवार रात पटना के एम्स में भर्ती एआईएसएफ के अध्यक्ष सुशील कुमार को देखने गए थे. उनके साथ उनके कई समर्थक भी थे. एम्स में अचानक अचानक कन्हैया के समर्थकों ने किसी कारण वहां के गार्ड के साथ मारपीट करना शुरू इतना ही नहीं, उनलोगों ने ऑर्थो विभाग के एक डॉक्टर के साथ बदसलूकी भी की. इसी बात से नाराज होकर सोमवार सुबह से सुरक्षा की मांग को लेकर पटना एम्स के डॉक्टर्स स्ट्राइक पर चले गए थे. इस घटना से नाराज एम्स, पटना के रेजिडेंट डॉक्टर और जूनियर डॉक्टरों ने आज सोमवार से अपने कार्य का बहिष्कार कर दिया। डॉक्टरों की मांग थी कि उन्हें सुरक्षा चाहिए जो कि एम्स पटना के लिए एक बड़ा सवाल है. रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉo विनय ने कहा था कि सभी डॉक्टर्स अभी फिलहाल कार्य बहिष्कार पर है और यदि सोमवार शाम 5 बजे तक कन्हैया कुमार एवं उनके समर्थकों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज नही होती है तो वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे. शक था कि यदि दोषियों पर कार्रवाई नही हुई तो एम्स, पटना में हड़ताल होना तय है. इसपर छानबीन करने पहुंचे फुलवारीशरीफ के एसएचओ ने बताया था कि मामले में प्राथमिकी दर्ज

Read more

पटना के इंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे से डॉक्टर के पुत्र की बॉडी बरामद

रूपसपुर थाना क्षेत्र के इंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे से डॉक्टर के पुत्र की बॉडी बरामद चाकू मार की गई हत्त्या फुलवारी शरीफ (ब्यूरो रिपोर्ट) । रूपसपुर के होम्योपैथ डॉक्टर शशिभूषण के 15 साल के अपहृत बेटे की हत्या कर अपहरण कर्ताओं ने आरपीएस इंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे बधार में फेंक दिया. डॉक्टर पुत्र की लाश बरामद होने की खबर से परिजनों में चीत्कार मच गया. पुलिस मुख्यालय में भी हडकम्प मचा है. एसएसपी मनु महाराज की मॉनिटरिंग में पुलिस अपहरण की खबर के बाद से लगातार कई इलाके में छापेमारी में जुटी थी. कोथवां में भी छापेमारी के बाद कई बदमाशो को पुलिस ने गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही थी. इस पूछताछ के बाद ही रूपसपुर थाना क्षेत्र के इंजीनियरिंग कॉलेज के पीछे से डॉक्टर के पुत्र की बॉडी बरामद कर ली गयी. डेड बॉडी देखने से लगता है कि अपहरण के बाद ही उसकी चाकुओं से गोद गोद कर हत्त्या कर दी. अपहरण कर्ताओं ने डॉक्टर परिवार से फिरौती में 50 लाख की रकम की डिमांड कर रहे थे. पुलिस का दावा है कि इस वारदात में शामिल दो अपराधियो को गिरफ्तार कर लिया गया है और एक अपराधी जो फरार चल रहा है उसे भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. इस हत्त्या में प्रेम प्रसंग की चर्चा की भी जांच हो रही है. गौरलतब है कि डॉक्टर शशिभूषण के पुत्र शिवम का अपहरण बृहस्पतिवार को उस समय कर लिया गया था जब वह बीबीगंज दानापुर में कोचिंग के लिए गया था. उसी कोचिंग में कोथवां के भी

Read more