गोपालगंज गोलीकांड मामला: पटना में दिन भर चला हाई वोल्टेज ड्रामा

तमाम कोशिशों के बावजूद पटना से नहीं निकल पाए तेजस्वी विपक्ष के पास एक बड़ा मुद्दा मिला है गोपालगंज गोलीकांड के रूप में. एक तो अपराध का मामला दूसरा गोपालगंज में एक खास जाति से जुड़ा. पूरी तैयारी कर रखी थी तेजस्वी यादव ने अपने विधायकों के साथ गोपालगंज कूच करने की. पिछले कुछ दिनों से तेजस्वी यादव सरकार से जदयू विधायक पप्पू पांडे की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. उन्होंने सरकार को गुरुवार शाम तक का अल्टीमेटम दिया था. जब अल्टीमेटम पूरा हुआ और आरोपी जदयू विधायक की गिरफ्तारी नहीं हुई तो तेजस्वी ने अपने सभी विधायकों को पटना बुला लिया और यहां से उनके साथ गोपालगंज जाने की तैयारी में थे. लेकिन प्रशासन ने उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी. लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन का हवाला देते हुए जिला प्रशासन ने नेता प्रतिपक्ष के अनुरोध को ठुकरा दिया. राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर सुबह से ही विधायकों का जमावड़ा लगा था और उसके बाद तेजस्वी यादव तेज प्रताप यादव और राबड़ी देवी अपनी अपनी गाड़ी में बैठ कर घर से बाहर निकल गए. लेकिन पुलिस और प्रशासन ने पूरी तैयारी कर रखी थी उन्हें बाहर नहीं निकलने दिया गया. स्पीकर से मिलकर की विशेष सत्र बुलाने की मांग दिनभर हाई वोल्टेज ड्रामा चला. मीडिया के सामने राजद के नेता,विधायक, तेजस्वी, तेजप्रताप सभी चीखते चिल्लाते रहे. लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ. आखिरकार तेजस्वी ने स्पीकर से मिलने की डिमांड कर दी. स्पीकर से मिलने के लिए सिर्फ 3 लोगों को इजाजत मिली जिसके बाद तेजस्वी

Read more

आखिरकार दिल्ली से लौट आए तेजस्वी

सोमवार की रात घर पहुंचे तेजस्वी विपक्ष की भूमिका पर लगातार उठ रहे सवालों के बीच आखिरकार पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पटना लौट आए हैं. लॉक डाउन की वजह से वे मार्च महीने से ही दिल्ली में फंसे हुए थे. लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने आज सुबह राबड़ी देवी के सरकारी आवास में तेजस्वी यादव से मुलाकात करने के बाद मीडिया को बताया है कि नेता प्रतिपक्ष विशेष अनुमति लेकर दिल्ली से पटना आए हैं. माना जा रहा है कि तेजस्वी 14 दिन के होम कोरेंटाइन में रहेंगे. राजेश तिवारी

Read more

गुजरातियों के लिए डीलक्स बस और बिहारियों के लिए साधारण ट्रेन भी क्यों नही!

पटना, 15 अप्रैल. बिहार से बाहर फंसे मजदूरों को लेकर विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव बहुत दुखी हैं और उन्होंने उन्हें उनके घरों तक भेजने के लिए सरकार से गुहार लगाई है. उन्होंने कहा कि प्रवासी मज़दूर भाईयों के Video देखकर दुःखी हो गया। कमजोर, मज़दूर और मज़लूम वर्ग का सूरत और मुंबई में अपने घर लौटने के लिये सड़क पर उतरना सरकार की असंवेदनशीलता को दर्शाता है. सरकार ग़रीब मज़दूर बंधुओं को उनके घर तक सकुशल पहुँचाने की व्यवस्था क्यों नहीं कर पा रही है? जैसे विदेशों से जो लोग आए उनकी स्क्रीनिंग कर उन्हें अपने घर तक पहुँचाया गया उसी तरह देश के सभी ग़रीब प्रवासी लोगों की स्क्रीनिंग कर उन्हें भी अपने घर भेजा जाइए. एक छोटे से रूम में 20 से अधिक ग़रीब मज़दूर रहते है। क्या सरकार नहीं जानती वहाँ कैसी Physical Distancing है? 100 मज़दूर एक शौचालय का प्रयोग करते है। अगर उन्हें देश भर में खड़ी रेलगाड़ियों में Physical Distancing का ख़्याल रखकर वापस घर भेज दिया जाए तो क्या दिक्कत है? हमारे कार्यालय से दिनभर में हज़ारों मज़दूरों से बात कर उनकी मदद की जा रही है। अब उनके पास पैसा, राशन-पानी कुछ नहीं है। जिनके पास है वो भी अपने घर जाना चाहते है। इस देश में अमीर और ग़रीब के लिए अलग-अलग क़ानून नहीं हो सकता? बिहार सरकार तुरंत गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब सरकारों से बात कर सभी बिहारियों को वापस लाएँ। संकट की घड़ी में हम उन्हें ऐसे नहीं छोड़ सकते। यह सरकार की नैतिक ज़िम्मेवारी है। दिल्ली

Read more

हे सरकार, सुनो तेजस्वी की पुकार

वक़्त की दरकार, जनहित में हमारी पुकार:- अधिक से अधिक जाँच केंद्र स्थापित करे बिहार सरकार. पहले कम से कम हर प्रमंडल और फिर ज़िला में जाँच केंद्र हो. हॉट स्पॉट्स पर अधिक से अधिक लोगों का टेस्ट किया जाए. रैंडम टेस्ट किए जाए. स्वास्थ्यकर्मियों को पर्याप्त जाँच व सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए सरकार जांच केंद्रों में तत्काल सारी सुविधा पहुँचे. पर्याप्त वेंटीलेटर की व्यवस्था हो. किसानों को क्षतिग्रस्त फ़सल का मुआवज़ा यथाशीघ्र मिले तीन माह के बिजली बिल माफ़ हो छात्रों की तीन माह की फ़ीस माफ़ हो ग़ैर-राशन कार्डधारियों को भी आर्थिक सहायता मिले प्रवासी कामगारों तक राशन-भोजन की व्यवस्था हो बेरोज़गारों को विशेष आर्थिक सहायता भत्ता मिले जनप्रतिनिधियों के अलावा उच्च अधिकारियों के वेतन में भी कटौती हो ग़रीबों और प्रवासी मज़दूरों के राशन एवं राशि भुगतान में किसी प्रकार की अनियमितता नहीं हो प्राथमिकता पर इसमें पारदर्शिता सुनिश्चित की जाए.

Read more

‘संसदीय परंपरा और नैतिकता के विरूद्ध है ये बजट’

केंद्रीय बजट को लेकर बिहार में विपक्ष ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि अंतरिम बजट के नाम पर मोदी सरकार ने गैरसंवैधानिक पूरा बजट पेश किया है. जो भी घोषणाएँ है उन्हें आगामी सरकार ने लागू करना है। यह जनता के साथ छलावा है. अगर जनता की इतनी ही फ़िक्र थी तो विगत 5 साल से क्या पकौड़े तल रहे थे? तेजस्वी यादव ने कहा कि अंतरिम बजट में पूरी तरह से दूरदर्शिता का अभाव है, चुनावी भाषण से अधिक कुछ नहीं, अपनी योजनाओं का बखान और अपने कार्यकाल के बाहर के सपने ही दिखाए गए- किसानों की आय बढ़ाने, कृषि को मुनाफे की ओर ले जाने का कोई रोडमैप नहीं दिखा. कृषकों की आय को दुगना करना इस सरकार के पूरे कार्यकाल में एक जुमला ही सिद्ध हुआ. सिंचाई और किसानों के लिए बिजली की बात, उर्वरकों व खादों के बढ़ते दामों से निपटने के बात को नजरअंदाज कर दिया गया. फसल बीमा योजना की विफलता को भी सफलता सिद्ध करने की ज़िद में सरकार. ₹500/माह की राशि किसानों के साथ एक मजाक है. शिक्षा व स्वास्थ्य क्षेत्रों की पूर्णतः अनदेखी की गई है। रोजगार के सृजन जैसे गम्भीर मुद्दे पर बजट विज़न विहीन है. दलित, पिछड़ों व अन्य कमज़ोर वर्गों के उत्थान, उनके लिए स्कॉलरशिप योजना इत्यादि का कोई उल्लेख नहीं. OROP के तथाकथित समाधान से पूर्व सैनिक नाखुश फिर भी सरकार कर रही है अपनी वाहवाही.

Read more

क्या स्थापना दिवस समारोह में शामिल होंगे तेजप्रताप!

राजद आज अपना 22वां स्थापना दिवस मना रहा है. इस मौके पर पार्टी के पटना स्थित ऑफिस में समारोह का आयोजन किया गया है. ये पहली बार है जब लालू यादव अपनी पार्टी के स्थापना दिवस समारोह में शामिल नहीं होंगे. लालू फिलहाल मुंबई में अपना इलाज करा रहे हैं. इस बीच राजद परिवार में एका रखने की कवायद जारी है. आज सभी नजरें इस ओर होंगी कि तेजप्रताप इस समारोह में शामिल होंगे या नहीं. दो दिन पहले पार्टी की ओर से जारी मीडिया के आमंत्रण में तेजप्रताप का नाम नहीं होने को लेकर काफी बवेला मचा था. इसके बाद पार्टी के नेताओं को सफाई देनी पड़ी थी कि ऐसा भूल वश हुआ था. पार्टी प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि तेजप्रताप पार्टी के बड़े नेता हैं और वे जरुर शामिल होंगे और समारोह को संबोधित भी करेंगे. इस बीच राजद दफ्तर और 10 सर्कुलर रोड के बाहर लगे पोस्टरों ने भी लोगों का ध्यान खींचा है. इन पोस्टर्स में पहली बार लालू की बहू ऐश्वर्य का फोटो भी नजर आया. राजद तमाम बड़े नेताओं के साथ बहू ऐश्वर्य की फोटो देखकर ऐसी चर्चा है कि जल्द ही ऐश्वर्य भी राजनीति में एंट्री ले सकती हैं. राजेश तिवारी

Read more

हाईकोर्ट से तेजस्वी को मिला स्टे

बिहार में बंगले को लेकर कई महीनों से चल रहा विवाद थमता नहीं दिख रहा है. एक ओर बिहार सरकार पूर्व मंत्रियों को बंगला खाली करने का दबाव बना रही है वहीं बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम इस मामले में हाईकोर्ट पहुंच गए हैं. और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी को वहां से राहत भी मिल गई है. पटना हाईकोर्ट ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को बड़ी राहत दी है. पटना हाईकोर्ट ने सरकार के उस आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है जिसमें तेजस्वी यादव को 5, देशरत्न मार्ग का बंगला खाली करने का नोटिस जारी किया गया था. दरअसल जुलाई 2017 में बिहार में सत्ता परिवर्तन के साथ ही सरकार ने पूर्व मंत्रियों को बंगला खाली करने का नोटिस जारी किया था. इनमें से कई ने बंगला खाली कर दिया लेकिन अब भी तेजस्वी यादव अपने बंगले में टिके हैं. सरकार ने तेजस्वी यादव को नेता प्रतिपक्ष के नाते दूसरा बंगला आवंटित किया है लेकिन वे पहले की तरह डिप्टी सीएम के लिए आवंटित बंगले में ही रह रहे हैं.  जब लगातार नोटिस देने के बाद भी तेजस्‍वी यादव ने बंगला खाली नहीं किया तो पिछले महीने भवन निर्माण विभाग ने पटना जिला प्रशासन को पत्र लिखकर उनका बंगला बलपूर्वक खाली कराने का पत्र जारी किया.  शुक्रवार को जस्टिस डी के सिंह की एकल बेंच ने पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव की याचिका पर सुनवाई करते हुए ये अंतरिम आदेश जारी किया. साथ ही इस मामले को किसी अन्य जस्टिस की एकल बेंच में सुनवाई के लिए ट्रांसफर कर

Read more

‘बिहार में भी सबसे बड़े दल को मिले सरकार बनाने का मौका’

बिहार में राजभवन में शुक्रवार को विपक्षी एकता एक बार फिर देखने को मिली जब राजद, कांग्रेस, हम और सीपीआई एमएल ने मिलकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक को ज्ञापन सौंपा. राजद नेता तेजस्वी यादव के मुताबिक महागठबंधन के 111 विधायकों के समर्थन का पत्र राज्यपाल को सौंपा गया है. ज्ञापन में कर्नाटक में राज्यपाल के फैसले के आधार पर बिहार में भी सबसे बड़े दल होने के कारण राजद को सरकार बनाने का मौका दिए जाने की मांग की गई है. राजद ने वर्तमान सरकार को बर्खास्त करने की मांग करते हुए राज्यपाल से राजद को सरकार बनाने का न्योता देने का अनुरोध किया है. राजद की इस मांग का समर्थन कांग्रेस, हम और वाम दल ने किया है. राज्यपाल से मिलने के बाद बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि जब कर्नाटक में सबसे बड़े दल को बहुमत नहीं होने के बावजूद सरकार बनाने का मौका मिल सकता है तो बिहार में क्यों नहीं.   पटना से राजेश तिवारी

Read more

‘राबड़ी, तेजस्वी की सुरक्षा में नहीं हुई कोई कटौती’

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के निवास से सुरक्षा कम किए जाने को लेकर मचे बवाल पर आज बिहार पुलिस ने सफाई दी. एडीजी हेडक्वार्टर एस के सिंघल ने दावा किया कि पूर्व सीएम राबड़ी देवी और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की सुरक्षा में कोई कमी नहीं की गई है. बल्कि उन्हें तो कहीं ज्यादा सुरक्षा मिली हुई है. एडीजी ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को जेड प्लस के साथ कुल 56 ,लालू यादव को जेड प्लस  के साथ 3 पुलिस पदाधिकारी के साथ 2-8 सी आरपीएफ बल, तेजस्वी यादल के साथ 27 और तेजप्रताप यादव के साथ 10 सुरक्षाकर्मी अब भी तैनात हैं. पुलिस मुख्यालय के अनुसार राबड़ी देवी और लालू प्रसाद जेड प्लस की श्रेणी में आते हैं और दोनों एसएसजी एक्ट 2010, बिहार के तहत प्रोटेक्टिव हैं. एडीजी ने बताया कि सुरक्षा के लिये विशेष कमिटी बनी है और कमिटी के फैसले के अनुसार सुरक्षा हटायी गयी है. एडीजी ने बताया कि लालू प्रसाद जेल में हैं इसलिए उनकी सुरक्षा में लगे 15 पुलिसकर्मियों को हटाया गया है.

Read more

CBI के सामने फिर पेश नहीं हुए लालू-तेजस्वी

रेलवे के 2 होटलों के टेंडर घोटाला मामले में लालू और तेजस्वी यादव एक बार फिर सीबीआई के सामने पेश नहीं हुए.  लालू ने फिर से सीबीआई से समय मांगा है. File Pic लालू यादव पर उनके रेल मंत्री रहते रेलवे के 2 होटलों के रख रखाव के टेंडर में हेराफेरी का आरोप है. रांची और पुरी स्थित इन होटलों के टेंडर में एक खास कंपनी को फायदा पहुंचाने का आरोप भी लालू पर है. जानकारी के मुताबिक अब लालू और उनके बेटे तेजस्वी यादव 5 और 6 अक्टूबर को CBI के सामने पेश होंगे. इधर लालू और तेजस्वी को लेकर संशय की स्थिति को देखते हुए राबड़ी देवी ने बुधवार को पार्टी के नेताओं, विधायकों और जिलाध्यक्षों की आपात बैठक बुलाई है.

Read more