कांग्रेस नेता तारिक अनवर के खिलाफ पटना सीजेएम कोर्ट में केस दर्ज

कांग्रेस के महासचिव तारिक अनवर के खिलाफ पटना सीजेएम कोर्ट में मुकदमा दर्ज हुआ है. उनपर यह मुकदमा जानेमाने गीतकार और शायर जावेद अख्तर के उस बयान के समर्थन करने के खिलाफ किया गया है, जिसमें जावेद ने आरएसएस की तुलना तालिबान से की थी.

पटना के शिवपुरी मुहल्ले में रहने वाले अखौरी सुबीर कुमार सिन्हा ने मंगलवार 7 सितंबर को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी, पटना के कोर्ट में तारिक अनवर के खिलाफ एक परिवाद पत्र दायर किया है. इस परिवाद-पत्र की संख्या है – 3934 (C) 2021 (अखौरी सुबीर कुमार सिन्हा वनाम तारिक अनवर एवं अन्य).




इस मुकदमे में परिवादी ने कहा है कि 5 सितंबर को अखिल भारतीय कांग्रेस के महासचिव तारिक अनवर ने जावेद अख्तर के बयान का समर्थन करते हुए ट्वीट किया, “देश के जाने माने लेखक एवं कवि जावेद अख्तर जी की बात तर्क संगत है. तालिबान और भाजपा-RSS के विचारधारा में कोई अंतर नहीं है-तालिबान इस्लामिक स्टेट चाहता है और भाजपा-RSS हिन्दु राष्ट्र”. परिवादी के मुताबिक, तारिक अनवर का यह सोशल मीडिया में व्यक्तव्य बिलकुल गैर जिम्मेदाराना है एवं इसके द्वारा भाजपा–आरएसएस के साथ ही हिन्दू मानसिकता को ठेस पहुचाने एवं देश के सौहार्द को बिगाड़ने का कार्य किया गया है.

बता दें, हाल ही में जानेमाने शायर जावेद अख्तर ने तालिबान की तुलना आरएसएस और विहिप जैसे संगठनों से की थी. उन्होंने बीते हफ्ते तालिबान को लेकर कहा था कि तालिबान एक बर्बर संगठन हैं और उनकी हरकतें निंदनीय हैं, इसको कोई नहीं नकार सकता है. लेकिन हमारे देश के आरएसएस, विहिप और बजरंग दल भी उसी तरह के हैं. वहां तालिबान एक इस्लामिक राज्य चाहते हैं, यहां ये हिंदू राष्ट्र चाहते हैं. ये लोग एक ही मानसिकता के हैं. हालांकि इस देश का अधिकांश हिस्सा अत्यंत सभ्य और सहिष्णु है, इसलिए मुझे भरोसा है कि भारत कभी तालिबान देश नहीं बनेगा.

जावेद अख्तर के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने इसका विरोध करते हुए कहा कि इस तुलना के लिए जावेद अख्तर को आरएसएस से माफी मंगनी होगी, नहीं तो उनकी फिल्में नहीं चलने दी जाएंगी. इसके अलावा शिवसेना ने भी आरएसएस का बचाव करते हुए जावेद अख्तर के बयान को गलत बताया है.

दूसरी ओर, जावेद अख्तर के बयान को लेकर कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह ने उनका पक्ष लेते हुए कहा कि सभी को अपनी बात कहने का हक है, इसलिए वो इस पर कुछ नहीं कहेंगे.
(pnc report)