निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मी करेंगे आंदोलन

 5 हजार से ज्यादा बैंक शाखाओं का शटर रहेगा डाउन
16 और 17 दिसंबर को बिहार में बैंकों की होगी हड़ताल
18 को शनिवार और 19 को रविवार को हैं छुट्‌टी

बैंकों में कोई काम है तो 15 दिसंबर से पहले निपटा लें, नहीं तो 4 दिनों तक काम काज प्रभावित होगा. बिहार में बैंकों में हड़ताल की बड़ी तैयारी है. इसके लिए 16 और 17 दिसंबर की तारीख निश्चित की गई है. लेकिन 18 दिसंबर को शनिवार और 19 को रविवार है. जिससे 4 दिनों तक बैंक में कामकाज प्रभावित होगा. सोमवार को 20 दिसंबर को बैंक की शाखाएं तो खुलेंगी लेकिन 4 दिन  की छुट्‌टी के बाद इतनी भीड़ होगी कि आसानी से कामकाज नहीं हो पाएगा.


बिहार पूर्वांचल बैंक इंप्लाई एसोसिएशन के डिप्टी जनरल सेक्रेटरी संजय तिवारी का कहना है कि केंद्र सरकार सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को निजी हाथों में सौंपने के लिए बैंकिंग कानून संशोधन विधेयक 2021 संसद के वर्तमान सत्र में पारित कराना चाहती है, जिससे निजीकरण का रास्ता प्रशस्त हो जाएगा. दूसरी और यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन से जुड़े संगठनों के अधिकारी और कर्मचारी सरकार के निर्णय के खिलाफ हैं. इस बात के लिए पूरी तरह लामबंद है कि राष्ट्रीयकृत बैंकों का निजीकरण किसी भी सूरत में नहीं करने दिया जाए.
बिहार स्टेट इलाहाबाद स्टाफ एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी उत्पलकांत का कहना है कि निजी करण के खिलाफ राष्ट्रीयकृत बैंक में बड़ा आक्रोश है. सरकार की नीति के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा. यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस ने 3 दिसंबर से आंदोलन की शुरुआत कर दी है तथा 16 और 17 दिसंबर को दो दिवस की देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया गया है.




PNCDESK #biharkikhabar ये भी पढ़े –‘प्रवचन देने लगता है सब’- सीएम नीतीश