तो किसने बचाया कई गॉंव?


सैकड़ो बीघा के फसल हुए राख, खेतो में लगे बोरिंग ने बचाये कई गाँवwe

Hi hh hi 7आरा, 28 अप्रैल. चैत महीने में गर्मी की तपिश ने भीषण आग का  तांडव दिखाते हुए लाखों के फसलों को नुकसान कर दिया है. अभी कुछ दिन पहले ही ऐसे ही हुई आगलगी में कसाप के बाधार में सैकड़ो बीघे में लगे गेंहू की फसल आगलगी की भेंट चढ़ गया था. हफ्ते दिन के भीतर ऐसी दूसरी घटना भोजपुर जिले में घटित हुई है.




रविवार को सदर प्रखंड अंतर्गत  पिरौटा ,नागोपुर,चौमुखा के अलावा निर्मलपुर, सैदपुर, और महुली के बधार में आग लगने से   किसानों को भारी नुकसान हुआ है. आग लगने का कारण अभी तक पता नही चला है. पिरौटा गांव के बाधार से निकलते धुँए के दृश्य को देखकर जाप युवा जिला अध्यक्ष रघुपति यादव अपने दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुँच पर काबू पाने  के लिए जोर-शोर से लगे  रहे. रघुपति यादव ने सबसे पहले जिला प्रशासन व फायरब्रिगेड को फोन पर सूचनाएं दी. आग इतना प्रचंड था कि वह तेजी से कई गांव की ओर बढ़ने लगा जिसे स्थानीय ग्रामीणों व फायरब्रिगेड  की तीन गाड़ियों की मदद से बुझाया गया. आग पर काबू पाने में सबसे ज्यादा कारगर जगह-जगह लगे बोरिंग साबित हुए, जिसे  चलाकर, स्थानीय लोगो ने आग पर काबू पाया. आगलगी वाले घटना स्थलों का  स्थानीय प्रशासन ने दौरा किया जिसमें SDO अरुण प्रकाश, BDO, CO, पिरौटा पंचायत मुखिया पति व  पूर्व बिजय यादव, घटना स्थलों पर मौजूद रहे तथा विजय यादव ने जिला प्रशासन से किसानों को हजारों बोझा व सैकड़ो फसल जलकर राख होने पर मुआवजे की माँग किया है.

विभिन्न गांवो के बधारो में एक ही दिन में एक ही समय मे अगलगी से सैकड़ो बीघा में लगे फसल जलकर राख हो गया,जिससे किसान के चेहरे मायूस हो गए. लेकिन जिस हिम्मत और आपसी सहयोग से स्थानीय लोगों ने आग पर काबु पाया उससे कई गाँव आग की चपेट में आने से बाल-बाल बच गये.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट