महिला दिवस पर महिला शक्ति का मिला साथ

अनशन की बागडोर छठे दिन महिला शक्ति के हाथमहिला दिवस पर विवि को बचाने आगे आईं शाहाबाद की बेटियाँकल होगी कुलपति और जिलाधिकारी के साथ समन्वय समिति की वार्ता आरा, 8 मार्च(रवि प्रकाश सूरज). लीड संगठन के सदस्य अनिरूद्ध सिंह के आमरण अनशन के छठवें दिन विवि को बचाने की लड़ाई में शाहाबाद की 4 बेटियाँ और विवि की छात्राएं संध्या सिंह, सोनाली कुमारी, सुरभि लता और रूपाली कुमारी भूख हड़ताल पर बैठी. इनके अलावा आज छात्राओं स्नेहा कुमारी, अंकिता सिंह, प्रिया कुमारी ने भी अनशनस्थल पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई. आज छठे दिन अनिरुद्ध का रक्तचाप अब तेजी से गिर रहा है और इसको देखते हुए लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी की कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पारित किया कि अनिरुद्ध सिंह के साथ अप्रिय घटना हुई तो लीड सदस्य अमित सिंह गौतम इस आन्दोलन के नेतृत्व को निर्णायक बिंदु तक ले जाएंगे. इसी बीच अब इस आमरण अनशन को छात्र राजद का समर्थन मिल जाने से प्रशासन पर दबाव बढ़ गया है. विवि प्रशासन ने अनशन तोड़ने की गुजारिश की एक महत्त्वपूर्ण घटनाक्रम में कुलपति देवी प्रसाद तिवारी के साथ विवि के रजिस्ट्रार कैप्टेन श्रीकृष्ण सिंह, सीसीडीसी हीरा प्रसाद, छात्रकल्याण डीन के के सिंह और पूर्व परीक्षा नियंत्रक रामतवाक्या सिंह आज शाम अनशनस्थल पर आए और छात्रों से आमरण अनशन तोड़ने की गुजारिश की. लीड कार्यकारिणी सदस्यों ने इस मुद्दे पर समन्वय समिति बनाकर कुलपति के साथ कल वार्ता करने का प्रस्ताव रखा जिसे विवि ने मंजूर कर लिया। कुलपति ने छात्रों के साथ जिलाधिकारी को भी

Read more

…तो सिर्फ सोशल मीडिया तक ही “महिला दिवस” की सार्थकता !

पोस्टरों में जिन्हें समानता नही उनके जीवन मे कैसे आएगी समानता ? आरा, 8 मार्च. आज विश्व महिला दिवस है जिसपर अहले सुबह से ही सोशल मीडिया पर तमाम तरह के मैसेजेज और पोस्ट देखने को मिल रहे हैं. सोशल मीडिया अंधाधुंध पोस्ट शेयर की जैसे बाजी लगी हो वैसा प्रतीत हो रहा है. कोई किसी के मैसेज को फारवर्ड कर रहा है तो कोई शेयर कर रहा है. कोई कॉपी-पेस्ट से काम चला रहा है तो कोई सहित्यिक किताबो के पन्ने पलट अच्छी लाइनें खोज प्रभावी बातों को शेयर करने के लिए माथापच्ची कर रहा है. इन सबके बीच एक युवा और ऊर्जावान समाजिक कार्यकर्ता है जो बातें कम और काम पर अपने ध्यान को केंद्रित रखता है उसने बातें महिला दिवस को लेकर लिखी है। ऊर्जावान और युवाओं के बीच अपने कार्यों को लेकर चर्चित युवा कोई और नही बल्कि जिले के ही शैलेश कुमार राय हैं. शैलेश को सामाजिक कार्य के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री तक ने सम्मानित किया है. आइये जानते हैं क्या सोचते हैं शैलेश महिलाओं के लिए और उनके बारे में जो सालों तक चुप्पी के बाद सिर्फ महिलाओं के दिवस के दिन उनका हितैषी बनकर सोशल मीडिया पर मैसेजासुर बन जाते हैं. आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है,सुबह से ही सोशल मीडिया पर अनेकों शेरो-शायरी के साथ शुभकामनाएं मिल रहे है,अच्छा लगता है देखकर आज व्यस्ततम भरे दौर में हम कम-से-कम दिवसों को सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से मना कर अपनी प्रवृत्ति जाहिर कर देते है. लेकिन आज महिला दिवस है और सोशल मीडिया

Read more