क्या हुआ जब पढ़ाई छोड़ डांस करने लगी शिक्षिकाओं के संग छात्राएं ?

तक्षशिला कॉलेज ऑफ़ एजुकेशन में सावन महोत्सव में जमकर थिरकी शिक्षिकाएं और छात्राएं
नन्ही नन्ही बुंदियाँ पड़े भींगे राधा रानी रास रचाए श्याम करे मनमानी

फुलवारी शरीफ, 3 अगस्त. शनिवार को सावन माह की महक से गुलजार हो उठा फुलवारी शरीफ का तक्षशिला कॉलेज ऑफ़ एजुकेशन का कैम्पस. मौक़ा था सावन महोत्सव का तो ऐसे में छात्राओं के साथ ही हरे रंग में रंगी शिक्षिकाएं भी जमकर थिरकने से अपने को रोक नही पायी. सभी शिक्षिकाएं और छात्राएं हरी रंग की साड़ियां और हरी रंग चूड़ियां पहन कर आई थीं.




नन्ही-नन्ही बुंदियाँ पड़े भींगे राधा रानी रास रचाए श्याम करे मनमानी , याद पिया की आने लगी हाय भींगी भींगी रातों में , मेहंदी लगा के रखना डोली सजा के रखना ,सावन में न आये पिया धक् धक धडके मोरा जिया ,सावन का महीना झूले राधा नन्दकिशोर ,झुला तो पड गये अम्बुआ के डाल पे आदि सावन के गीतों में एक से बढ़कर एक प्रस्तुति से कॉलेज कैम्पस सावनमय होकर झुमने लगा. वहीँ सुनो सुनो एक बात सुनो, सब जन मिलकर आगे आओ- बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ नारे के साथ छात्राओं ने जागरुकता गीत भी पेश किया. कार्यक्रम में गायन, नृत्य और विभिन्न प्रकार के खेल का आयोजन किया गया.

कार्यक्रम के दौरान शामिल सभी लोगों के चेहरे पर खुशी देखते बन रही थी. कार्यक्रम की सफलता को लेकर निदेशक एकबाल हसन , डॉ सविता सिन्हा का काफी योगदान रहा. कार्यक्रम में कॉलेज के सभी फैकल्टीज समेत कर्मचारी गन भी मौजूद रहे.

फुलवारी से अजीत की रिपोर्ट