’31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की मांग’

पीएम के साथ वीसी में हुई डिमांड कोरोना वायरस से सुरक्षा एवं बचाव पर आयोजित आज प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार शामिल हुए. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम सेअपने संबोधन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में केंद्र, राज्य सरकार के सामूहिक प्रयास की सराहना की. उन्होंने कहा कि इस संकट के समय राज्यों नेे भी अपनी जिम्मेवारी का बेहतर ढंग से निवर्हन किया है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यो, लॉकडाउन के दौरान छट में किये जा रहे रोजगार सजन के कार्यों एवं कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थितिके साथ-साथ तथा भविष्य की रणनीति पर विस्तृत चर्चा की गई. मुख्यमंत्री नीतीश कमार ने अपने संबोधन में सभी लोगों का स्वागत करते हुये कहा कि आज की इस चर्चा में बहुत सारी बातें सामने आयी हैं. उन्होंने कहा कि बिहार के संबंध में हमआप सभी को जानकारी देना चाहते हैं कि देश के अन्य हिस्सों से एवं विदेशों से आने वाले लोगों के कारण बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 700 से ज्यादा हो गयी है. अभी भी लोग बाहर से आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि 4 मई से 10 मई के बीच 1 लाख से ज्यादा लोग आये हैं. उनमें 1,900 लोगों की रैडम टेस्टिंग करायी गयी है, जिसमें 148 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों, छात्रों जरूरतमंदों को ट्रेनों से लाने की अनुमति देने

Read more

4 घण्टे तक VC को छात्र अध्यक्ष ने बनाया बंधक

स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा लगाने की घोषणा नही करने से थे नाराज छात्र प्रभारी कुलपति ने कहा 5 फरवरी को करेंगे मूर्ति लगाने की सार्वजनिक घोषणा आरा. विवेकानंद जयंती शनिवार को विभिन्न संगठनों सहित विश्वविद्यालय में भी विवेकानंद की जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई. विवेकानंद जयंती को युवा दिवस के रूप में हर वर्ष विभिन्न संगठन मनाते रहे है. युवाओं के लिए आदर्श के रूप में माने जाने वाले विवेकानंद की जयंती कुछ खास थी क्योंकि पूर्व से ही इस निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार इस वर्ष वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति नंदकिशोर साह विवि कैम्पस में स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा लगाने की घोषणा करने वाले थे, लेकिन घोषणा तो दूर जब वे इस कार्यक्रम में ही अनुपस्थित हुए तो छात्रसंघ अध्यक्ष अमित कुमार सिंह और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने प्रभारी कुलपति को उनके चैंबर में 4 घंटे तक बंधक बनाया. छात्रसंघ अध्यक्ष का आरोप है कि प्रभारी कुलपति हर बार अपने वादे से मुकर जाते हैं. पहले से तय किए कार्यक्रम के बाद भी वे विवेकानंद जैसे आदर्श पुरुष जो युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत है उनकी मूर्ति विश्वविद्यालय में लगाने की घोषणा करने नहीं आना उनकी नीयत को दर्शाता है. छात्र अध्यक्ष ने कहा कि इस मूर्ति के लिए छात्रसंघ कोष से ही राशि देने की उन्होंने बात कही थी. विश्वविद्यालय से कोई अतिरिक्त राशि की डिमांड नहीं की गई थी बावजूद इसके कुलपति को घोषणा करना नागवार गुजरा और वे कार्यक्रम में ही नहीं आए. इसी बात से गुस्साए छात्रों ने उन्हें

Read more

… तो इस वजह से VKSU VC ने दिया इस्तीफा

VKSU के वीसी ने भ्रष्टाचारियों से क्षुब्ध हो दिया इस्तीफा राजभवन ने किया नामंजूर वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति ने क्षुब्ध होकर अपने पद से आज इस्तीफा दे दिया जिसके बाद दिनभर गहमा गहमी की स्थिति बनी रही. पूरे दिन कुलपति से लोक संपर्क करते रहे लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया. विश्वविद्यालय पर संकट का बादल कब खत्म होगा जब शाम होते ही यह खबर आई आई यह खबर आई की उनके इस्तीफे को राजभवन ने नामंजूर कर दिया है. हालांकि कुछ छात्र संगठन और छात्र नेता दिन में ही इस बात के कयास लगा रहे थे कि वर्तमान वीसी का इस्तीफा मंजूर नहीं हो पायेगा. NSUI के वर्तमान जिलाध्यक्ष दुलदुल सिंह उर्फ मनीष सिंह ने पटना नाउ को बताया कि इस्तीफा जबतक मंजूर न हो जाये तबतक नामंजूर ही समझा जाता है और उन्हें विश्वास है कि कुलपति के कार्यों की रूपरेखा देखकर राजभवन ऐसा निर्णय कभी नहीं लेगा.   वही कुलपति से संपर्क नहीं होने के बाद रजिस्ट्रार और परीक्षा नियंत्रक से भी पटना नाउ ने कई बार संपर्क करना चाहा लेकिन किसी ने इस दरमियान फोन उठा कर जवाब देना मुनासिब नहीं समझा. इस दरमियान जब NSUI के पूर्व जिलाध्यक्ष के पूर्व जिलाध्यक्ष अभिषेक द्विवेदी से मामले के बारे में पटना नाउ ने जानने की कोशिश की तो उन्होंने बताया कि VC विश्वविद्यालय में कार्यरत भ्रष्ट कर्मियों और शिक्षकों से त्रस्त हैं. कुलपति सैयद मुमताजुद्दीन की छवि स्वच्छ और पारदर्शिता वाली है लेकिन उनकी छवि को भ्रष्ट कर्मी नहीं रखना चाह रहे हैं. ऐसे कर्मियों से तरसकर

Read more