अवैध रूप से चल रहे हॉस्पीटल ने ली एक जान

पहले भी हुई  है इस तरह की कई मौतें

प्रशासन ने न तो FIR किया और न ही कराया पोस्टमार्टम




2 घंटे हंगामे से रोड हुआ जाम

pnc-ar

आरा के नवादा थाना क्षेत्र के चंदवा के समीप स्थित हैरिसन हॉस्पीटल में लापरवाही से हुई एक मरीज की मौत ने अवैध रूप से चल रहे इस निजी हॉस्पीटल के हकीकत की कलई खोल दी है. इस निजी हॉस्पीटल में इलाजरत उदवंतनगर निवासी पार्वती देवी का इलाज शुक्रवार को उनके परिजन कराने गए थे जहाँ उनकी मृत्यु हो गयी. इलाजरत मरीज की मौत के बाद उनके परिजनों के द्वारा काफी हो हल्ला मचाया गया. लोगों ने हंगामा करते हुए लगभग 2 घंटे तक रोड जाम भी की गईं थी. परिजनों का आरोप था कि हॉस्पिटल के बोर्ड पर 24 घंटे इमेरजेंसी सेवा लिखा गया है,लेकिन यहाँ कोई डॉक्टर रहते नहीं हैं बल्कि मरीज आने के बाद उन्हें फ़ोन कर इलाज के लिए बुलाया जाता है. बोर्ड पर 4 डॉक्टर का नाम है लेकिन उनमें से कोई डॉक्टर वहां मौजूद नहीं रहते. स्थानीय निवासी के द्वारा यह भी कहा जा रहा था कि इस हॉस्पीटल का कोई भी निबंधन भी नहीं है और थोड़ा भी गंभीर मरीज यहाँ आ जाते हैं तो स्वर्ग सिधारने के पश्चात ही यहाँ से बाहर निकलते हैं. हॉस्पिटल की सच्चाई जो भी हो लेकिन शहर में इस तरह के कई हॉस्पीटल और भी है. शहर में कई अन्य निजी हॉस्पीटल भी इसी नक़्शे कदम पर काम करते हैं, जहाँ बिना लाइसेंस और डॉक्टर के राम भरोसे मरीजों की जिंदगी चलती है.

पार्वती देवी की मृत्यु के पश्चात जब हो-हल्ला और हंगामा हो रहा था तो दो पक्षों के बीच जमकर पुलिस प्रशाशन के सामने ही लाठी चली थी. उसके बाद सदर अस्पताल में कोई पोस्टमार्टम भी नहीं कराया गया और ना ही इस घटना की प्राथमिकी दर्ज हुई. क्या मामले में रूपये पैसे लेकर के मामले को रफा दफा कर दिया गया यह एक यक्ष प्रश्न है. सूत्रों की माने तो इस हॉस्पीटल को यहां के एक दबंग ब्यक्ति का समर्थन प्राप्त है.

आखिर नवादा थाना की पुलिस ने पोस्टमार्टम और प्राथमिकी इस मामले में क्यों नहीं दर्ज की यह भी एक जांच का विषय है?

2 घंटे तक पुलिस ने रोड जाम को छुडाने में मशक्कत की लेकिन न तो पोस्टमार्टम के लिए कोई कदम उठाया और ना ही कोई प्राथमिकी दर्ज की. इस मामले पर सीएस का कहना है कि वो एक टीम गठित कर निजी हॉस्पिटल की निरिक्षण एवम कार्रवाई करेंगे, लेकिन सारा दावा हवा-हवाई हो गया. हॉस्पिटल अभी भी खुला हुआ है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. फिर से जानकारी के अभाव में किसी की जान जाएगी तो शायद….

रिपोर्ट- आरा से ओपी पांडे