पावर वुमन ऑफ बिहार अवार्ड से 40 माताएं सम्मानित




पावर वुमन ऑफ बिहार अवार्ड -2022  से सम्मानित हुई बिहार की 40  महिलाएं

आकाश से उंचा है मां शब्द – तारकिशोर प्रसाद

मदर्स डे के अवसर पर नारी नीति फाउंडेशन इंडिया एवं ब्रांड एनसी के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को बीआईए हॉल में पावर वुमन ऑफ बिहार अवार्ड -2022 का आयोजन किया गया. कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, मुख्य अतिथि पंचायती राज मंत्री, सम्राट चौधरी, खाद एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री,  लेसी सिंह, उद्योग विभाग के विशेष सचिव दिलीप कुमार, आचार्य सुदर्शन कृष्णा निकेतन के डॉ. कुमार अरुणोदय, माया शंकर, समीर परिमल, सेवानिवृत्त आईपीएस प्राणतोष दास, डॉ. हिमांशु गर्ग, नीतीश चन्द्रा ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्जवलित कर किया. इस अवसर पर दैनिक जागरण आई नेक्स्ट के संपादकीय प्रभारी मोनीषा दुबे सहित 40 माताओं को सम्मानित किया गया.

पावर वुमन ऑफ बिहार अवार्ड से माताओं को सम्मानित करते हुए उपमुख्य मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि मां शब्द आकाश से उंचा है. मां के बिना सबकुछ अधूरा है. सम्राट चौधरी ने बताया कि मां की ममता जिसको मिलता है उसे धरती पर जन्नत मिल जाता है. दिलीप कुमार ने कहा कि मानव जाति की कल्पना मां के बिना संभव नहीं है. डॉ. कुमार अरुणोदय ने कहा कि काव्य जहां से निकलता वो मां है. पीके दास ने कहा कि सृष्टि का संचार मां शब्द से होता है. मां के बिना दुनिया अधूरा है.लेसी सिंह ने कहा कि मां के बिना मानव जाति की कल्पना करना संभव नहीं है. क्योंकि मां के बिना सृष्टि अधूरा है.

आगत अतिथियों ने  अलग – अलग विधाओं में महारत हासिल करने वाली 40 महिलाओं को अंगवस्त्र, मोमेंटो एवं पौधा देकर सम्मानित किया गया.अतिथियों ने बिहारवासियों को मदर्स डे की शुभकामनाएं देते हुए सम्मानित होने वाली सभी महिलाओं के उज्जवल भविष्य की कामना की। कार्यक्रम आयोजक एवं देश के प्रख्यात फैशन डिजाइनर नितीश चंद्रा ने कहा कि पावर वुमन ऑफ बिहार अवार्ड प्यार और त्याग की मूरत कहे जाने वाली सभी माताओं को समर्पित है।

उन्होंने बताया कि आज हमने पूरे बिहार से ऐसी 40 महिलाओं को सम्मानित किया है जिन्होंने अपने दम पर एक अलग मुकाम हासिल किया है, समाज के लिए प्रेरणादायी काम किया है और अपने कार्यक्षेत्र में एक कीर्तिमान स्थापित किया है। इस कार्यक्रम के आयोजन का मुख्य उद्देश्य संपूर्ण नारी समाज को सकारात्मक सन्देश देना व उनके सपनों को नए पंख देना है। महिला हमेशा से पूजनीय रही है, हमें उनका सम्मान करना चाहिए।

नितीश चंद्रा ने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से हम सम्पूर्ण नारी समाज को यह बताना चाहते हैं की नारियां खुद सक्षम और काबिल है अपने कार्यों को अच्छे ढंग से करने के लिए. उन्हें किसी सहारे की जरूरत नहीं, बस कमी है अपने अंदर छुपे हुए प्रतिभा को पहचानने की. कार्यक्रम को सफल बनाने में रितेश चौधरी, दिव्या सिंह, गौरव, संजय चौधरी, मुकेश सहित अन्य लोगों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

सम्मानित होने वाली महिलाओं में सोमा चक्रवर्ती, मोनिशा दुबे,डॉ. खुशबू, इश्मीत चावला, आरजे सुरभि, दिव्या सिंह, प्रीती भलोटिया, हिमानी मिश्रा, सुषमा साहू, डॉ.पल्लवी विश्वास, शारदा नितीश सिंह, निशा डिडवानिया, पल्लवी सिन्हा, स्वेता सिंह, डॉ. नाजिया तबस्सुम, निशा सिंह, प्रियदर्शनी त्रिवेदी, जिया गोस्वामी, डॉ. सुखप्रीत कौर, विशाखा कुमारी, पल्लवी मिश्रा, डॉ. बिन्दा सिंह, सागरिका चौधरी, अनमोला कुमारी, अमृता भूषण, रंभा झा, प्रिया पांडेय, सरिता मिश्रा, अंजलि राज, आरती सिंह, कंचन नाथ, कोमल, स्मिता गुप्ता, स्मिता पराशर, अर्चना वर्मा, पवनप्रीत कौर, सुष्मिता रॉय, डॉ. अचला वर्मा, शिवांगी कुशल सराफ, ज्योत्सना प्रियर्दर्शी शामिल थी.

PNCDESK