और जब राबड़ी देवी ने बांधी अपने भाई की कलाई पर राखी

एक दशक से राबड़ी देवी रक्षाबंधन के दिन डॉ. सुनील कुमार सिंह को ही बांधती हैं राखी

डॉ सुनील कुमार हैं बिस्कोमान के अध्यक्ष और विधान पार्षद




दुनिया में सबसे पवित्र रिश्ता में शुमार है भाई-बहन का पवित्र रिश्ता, और इस रिश्ते का मान निभाने वाले लोग सच में दुनिया की नजर में महान होते हैं जो भले एक माता पिता के उत्पन्न संतान नहीं हो पर अपने रिश्ते की मधुर डोर को आजीवन पूरी तन्मयता के साथ निभाते हैं.बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के धर्म भाई डॉक्टर सुनील कुमार सिंह वर्तमान में राजद के विधान पार्षद हैं व बिस्कोमान के चेयरमैन. अपने भाइयों से अनबन होने के बाद पिछले एक दशक से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी रक्षाबंधन के दिन डॉक्टर सुनील कुमार सिंह को ही राखी बांधती है.

डॉक्टर सुनील कुमार सिंह भी इस रिश्ते का मान बरसों से रखते आ रहे हर परिस्थितियों में छाया की तरह लालू राबड़ी परिवार के संग रहते हैं जो भी जिम्मेवारी परिवार और पार्टी में इन्हें सौंपी जाती है पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ उसे निभाते हैं. इसी कारण कई बार विरोधियों के निशाने पर भी होते हैं पर इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता. लालू परिवार के सबसे भरोसेमंद चेहरे में शुमार डॉक्टर सुनील कुमार सिंह बिना किसी पद या लालच के इस परिवार के साथ रिश्तों की डोर में बंधे हैं. प्रतिवर्ष इनकी हाथ पर जब राबड़ी देवी राखी का पवित्र बंधन बांधती है तो सुनील कुमार सिंह अपनी बहन को वचन देते हैं कि जब तक इस शरीर में जान है तब तक आपका यह भाई हर परिस्थिति में आपके लिए हाजिर होगा.

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के मुंह बोले भाई ने बिना किसी स्वार्थ के राजद परिवार और पार्टी के लिए अपना जीवन समर्पित किया है. समर्थक हो या विरोधी सभी मानते हैं कि सुनील कुमार सिंह जमीन से जुड़े आदमी है जब भी मिलिए पूरी ऊर्जा और उत्साह से मिलते हैं सामने वाले को जरूर प्रभावित करते हैं. राजनीति में रहकर भी पद पावर के लोभ से दूर सी अभी तक रहते आए पार्टी के प्रति उनकी निष्ठा को देखते हुए पिछले वर्ष उन्हें विधान पार्षद बनाया गया था संगठन में उन्हें कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है पार्टी के अधिवेशन व अन्य कार्यक्रमों की कमान भी उन्हें सौंपी जाती है जिसका वह पूरी ईमानदारी से निर्वहन करते हैं.

PNCDESK