आठ करोड़ 71 लाख लोगों की सेवा कर रहा है विभाग – लेसी सिंह

खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग की पहल कोई भूखा न रहे है ध्येय वाक्य छूटे हुए परिवारों को राशन कार्ड बनवाकर देने का चल रहा अभियान मंत्री ने बांटे लाभार्थियों को राशन कार्ड अनाज वितरण में पारदर्शिता से नहीं होगा समझौता दरभंगा के उन वंचितों के चेहरे खिल उठे जब बिहार की खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री लेसी सिंह ने अपने हाथों से उन्हें राशन कार्ड सौंपा. न हाकिमों का डर और न ही डीलरों के चंठ रवैए से सामना. अधिकांश गृहिणी. एक एक कर वे आती गईं और महिला मंत्री के हाथों कार्ड लेती गई. चेहरे पर राहत के भाव. लाभार्थियों के मनोभाव से तृप्ति जरूर मिली होंगी .. तभी तो मंत्री ने संकल्प दुहराया कि सरकार (केंद्र/राज्य) किसी को भूखा नहीं सोने देगी. और उद्घोष ये कि छूटे हुए परिवारों को राशन कार्ड बनवाकर देने का अभियान जोर शोर से चलता रहेगा. लेसी सिंह दरभंगा आई थी और पोलो ग्राउंड में हाल ही में बने दरभंगा ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं. उन्होंने आगाह किया कि अनाज वितरण में पारदर्शिता से समझौता बर्दाश्त नहीं. मंत्री ने याद दिलाया कि उनका विभाग जन कल्याण के महत्वाकांक्षी योजना को जमीन पर उतार रहा है. आठ करोड़ 71 लाख आर्थिक रूप से कमजोर लोगों तक राशन पहुँचा कर सेवा में लगा है. अहम है कि लक्ष्य समूह तक समय पर राशन पहुँच रहा है. इसका पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण प्रखण्ड, अनुमण्डल एवं जिला स्तर पर होता है. जिले के डीएम इसकी निगरानी करते हैं. मंत्री ने कहा कि कोरोना

Read more

रसियारी पौनी सहित दरभंगा के 5 पंचायत सांसद आदर्श ग्राम के लिए चयनित

बेस लाईन सर्वें के लिए स्थानीय सांसद की अध्यक्षता में हुई बैठक ग्रामीण विकास की 22 योजनाओं के क्रियान्वयन के हालत की ली जाएगी जानकारी समाहरणालय स्थित अम्बेदकर सभागार में दरभंगा के सांसद गोपालजी ठाकुर की अध्यक्षता में सांसद आदर्श ग्राम से जुड़ी बैठक हुई. इसमें बेस लाईन सर्वें एवं ग्राम विकास योजना को लेकर मंथन हुआ. इस दौरान जिला ग्रामीण विकास अभिकरण में लेखा प्रशासन एवं स्वनियोजन के निदेशक गणेश कुमार ने तफसील से सांसद आदर्श ग्राम की योजना से अवगत कराया. उन्होंने बताया कि जिले के चयनित पांचो पंचायत में पहले बेस लाइन सर्वें कराया जाएगा. ग्रामीण विकास के लिए चलायी जा रही 22 योजनाओं के क्रियान्वयन की स्थिति का अवलोकन किया जाएगा तथा इन पंचायतों के विकास के लिए ग्राम विकास योजना बनाकर संबंधित पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा. इसके बाद चरणबद्ध तरीके से उन्हें क्रियान्वित किया जाएगा. अलीनगर प्रखण्ड के मोतीपुर, बेनीपुर प्रखण्ड के सज्जनपुरा, किरतपुर प्रखण्ड के रसियारी पौनी, बहादुरपुर प्रखण्ड के हरिपट्टी एवं मनीगाछी प्रखण्ड के गंगौली कनकपुर पंचायत का चयन सांसद आदर्श ग्राम योजना के लिए सांसद ने किया है. बैठक में अध्यक्ष जिला परिषद,दरभंगा, प्रखंड प्रमुख किरतपुर तथा इन पाँचों प्रखण्ड के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी तथा पाँचों पंचायत के मुखिया, सरपंच, पंचायत सचिव एवं सभी वार्ड सदस्य शामिल थे.  बैठक में कहा गया कि इन चयनित पंचायतों के बेस लाईन सर्वें के तहत पंचायत की जनसंख्या ( शिक्षित एवं अशिक्षित), परिवारों की कोटि, आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की संख्या, स्कूल, स्वास्थ्य केन्द्र, बैंक, पैक्स, सड़क, नाली, शौचालय, बिजली, आवास, पोस्ट ऑफिस, आँगनवाड़ी केन्द्र,

Read more

युवा रचनाकार अनूप की कविता ‘पुरुष’

पुरुष मैं पुरुष हूँऔर मैं भी प्रताड़ित होता हूँमैं भी घुटता हूँ पिसता हूँटूटता हूँ, बिखरता हूँभीतर ही भीतररो नहीं पाता, कह नहीं पातापत्थर हो चुका,तरस जाता हूँ पिघलने को,क्योंकि मैं पुरुष हूँ ! मैं भी सताया जाता हूँजला दिया जाता हूँउस “दहेज” की आग मेंजो कभी मांगा ही नहीं था,स्वाह कर दिया जाता हैमेरे उस मान सम्मानको तिनका तिनकाकमाया था जिसे मैंनेमगर आह भी नहीं भर सकताक्योंकि पुरुष हूँ ! मैं भी देता हूँ आहुति“विवाह” की अग्नि मेंअपने रिश्तों कीहमेशा धकेल दिया जाता हूँरिश्तों का वज़न बांध करज़िम्मेदारियों के उस कुँए मेंजिसे भरा नहीं जा सकतामेरे अंत तक भीकभी दर्द अपना बता नहीं सकताकिसी भी तरह जता नहीं सकताबहुत मजबूत होने काठप्पा लगाए जीता हूँक्योंकि मैं पुरुष हूँ ! सुना है जब मन भरता हैतब वो आंखों से बहता है“मर्द होकर रोता है”“मर्द को दर्द कब होता है”टूट जाता है मन सेआंखों का वो रिश्तासब कुछ देकर बन नहीं पाता फरिश्ताक्योंकि मैं पुरुष हूँ ! –अनूप नारायण सिंह

Read more

दोषियों पर न कार्रवाई हुई और न ही सरकारी राशि जमा हुई

मामले पर डीएम से हस्तक्षेप की गुहार भी बेकार पीएम आवास अलॉट किया बल्कि राशि के भुगतान में तत्परता दिखाई पीएम आवास देने में अनियमितता से जुड़ा है मामला सिस्टम की कार्यप्रणाली से व्यथित होकर एक पीड़ित ने फिर से डीएम का दरवाजा खटखटाया है. लोक शिकायत निवारण की द्वितीय अपील की सुनवाई में दिए गए फैसले पर अमल नहीं होने की तरफ डीएम का ध्यान दिलाया गया है.मामला पीएम आवास देने में अनियमितता से जुड़ा है. आर्थिक रूप से सक्षम फिरोजा खातून नामक महिला को पीएम आवास दिया गया. उनके पति के पास चारपहिया वाहन है. ये बात डीटीओ की जांच में साबित हो चुका है. इस पहलू को ध्यान में रख कर द्वितीय अपील की सुनवाई के बाद आदेश पारित हुआ. महिला और उनके खिलाफ शिकायत करने वाले कलाम भी दरभंगा जिले के सिंहवाड़ा थाना क्षेत्र के पनसल्ला ग्राम के निवासी हैं. कलाम का कहना है कि संबंधित सरकारी अमले ने हकीकत जानते हुए भी बड़ी दरियादिली से संपन्न व्यक्ति को न सिर्फ पीएम आवास अलॉट किया बल्कि राशि के भुगतान में तत्परता दिखाई. द्वितीय अपील के आदेश में दोषी पदाधिकारी, कर्मी, मुखिया और अन्य लोगों पर कार्रवाई की बात कही गई. कलाम बताते हैं कि 31 अगस्त को आदेश दिया गया लेकिन अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है. यहां तक कि भुगतान हुए सरकारी राशि की वसूली भी नहीं हुई है. दरभंगा, संवाददाता

Read more

बच्चों ने बाल दिवस सप्ताह में मचाया धमाल

म्यूजिक एंड आर्ट पॉइंट ने किया बाल दिवस सप्ताह का आयोजन                        म्यूजिक एंड आर्ट पॉइंट ( संगीत एवं कला महाविद्यालय ) में चाचा नेहरू के जन्मदिन पर बच्चों ने तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित किया एवं केक काटकर एक दूसरे को बधाई दी. कार्यक्रम की शुरुआत मास्टर रोहित एवं आकर्ष ने सरस्वती वंदना से किया. इसके बाद तो गीत संगीत एवं नृत्य का जबरदस्त उत्साह के साथ एक से बढ़कर एक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां हुई जिसे देखकर श्रोताओं ने लगातार तालिया बजाकर बच्चों का उत्साहवर्धन किया. गायन में गौरव विशाल सिंह, पंकज पाठक, सुधीर कुमार, मुकेश कुमार, रोहित कुमार, अवध कुमार, रागिनी सिंह, मोहम्मद इस्लाम, मोहम्मद ज़ाहिर, रौशन कुमार सहित दर्जनों छात्रों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया, तबले पर संगत राकेश कुमार ने बखूबी किया. वहीँ  नृत्य में अंशी सिंह, आमर्या , विराट सिंह , सम्राट सिंह, सृष्टि सिंह, अक्ष विजय सिंह, आयुष विजय सिंह, ने नृत्य में अपना प्रदर्शन कर खूब तालियां बटोरी . इस अवसर पर संस्था के निदेशक डॉ. वेद प्रकाश सागर ने सभी बच्चों को उपहार देकर सम्मानित किया और कहा के बच्चें मन के सच्चे होते है, ये हमारा और देश का भविष्य है इनको सही मार्ग पर चलने की आदत माता पिता और गुरु का कर्तव्य बनता है. उपस्थित प्रमुख व्यक्तियों में डॉ. कुमार जीतेन्द्र ( निदेशक,हेल्थ हैवन हॉस्पिटल ) डॉ. आर. के. सिंह, प्रो. डॉ. रणविजय कुमार, राज किशोर पाठक सहित कई अभिभावकों की शानदार उपस्थिति रही. मंच संचालन ऋचा ने किया एवं धन्यवाद ज्ञापन संस्था के निदेशक डॉ. वेद प्रकाश सागर

Read more

सहजतावाद के पुरोधा कवि थे सोमदेव

मिथिला की गढ़ी थी नई परिचिति मैथिली और हिंदी भाषा के थे नामी साहित्यकार शाहाबाद के आरा के रहने वाले थे उनका मूल नाम गौरी शंकर प्रसाद था पग पग पोखरि माछ मखान सरस बोल मुस्की मुख पान विद्या वैभव शांति प्रतीक सरितांचल श्री मिथिला थीक संजय मिश्र,दरभंगा मिथिला की ये परिभाषा गढ़ने वाले साहित्यकार सोमदेव नहीं रहे. ये कविता लोग सुनते आए हैं लेकिन अधिकांश को नहीं पता कि मिथिला को इस तरह स्मरण करने वाले उनके अपने साहित्यकार सोमदेव ही ठहरे. जीवन की आपा धापी में व्यस्त लोगों को पता न चला कि कब ये कविता जन स्मृति में दरभंगा की पहचान बन गई. लापरवाही इतनी कि बिरले ही जानते हों कि सोमदेव शाहाबाद जिले के थे. 05 मार्च 1934को उनका जन्म श्रीवास्तव परिवार में हुआ. उसके बाद मातृक (ननिहाल) दरभंगा जिले के जयंतीपुर दाथ गांव का नेओरी टोला। दरभंगा में ही बस जाना हुआ। मैथिली के शीर्ष साहित्यकारों में शुमार हुए. मैथिली के अलावा हिंदी साहित्यकार के रूप में ख्याति अर्जित की. साल 2022 के 14 नवंबर को उनका देहांत हुआ और पटना के बांस घाट पर अंतिम संस्कार. ये अपने पीछे पुत्र हर्षवर्धन और डा. अमित वर्धन सहित भरा पूरा परिवार छोड़ गये हैं. उनका मूल नाम गौरी शंकर प्रसाद था. मैथिली साहित्य में सस्पेंस, थ्रिलर और जासूसी कथावस्तू का दृढ़तम समावेश उन्होंने किया. होटल अनारकली और चनोदाय नामक उपन्यास से मैथिली साहित्यकाश में छा गए. काल ध्वनि नामक कविता संग्रह के जरिए उन्होंने सहजतावाद नामक नई विधा को स्थापित किया. द्रौपदी – बीसम शताब्दी, आगि

Read more

आचार्य सोमदेव को विश्वविद्यालय के मैथिली विभाग में दी गई श्रद्धांजलि

सोमदेव मैथिली एवं हिन्दी भाषा के थे अच्छे विद्वान गुरु आचार्य सोमदेव का जाना शून्य पैदा कर गया विश्वविद्यालय मैथिली विभाग के द्वारा प्रो रमेश झा की अध्यक्षता में आचार्य सोमदेव के निधन के अवसर पर एक शोक सभा का आयोजन किया गया, जिसमें सभी शिक्षक, शोधार्थी एवं छात्र छात्राओं ने हिस्सा लिया. आरम्भ में आचार्य सोमदेव के व्यक्तित्व एवं कृतित्व की चर्चा करते हुए प्रो रमेश झा ने कहा की सोमदेव मैथिली एवं हिन्दी भाषा के अच्छे विद्वान थे. उन्होंने महारानी कल्याणी महाविद्यालय, लहेरियासराय में कई दशकों तक विद्यार्थियों को हिन्दी के यसस्वी प्राध्यापक के रूप में भी अपनी परिचिति बनाये हुए थे. प्रो दमन कुमार झा ने कहा कि वे मेरे गुरु थे. वर्ग मे पढ़ाने  के साथ साथ बहुत सारी संस्मरण सुनाते रहते थे. कभी पोथी लेखन प्रसंग, कभी कवि सम्मलेन प्रसंग,तो कभी जीवन दर्शन प्रसंग. उनसे बहुत सारी बातें मुझे सीखने को मिली. कई बार उनके निवास पर भी जाने का अवसर मिला. हरबार पुत्रवत स्नेह प्राप्त हुआ. दरभंगा अध्ययन क्रम में मैंने जिन जिन व्यक्तित्व से शिक्षा पाई उनमें अब तक बचे गुरु आचार्य सोमदेव का जाना मेरे लिए शून्य पैदा कर गया. प्रो अशोक कुमार मेहता ने उन्हें मैथिली के रचनाकार के रूप में याद किया. उन्होंने कहा की वे सहजतावाद के प्रणेता थे. उनकी कविता, कथा एवं उपन्यास सदैव नई पीढ़ी के लिए प्रेरणादायक रहेगी. मंचीयकवि के रूप में वे हमेशा आकर्षण के केंद्र में रहे. काव्य प्रस्तुति में उनकी आंगिक और वाचिक समन्वय मनोहरी रहता था. उनका जाना मैथिली साहित्य के लिए

Read more

दफादार चौकीदार संघ के नेताओं ने भरी हुंकार, आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन

शराब माफियाओं के हमलों से हो रही चौकीदारों की मौत पुलिस विभाग करती है अनदेखी सरकार करे हस्तक्षेप और दे सुरक्षा संजय मिश्र.दरभंगा पुलिस विभाग की आंख और कान कहे जाने वाले दफादार और चौकीदार दरभंगा की सड़कों पर उतरे. आक्रोश पूर्ण प्रदर्शन किया और फिर पोलो ग्राउंड में जाकर धरने पर बैठ गए. संघ के नेताओं ने नौकरी से जुड़ी समस्याओं और अनदेखी का जिक्र किया. इस दौरान उनके मन में तैर रहे उबाल और वेदना बार बार सतह पर आ ही जाते. उनकी मांगों को लेकर सरकार की  निष्ठूरता और पुलिस विभाग का असहयोगात्मक रवैया से वे आहत दिखे. बिहार राज्य दफादार और चौकीदार पंचायत प्रमंडल दरभंगा इकाई की तरफ से हुए इस प्रदर्शन को संघ के राष्ट्रीय महासचिव संत सिंह ने संबोधित किया. उन्होंने कहा कि बिहार में लागू शराबबंदी को सफल बनाने के लिए चौकीदार जी जान लगाते हैं लेकिन उनकी सुरक्षा खतरे में रहती है. शराब माफियाओं ने कई चौकीदारों की हत्या कर दी है. आखिर जो सूचना उनके बल के लोग थाने को देते हैं वे लीक कैसे हो जाते हैं? जिलाध्यक्ष मनीष पासवान ने मौके पर सरकार से मांग करते हुए कहा कि साल 1990 से लेकर और साल 2014 से पहले के सेवा निवृत चौकीदारों के आश्रितों के बचे हुए बहाली को पूरा किया जाए. उन्होंने बिहार चौकीदार संवर्ग नियमावली 2019 को वापस लेने का आग्रह सरकार से किया. बाद में संघ के शिष्टमंडल ने दरभंगा के प्रमंडलीय आयुक्त को मांगों से जुड़ा ज्ञापन सौंपा.

Read more

देश के विभिन्न हिस्सों के पारम्परिक व्यंजनों का स्वाद लोगों ने चखा

जॉ पॉल्स हाई स्कूल में हर्षोल्लासपूर्वक मनाया गया बाल दिवस समारोह छात्र -छात्राओं ने लगाया फ़ूड स्टाल देश के प्रथम प्रधानमंत्री और महान स्वतंत्रता सेनानी जवाहर लाल नेहरू के 133 वीं जयंती और राष्ट्रीय बाल दिवस के मौके पर जॉ पॉल्स स्कूल के धनुपरा स्थित कैंपस में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम और छात्र/छात्राओं द्वारा मेले का आयोजन किया गया.  इस मेलें में स्कूल के बच्चों के द्वारा कई फूड और गेम्स के स्टॉल भी लगाए गए. इस बार के मेले का थीम देश के अलग अलग हिस्सों के पारम्परिक व्यंजनों को रखा गया था. बच्चों ने देश के अलग अलग राज्यों और इलाकों के फूड स्टॉल्स लगाए जिसका लुत्फ पैरेंट्स और समारोह में आए गणमाण्य लोगों ने उठाया.इस दौरान आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में स्कूली बच्चों के साथ साथ स्कूल के टीचर्स ने भी अपनी अपनी प्रस्तुति दी. बच्चों और टीचर्स द्वारा दी गई प्रस्तुतितियों को कार्यक्रम में मौजूद सभी लोगों ने सराहा. बाल दिवस के मौके पर आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मिथिलेश कुमार, एसीजीएम, आरा, प्रो. (डॉ.) कैलाश कुमारी सहाय, आदिति गुप्ता, सब जज – पीरो और डॉ कुमार जीतेंद्र थे. कार्यक्रम की शुरुआत जॉ पॉल्स स्कूल के प्रिंसिपल डॉ. रमेश प्रताप शाही ने स्वागत भाषण से की. स्कूल की डायरेक्टर डॉ. मधु सिन्हा और स्कूल की मैनेजिंग डायरेक्टर पंखुड़ी सिन्हा ने भी बच्चों को अपने भाषण से प्रोत्साहित किया. स्कूल के सेक्रेटरी श्री प्रदीप कुमार सिन्हा ने भी बच्चों का मनोबल बढ़ाया.कार्यक्रम के दौरान स्कूल के डिप्टी-डायरेक्टर शंभुनाथ मिश्र, मधु सिंह, रंजू शुक्ला सहित स्कूल के प्रबंधन समिति,

Read more

नारी समाज की पवित्र प्रतीक है ‘योगिनी’ : अनीता कुमारी

योगिनी चित्र शिल्प एक कहानी कहता है : पद्मश्री श्याम शर्मा सामाजिक संस्कृति की बहुस्तरीय भावना को दर्शाती एकल चित्र प्रदर्शनी का आयोजन नारी समाज की पवित्र प्रतीक है पूरा समाज नारी के इर्द-गिर्द है घूमती दुनिया को अपने कैनवस पर समेटना चाहती हूं मैं एकल प्रदर्शनी -15 नवम्बर से 20 नवम्बर 2022  का आयोजन पटना में आये दिन कोई न कोई चित्र प्रदर्शनी का आयोजन होता ही रहता है कभी समूह में तो कभी एकल. देश में अपना स्थान ख़ास बनाने वाली अनीता कुमारी की एकल चित्र प्रदर्शनी में योगिनी को प्रस्तुत किया है.ललित कला अकादमी में आयोजित इस एकल चित्रकला प्रदर्शनी का उद्घाटन देश दुनिया के प्रख्यात चित्रकार श्याम शर्मा किया.उन्होंने कहा कि अनीता कुमारी के चित्र ने सृजन से लेकर कई अवस्थाओं का चित्रण किया है जिसमें कला के प्रति उनका नजरिया स्पष्ट दिखता है.  उन्होंने कहा कि अनीता कुमारी के चित्र ने सृजन से लेकर कई अवस्थाओं का चित्रण किया है जिसमें कला के प्रति उनका नजरिया स्पष्ट दिखता है। योगिनी एक योग है मतलब जोड़ना मतलब योगी। षोडशमातृकाएं या 64 योगिनियों की कल्पना है। ये सभी भारतीय चित्र परंपरा के अनुसार है। इनके चित्रों में कथात्मक का गुण है जो अपनी कहानी कहती है। योगिनी को आज के संदर्भ में प्रस्तुत करना ही कलात्मकता है। अनीता ने बताया कि योगिनी एक प्रतीकात्मक चिन्ह है जिस पर काम करते हुए मैं अपने कामों में आन्नद की प्राप्ति करती हूँ. नारी समाज की पवित्र प्रतीक है क्योंकि पूरा समाज नारी के इर्द-गिर्द घूमती है. मेरी कला 21वीं

Read more