वायरल तमाशे के बीच संपन्न हुआ TET

बिहार में 6 साल के बाद आखिरकार दूसरी TET परीक्षा का आयोजन रविवार को हुआ. दिनभर प्रश्नपत्र और उत्तर वायरल होने की खबरों के बीच, BSEB के दावों के मुताबिक परीक्षा पूरी तरह कदाचार मुक्त हुई और सवाल-जवाब वायरल होने की खबरें पूरी तरह अफवाह निकलीं.




2 लाख 43 हजार छात्रों ने रविवार को बिहार के 348 परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा दी. दो पालियों में हुई परीक्षा के दौरान पटना के कई सेन्टर पर खुद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर लगातार व्यवस्था का जायजा लेते रहे और इस दौरान छात्रों के अटेंडेंस को लेकर वे खासे सजग दिखे. बता दें कि पहली बार इस परीक्षा में बायोमेट्रिक अटेंडेंस का प्रावधान किया गया था, जिससे एक छात्र की जगह दूसरे छात्र के परीक्षा देने की घटना पर पूरी तरह रोक लग सकेगी.

राज्यभर में परीक्षा के दौरान दो दर्जन से अधिक मुन्ना भाई पकड़े गए. पूर्व बिहार, कोसी और सीमांचल में 12 फर्जी परीक्षार्थियों को पकड़ा गया. मुंगेर में एक, सहरसा में 6, मधेपुरा में 3, कटिहार में 1 और बांका में 1 फर्जी परीक्षार्थी पकड़ा गया. इसके अलावा सहरसा में नकल कर रहे 2 परीक्षार्थी पकड़े गए.

BSEB अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि दोनों ही पालियों में अभ्यर्थियों को अनावश्यक रूप से परेशान करने के लिए असामाजिक तत्वों द्वारा सोशल मीडिया में फर्जी question papers को वायरल किया गया. अध्यक्ष ने ऐसे तत्वों के विरूद्ध FIR दर्ज करने का निर्देश दिया है तथा वरीय पुलिस अधीक्षक मनु महाराज को ऐसे तत्वों को चिन्हित करते हुए गिरफ्तार करने का आदेश दिया है.