25 जून को बिहार बंद… क्यों, जानने के लिए क्लिक करें

25 जून को बिहार बंद

लोकसभा चुनाव में अब एक साल से भी कम समय बचा है. ऐसे में राजनीति और बंद का दौर शुरू होने वाला है. ऐसे ही एक बंद की घोषणा की गई है 25 जून को. इस बंद की घोषणा की है जन अधिकार पार्टी (लो) ने. पार्टी के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा देने और विशेष पैकेज की मांग को लेकर पार्टी निर्णायक लड़ाई लड़ेगी.




एक प्रेस वार्ता में पप्पू यादव ने कहा कि पार्टी संपूर्ण क्रांति दिवस पर 5 जून को सभी जिला मुख्‍यालयों पर धरना देगी, 10 जून को रेल रोको आंदोलन करेगी और 25 जून को बिहार बंद किया जाएगा. सांसद ने कहा कि बिहार के बंटवारे के समय ही उन्‍होंने कहा था कि विशेष पैकेज के बिना बिहार का बंटवारा नहीं किया जाना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि आज के सभी प्रमुख नेता केंद्र में मंत्री रह चुके हैं और बड़ी जिम्‍मेवारियों का निर्वाह कर चुके हैं. लेकिन किसी ने विशेष राज्‍य के लिए कोई कोशिश नहीं की. ये सभी बिहार की 11 करोड़ जनता के गुनाहगार हैं.

पप्पू यादव ने कहा कि 2019 और 2020 के चुनाव को लेकर धार्मिक व जातीय उन्‍माद की राजनीति की शुरुआत की जा रही है. अब रामायण सर्किट के नाम पर धार्मिक ध्रुवीकरण किया जा रहा है. उन्‍होंने कहा कि रामायण सर्किट से पहले रामायण लिखने वाले वाल्‍मी‍कि सर्किट का निर्माण किया जाना चाहिए.

प्रेस वार्ता में पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष रघपुति प्रसाद सिंह, राष्‍ट्रीय महासचिव सह प्रवक्‍ता राघवेंद्र सिंह कुशवाहा, प्रेमचंद सिंह, राष्‍ट्रीय महासचिव मंजय लाल, राजेश रंजन पप्‍पू, अकबर अली परवेज, अवेधश कुमार लालू आदि मौजूद थे.

राजेश तिवारी