भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान अजित वाडेकर नहीं रहे

मुंबई (ब्यूरो रिपोर्ट) | भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान अजित वाडेकर का, जिन्होंने इंग्लैंड और वेस्टइंडीज में टेस्ट जीत में भारतीय टीम का नेतृत्व किया, लंबे समय की बीमारी के बाद बृहस्पतिवार को मुंबई में निधन हो गया. वे 77 वर्ष के थे और उनके पीछे उनकी पत्नी रेखा, दो बेटें और एक बेटी बची है. वाडेकर को आज दक्षिण मुंबई के एक अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें ‘आगमन पर मृत’ घोषित कर दिया गया. उनका आखिरी संस्कार शुक्रवार को किया जायेगा. वाडेकर परिवार के एक सदस्य, जो नाम गुप्त रखना चाहते थे, ने पटनानाउ को बताया. जसलोक अस्पताल के अनुसार, “वे कुछ समय से गंभीर रूप से अस्वस्थ थे और उसके लिए वे इलाज करवा रहे थे।”   वाडेकर एक आक्रामक बल्लेबाज थे वे एक आक्रामक बल्लेबाज थे जो केवल 37 टेस्ट खेलने के बावजूद भारतीय क्रिकेट में एक ट्रेलब्लैज़र थे, जिसने भारत को 1971 में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज में भारतीय टीम को जीत हासिल की. वाडेकर ने अपने टेस्ट करियर में 2,113 रन बनाए, जिसमें एक शतक भी शामिल था. वे देश के पहला ओडीआई (एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय) कप्तान भी थे. हालांकि, वे सिर्फ दो ओडीआई मैचों में दिखाई दिए थे. भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ उन ओडीआई दोनों मैचों को खो दिया था जिसके बाद वाडेकर ने 1974 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया था..

Read more

अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक, एम्स ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | एम्स ने बुधवार देर रात मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया कि पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी यहां पिछले 9 हफ्तों से भर्ती हैं. उनकी हालत 24 घंटों से बेहद नाजुक बनी हुई है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. बुधवार सुबह से ही अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत नाजुक बताई जा रही है. एम्स के अनुभवी डॉक्टरों की टीम उनकी सेहत पर नजर बनाए हुए है. एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने पहुंचे और उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी के सेहत से जुड़ी जानकारी उन्हें दी जिसके बाद पीएम मोदी अटल बिहारी वाजपेयी से मिलने एम्स पहुंचे. वाजपेयी को वेंटिलेटर में रखा गया है. पीएम मोदी करीब 45 मिनट से ज्यादा समय तक एम्स में रहे. पिछले एक महीने से देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी यूटीआई इंफेक्शन, लोवर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और किडनी संबंधी बीमारियों के कारण दिल्ली एम्स में भर्ती हैं. अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया (मनोभ्रांस) से भी पीड़ित हैं. इस कारण वे अपना दैनिक कार्य ठीक से नहीं कर पा रहे थे तथा याददाश्त कमजोर हो गई थी. उनकी हालत नाजुक बनी हुई है. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को देखने दिल्ली के एम्स कई दिग्गज नेता पहुंचे.  

Read more

अच्छी खबर: निविदाकर्मियों की बहुप्रतीक्षित मांग हुई पूरी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना के गांधी मैदान में 72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडोत्तोलन किया. मुख्यमंत्री ने झंडोत्तोलन के बाद समस्त बिहारवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं. उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि सदियों की गुलामी के बाद आज ही के दिन हमारा देश आजाद हुआ था. इसके लिए हमारे राष्ट्रभक्तों को अनेक कुर्बानियां देनी पड़ी. आज के दिन हम मातृभूमि के उन सपूतों का स्मरण करते हैं, उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं और उनके सपनों को साकार करने का संकल्प लेते हैं. उन्होंने कहा कि मैं उन वीर जवानों को भी नमन करता हूं जो बहादुरी से देश की सरहदों की सुरक्षा कर रहे हैं. उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है. देश के थल, जल और नभ की रक्षा करने वाले भारतीय सेना का हम अभिनन्दन करते हैं, जिनकी सजगता और सतर्कता से देश की सीमाओं की रक्षा होती है. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार सरकार के लिए ये सौभाग्य का विषय था कि उसे गांधी जी के चंपारण सत्याग्रह के सौ वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में शताब्दी समारोह के सफल आयोजन का अवसर मिला. इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य उस समय की स्मृतियों को पुनर्जीवित करते हुए गांधी जी के विचारों एवं आदर्शों को जन-जन तक पहुंचाना रहा. उन्होंने कहा कि बापू की जयंती के 150 वें वर्ष को भी हम हर्षोल्लास से मनाएंगे और उनके आदर्श एवं विचारों को जन जन तक पहुंचाने की मुहिम को आगे बढ़ाएंगे. भारत के स्वतंत्रता  संग्राम में बिहार का अग्रणी योगदान रहा है.

Read more

जब जनता से “रेलमंत्री” ने की शिकायत

केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने किया आरा-सासाराम रेलखंड का विधुतीकरण एवं आरा जंक्शन सहित चार स्टेशनों पर उपरिगामी पैदल पुलों का शिलान्यास आरा जंक्शन परिसर में आयोजित समारोह में रेलमंत्री का जोरदार अभिनंदन हुआ. शिलान्यास समारोह में बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और केंद्रीय ऊर्जा मंत्री व स्थानीय सांसद आर के सिंह भी उपस्थित थे. इसके अलावा सासाराम के सांसद छेदी पासवान और अगिआंव विधायक प्रभुनाथ राम भी उपस्थित थे. आरा आने से पूर्व राजधानी पटना में आयोजित कार्यक्रम के दौरान रेलमंत्री ने बिहार में रेलवे की उपलब्धियों पर “बिहार बुकलेट” भी जारी किया. रेलमंत्री जैसे ही सम्बोधन के लिए मंच पर आएं उपस्थित हजारों की भीड़ ने रेल मंत्री के स्वागत में खड़े होकर उनका जोरदार अभिवादन किया. अपने जोरदार अभिवादन से अभिभूत रेल मंत्री कुछ देर के लिए शांत खड़े भावुक हो गए और उन्होंने वीर कुंवर सिंह की धरती आरा को वीरों की धरती कहते हुए नमन किया. क्या थी रेल मंत्री की शिकायत ? उन्होंने चुटीले अंदाज में लोगों से कहा कि मैं आप लोगों के बीच 4 लोगों की शिकायत करने आया हूं उन्होंने मंच पर बैठे अतिथियों की ओर इशारा करते हुए कहा कि इन लोगों ने मेरा जीना हराम कर दिया है. ये लोग जब भी मेरे ऑफिस में आते हैं कई सारी योजनाओं को साथ में लेकर आते हैं. मैंने सोचा था ऊर्जा मंत्री बनने के बाद आर के सिंह कम से कम जान छोड़ देंगे, लेकिन ऊर्जा मंत्री बनने के बाद भी वे जान नही छोड़ते. शाहाबाद

Read more

आपने भी किया है आवेदन तो क्लिक करें और देखें स्टेटस

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने 9 अगस्त को 10 विश्वविद्यालयों यथा- भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय,  मधेपुरा, बी आर अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, जय प्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा, मगध विश्वविद्यालय, गया, तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय,  भागलपुर, वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, पटना, पूर्णिया विश्वविद्यालय, पूर्णिया एवं मुंगेर विश्वविद्यालय, मुंगेर के मान्यता प्राप्त सभी अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय तथा सम्बद्धता प्राप्त डिग्री महाविद्यालयों में Online Facilitation System for Students (OFSS) सॉफ्टवेयर के माध्यम से नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन किये हुए विद्यार्थियों का प्रथम संशोधित चयन सूची First revised selection list जारी कर दिया है. इस बारे में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि समिति द्वारा जारी प्रथम संशोधित चयन सूची (First revised selection list) के आधार पर इन 10 विश्वविद्यालयों के सभी अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय तथा संबद्धता प्राप्त डिग्री महाविद्यालयों में नामांकन की प्रक्रिया दिनांक 10 अगस्त, 2018 से 16 अगस्त, 2018 के बीच की जाएगी. समिति द्वारा जारी प्रथम संशोधित चयन सूची (First revised selection list) को संबंधित महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालयों को उनके Login ID पर भेज दिया गया है.  इसके साथ ही विभिन्न विश्वविद्यालयों के अलग-अलग महाविद्यालयों के अलग-अलग संकायों के विषयों का Cutoff Percentage (आरक्षण श्रेणीवार) भी समिति के वेबसाइट पर जारी कर दिया गया है, जिसे आवेदक समिति के Website www.ofssbihar.in पर जाकर देख सकते हैं. निखिल केडी वर्मा

Read more

पीएमसीएच और एनएमसीएच में 6 मरीजों की मौत के जिम्मेवार कौन

पटना (अजित की रिपोर्ट) | नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (एनएमसीएच) के डॉक्टर की पिटाई के विरोध में गुरुवार को पटना के सरकारी अस्पताल के करीब 1000 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. इलाज नहीं मिलने की वजह से 6 मरीजों की मौत हो गई. एनएमसीएच और पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर के हड़ताल की वजह से अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं ठप हैं. इमरजेंसी और ओपीडी दोनों के जूनियर डॉक्टरों हड़ताल पर हैं. इस वजह से मरीज और उनके परिजनों को काफी परेशानी हो रही है. इलाज के लिए दूसरे जिलों से आए मरीज डॉक्टरों की हड़ताल से काफी आक्रोशित हैं. पीएमसीएच में 30 ऑपरेशन टले हड़ताल की वजह से पीएमसीएच में 30 ऑपरेशन टालने पड़े. परिजन मरीज को प्राइवेट हॉस्पिटल में ले जाने को विवश हो रहे हैं. सबसे अधिक परेशानी उन लोगों को हो रही है जो प्राइवेट हॉस्पिटल का बिल नहीं भर सकते. पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉक्टर विनय ने कहा कि सरकार सिर्फ आश्वसन देती है. कभी पीएमसीएच के डॉक्टरों की सुरक्षा का इंतजाम नहीं किया जाता.  हमलोगों ने 24 घंटे का हड़ताल किया है. सुरक्षा देने की हमारी मांग नहीं मानी जाती है तो आगे और हड़ताल किया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्री बोले-डॉक्टरों की सुरक्षा से नहीं होगा कोई खिलवाड़ हड़ताल कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि मारपीट करने वाले आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की जाए. साथ ही मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट भी जल्द लागू हो. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे का कहना है कि पीएमसीएच और एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर तुरंत काम पर वापस

Read more

अच्छी खबर: बिहार के फुलौत में बनेगा 4 लेन का नया पुल

concept image केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने दी हरी झंडी बिहार के फुलौत में कोसी नदी पर 4-लेन के एक नये पुल के निर्माण को मंजूरी प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने बिहार के फुलौत में 6.930 किलोमीटर लंबे 4-लेन वाले पुल के निर्माण के लिए परियोजना को मंजूरी दी है. CCEA ने बिहार में राष्‍ट्रीय राजमार्ग-106 के मौजूदा बीरपुर-बिहपुर खंड पर 106 किलोमीटर से 136 किलोमीटर तक ‘पेव्‍ड शोल्‍डर के साथ 2-लेन’ के उन्‍नयन एवं पुनर्वास के लिए 1478.40 करोड़ रुपये की लागत से डेक को भी मंजूरी दी है. इस परियोजना के लिए निर्माण अवधि 3 वर्ष है और इसे जून 2022 तक पूरी होने की उम्‍मीद है. प्रभाव : राष्‍ट्रीय राजमार्ग 106 पर फुलौत और बिहपुर के बीच 10 किलोमीटर लंबा लिंक नादारद है और वह कोसी नदी के कटाव क्षेत्र में आता है. वर्तमान में फुलौत से बिहपुर जाने के लिए लगभग 72 किलोमीटर का सफर करना पड़ता है. इस परियोजना के तहत कोसी नदी पर 4-लेन वाले इस नये पुल के निर्माण होने पर फुलौत और बिहपुर के बीच की दूरी घटकर महज 12 किलोमीटर रह जाएगी. इस नये पुल से निर्माण अ‍वधि के दौरान करीब 2.19 लाख श्रम दिवस के लिए प्रत्‍यक्ष रोजगार सृजित होंगे. इस नये पुल के निर्माण से बिहार में राष्‍ट्रीय राजमार्ग 106 पर उदाकिशुनगंज और बिहपुर के बीच मौजूदा 30 किलोमीटर लम्‍बी खाई दूर हो जाएगी जो नेपाल/‍उत्‍तर बिहार/पूर्व-पश्चिम गलियारा (एनएच-57 से होते हुए) और दक्षिण बिहार/झारखंड/स्‍वर्ण चतुभुर्ज (एनएच-2 से होते हुए) के बीच संपर्क मुहैया कराएगी।

Read more

भारतीय राजनीतिक ‘कलाकार’ करुणानिधि का निधन; मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताई शोक संवेदना

चेन्नई / पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) |  डीएमके चीफ और पूर्व सीएम करूणानिधि का मंगलवार शाम निधन हो गया. लंबे समय से बीमार चल रहे करूणानिधि चेन्नई के कावेरी अस्पताल में शाम 6 बजकर 10 मिनट पर आखिरी सांस ली. इसके बाद पूरे तमिलनाडु सहित पूरे देश में शोक की लहर छा गई है. अस्पताल के कार्यकारी निदेशक डॉक्टर अरविन्दन सेल्वाराज की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ‘हमें बड़े दुख के साथ बताना पड़ रहा है कि हमारे प्रिय कलैंग्नर एम. करुणानिधि का सात अगस्त, 2018 को शाम छह बजकर दस मिनट पर निधन हो गया. डॉक्टरों और नर्सों की हमारी टीम के सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका.’  विज्ञप्ति के अनुसार, ‘हम भारत के कद्दावर नेताओं में से एक के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हैं और परिवार के सदस्यों तथा दुनिया भर में बसे तमिलवासियों का दुख साझा करते हैं.‘ करूणानिधि के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने शोक जताया है. एम करूणानिधि के निधन पर साउथ फिल्मों के सुपरस्टार रजनीकांत शोक व्यक्त करते हुए कहा कि यह मेरे जीवन का स्याह दिन है,क्योंकि मैं यह कभी नहीं भूलूंगा कि मैंने आज अपने कलईनार(कला का विद्वान) को खो दिया. मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए कामना करता हूं. नीतीश कुमार ने एम० करूणानिधि के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रख्यात राजनीतिज्ञ, डीएमके प्रमुख एवं तमिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री एम० करूणानिधि के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. अपने शोक-संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा कि

Read more

इस ‘स्पेशल ट्रेन’ से परीक्षा देने जाएंगे रेलवे अभ्यर्थी

रेलवे की बहुप्रतीक्षित ग्रुप सी पोस्ट के लिए ऑनलाइन परीक्षा देशभर में 9 अगस्त को आयोजित की जा रही है. कंप्यूटर आधारित परीक्षा की दिशा में आगे बढ़ते हुए पहली कड़ी के तौर पर रेलवे ने सहायक लोको पायलट(ALP) और तकनीशियनों की 26,502 रिक्तियों की घोषणा की थी जिसे आखिरी समय में 60 हजार से ज्यादा कर दिया गया है. आरआरबी की ग्रुप ‘सी’ (एएलपी और तकनीशियन) भर्ती परीक्षा के लिए करीब 47.56 लाख विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। 9 अगस्त को होने वाली रेलवे भर्ती परीक्षा में परीक्षार्थियों के परीक्षा केंद्र काफी दूर दे दिए गए हैं. लेकिन रेलवे ने परीक्षार्क्षियों की असुविधा को देखते हुए स्पेशल ट्रेन चलाने की घोषणा की है. पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि मंगलवार 7 अगस्त को दानापुर से सिकंदराबाद के लिए परीक्षा स्पेशल ट्रेन खुलेगी। पटना से इंदौर के लिए भी एक परीक्षा स्पेशल ट्रेन 7 अगस्त को चलाई जाएगी. file pic राजेश कुमार ने बताया कि ट्रेन संख्या 03241/ 03242 दानापुर-सिकंदराबाद स्पेशल ट्रेन 7 अगस्त को सुबह 11: 30 बजे दानापुर स्टेशन से सिकंदराबाद के लिए रवाना होगी. इस ट्रेन में 20 सेकंड क्लास अनरिजर्व्ड कोच लगाए गए हैं. यह ट्रेन वाया आरा, बक्सर, मुगलसराय, इलाहाबाद, सतना, कटनी, जबलपुर, इटारसी, नागापुर और बल्लारशाह 8 अगस्त को रात 9 बजे सिकंदराबाद पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन 9 अगस्त को परीक्षा के बाद रात 8 बजे सिकंदराबाद स्टेशन से खुलेगी और 10 अगस्त को दानापुर पहुंचेगी. इंदौर के लिए पटना इंदौर परीक्षा स्पेशल ट्रेन संख्या 03253/03254 का

Read more

जस्टिस शाह होंगे पटना हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | पटना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, न्यायमूर्ति राजेंद्र मेनन को मुख्य न्यायाधीश के रूप में दिल्ली उच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया गया है. उन्हें 17 अगस्त, 2018 से पहले चार्ज लेना है. इसके बारे में अधिसूचना केंद्र सरकार ने 3 अगस्त को जारी कर दी. वहीँ, गुजरात हाईकोर्ट के सबसे सीनियर जज न्यायमूर्ति मुकेश आर शाह पटना हाईकोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश होंगे. न्यायमूर्ति शाह पटना हाईकोर्ट के 41वें मुख्य न्यायाधीश होंगे. 16 मई 1958 को जन्मे शाह ने वकालत की डिग्री लेकर गुजरात हाईकोर्ट में 1982 में प्रैक्टिस शुरू की. केंद्र सहित सीबीआई के वकील के रूप में काम करते हुए 7 मार्च 2004 को गुजरात हाईकोर्ट में एडिशनल जज बहाल हुए. 22 जून 2005 को इन्हें स्थायी जज बनाया गया. वे 15 मई 2020 में वे सेवानिवृत्त होंगे.

Read more