दमखम के साथ लोकसभा चुनाव में HAM !

संतोष मांझी ने संगठन को लेकर की समीक्षा पटना 17 नवम्बर. हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष बिहार सरकार में अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण मंत्री डॉ संतोष कुमार सुमन की अध्यक्षता में बुधवार को एक बैठक बुलाई गई जिसमें प्रकोष्ठ के अध्यक्ष, जिला प्रभारी एवं जिला अध्यक्षों के साथ समीक्षा बैठक संपन्न हुई. बैठक पार्टी के संरक्षक बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के आवास पर लगभग 4 घंटे चली. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बिहार सरकार में मंत्री डॉ संतोष कुमार सुमन ने बैठक में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि दलित, आदिवासी, पिछड़ा, अति पिछड़ा, अल्पसंख्यक और अन्य समाज के गरीब को राजनीतिक तौर पर मदद तभी संभव होगा जब आप सभी पार्टी संगठन से मजबूत होंगे. हमारी सरकार में ज्यादा से ज्यादा भागीदारी होगी तभी हम कुछ कर सकेंगे.हम पार्टी उन कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ाने के लिए काम करेगी जो पार्टी के लिए समर्पित हैं. डॉ संतोष मांझी ने आगामी लोकसभा और विधानसभा के हर सीट पर उम्मीदवार खड़े करने के लिए कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया.हम चुनावी मैदान में टक्कर देने वाले उन कार्यकर्ताओं को चिन्हित कर उन्हें लोकसभा और विधानसभा में टिकट देने का भी काम करेगी. साथ ही उन्होंने ऐसी इच्छा रखने वाले कार्यकर्त्ताओं को एक टूक में बता भी दिया कि उन्हें क्षेत्र में अभी से दिन रात मेहनत करना होगा. गोल मटोल बात करने से उन्हें टिकट या बोर्ड, आयोग में जगह नहीं मिलेगा. जो काम करेंगे उन्हें ही मौका पार्टी के द्वारा दिया जाएगा. इसलिए संगठन पर ध्यान दें. अन्यथा संगठन आप

Read more

83 दिनों में 20 लाख कार्यकर्ताओं को जोड़ेगी ‘हम’ !

लोकसभा चुनाव का खांका तैयार,10 अक्टूबर से पार्टी शुरू होगी सदस्यता अभियान पटना 6 सितंबर 2022. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (से०) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बिहार सरकार में अनुसूचित जाति/जनजाति कल्याण मंत्री डॉ० संतोष कुमार सुमन की अध्यक्षता में पार्टी संगठन की मजबूती और आगे की रणनीति को लेकर प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्षों एवं हम पार्टी नेताओं के साथ बैठक मंगलवार को सम्पन्न हुई. लगभग लगभग 3 घंटे तक बैठक चली. बैठक पार्टी के राष्ट्रीय संरक्षक बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के 12एम स्ट्रैंड रोड पटना आवास पर बुलाई गई थी. पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ दानिश रिजवान ने बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय प्रकोष्ठ अध्यक्ष एवं पार्टी नेताओं की बैठक मुख्य रूप से संगठन की मजबूती को लेकर ही बुलाई गई थी. उन्होंने कहा कि 20 लाख लोगों को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से जोड़ा जाएगा इसके लिए पार्टी ने सदस्यता अभियान की अवधि 10 अक्टूबर से 31 दिसंबर 2022 का रखा है. साथ ही यह भी बताया कि आगामी 10 सितंबर 2022 को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर 51 सदस्य कोर कमेटी की बैठक बुलाने का निर्णय लिया गया है. राष्ट्रीय कोर कमेटी की बैठक में उपरोक्त विषयों के साथ-साथ 15 नवंबर से 31 दिसंबर तक होने वाली लोकसभा विधानसभा क्षेत्र में पार्टी सम्मेलन की तैयारी और उसकी रूपरेखा पर भी विचार विमर्श किया जाएगा. बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संतोष कुमार सुमन ने स्पष्ट किया है कि जो पार्टी में जमीनी स्तर पर काम करेंगे, उन्हें निश्चित तौर पर पार्टी आगे

Read more

किस बात पर भड़का वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन !

अमर्यादित बयान पर भड़का वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ललन सिंह का बयान गैर जिम्मेदाराना, वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने की बयान वापस लेने की मांग पत्रकारों के खिलाफ बयान स्वीकार्य नहीं पटना,25 अगस्त. जुबान क्या से क्या करा देता है. आपके जुबान से निकले शब्द कब क्या असर कर दे ये कहना मुश्किल है. इसलिए बुजुर्गों ने कहा है कि बाते जुबाँ से अदब वाली निकलनी चाहिए. बात जुबाँ पर हो रही है तो आइए बता दें बिहार की राजनीति के केंद्र में गिने जाने वाले वर्तमान जद यू राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने अपनी जुबाँ से पत्रकारों के लिए ऐसे शब्द बोले हैं जो हलाहल बन अब उनके गले की हड्डी बन गई है. हालिया सरकार बदलने के बाद जिसतरह जदयू के दो-दो मंत्रियों के आपराधिक छवि को लेकर हंगामा हुआ उसके बाद से नीतीश के दुलारे ललन ने अपने मुख से पत्रकारों के लिए गरल वमन करते हुए कहा कि “पत्रकारों को शराब नहीं मिल रहा इसलिए वे बिहार सरकार के खिलाफ खबर दिखा रहे हैं.” दरअसल ये बयान ललन ने खुले मंच से उस समय दिया जब वे अपने दो दिन के जनसंवाद यात्रा पर दो दिन के लिए लखीसराय गए थे. यह बयान उन्होंने मंगलवार को लखीसराय के महिसोना गांव में जनसंवाद के दौरान दिया. उनके इस बयान के बाद पत्रकारों में रोष व्यक्त है. बता दें कि पूर्व में भी नीतीश के इस दुलारे लाल की वजह से ही राजनीतिक सरगर्मियां तेज होते रही है. अपनी राजनीतिक रसूख के घमंड में चूर जद यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष

Read more

आपदा विभाग के मंत्री पहुंचे मंत्रालय, लिया कार्यों का जायजा

पटना, 18 अगस्त. बिहार में नयी सरकार के गठन के उपरांत आज माननीय मंत्री आपदा प्रबंधन शहनवाज आलम ने पदभार ग्रहण करने के बाद मंत्रालय पंहुच कर विभाग के कार्यों की समीक्षा की. माननीय मंत्री ने आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बिहार में चलाये जा रहे योजनाओं की अद्दतन जानकारी लेते हुऐ उनके विकास कार्यों की गहन समिक्षा की. इस दौरान आपदा प्रबंध विभाग के सचिव ,विशेष सचिव तथा सभी वरीय अधिकारी मौजूद थे. समीक्षा बैठक में माननीय मंत्री शहनवाज आलम ने से स्पष्ट रूप से कहा की सूबे में किसी को भी आपदा के समय समयानुसार मदद देने एवं उनसे बचने के लिऐ चलाऐ जा रहे योजनाओं को और प्रभावशाली बनाया जाऐगा..जिससे लोगों को आपदा से बचाया जा सकें. मंत्री शहनवाज आलम ने विभाग के अपने संबोधन में कहा की सूबे के जो जिले आपदा से ज्यादा प्रभावित है वहाँ बचाव के प्रबंध तथा किसी भी आपात स्थिति में लोगों के जानमाल की सुरक्षा के लिऐ और बेहतर सिस्टम बनाया जाऐगा. माननीय मंत्री ने विभाग से बाढ़ से अतिप्रभावित सीमांचल के कई जिलों में किये गये कार्यों और चल रही योजनाओं का जायाजा लेते हुऐ कई आदेश भी दिए। पटना से कपीन्द्र किशोर की रिपोर्ट

Read more

जन-सुराज नई राजनीतिक व्यवस्था की खोज तो नही !

जन-सुराज के लिए लोगों को परखते राजनीति के चाणक्य “अगर कोई व्यक्ति या दल ये समझता है कि वो अकेले बिहार में परिवर्तन ला सकता है तो ये गलत है. किसी भी बदलाव के लिए सामूहिक प्रयास की जरूरत होती है और जब सही लोग सही सोच के साथ सामूहिक प्रयास करेंगे तभी बिहार को देश के अग्रणी राज्यों की सूची में शामिल कराया जा सकता है”- प्रशांत किशोर पटना,14 जुलाई (ओ पी पांडेय) . “जब तक आपको यकीन न हो जाए कि मैं यहीं रहूंगा और बिहार के लिए ही काम करूंगा तब तक आप हमारे साथ मत जुड़िए”, उक्त बातें कहते हैं राजनीति के सबसे बड़े चाणक्य कहे जाने वाले प्रशांत किशोर अपनी “जन सुराज” के दौरान लोगों से संवाद करने में. इतनी दृढ़ता और ईमानदारी से लोगों के समक्ष अपनी बात को रखते हुए प्रशांत किशोर ने बिहार के 9 जिलों में लोगों से अबतक संवाद स्थापित किया है. वैशाली से “जन सुराज” अभियान की शुरुआत करने के बाद प्रशांत किशोर अब तक सीवान, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, गोपालगंज, सारण और समस्तीपुर सहित 9 जिलों में जा चुके है. आने वाले दिनों में अन्य जिलों में भी जाने का योजना है. प्रशांत किशोर की मानें तो सितंबर अंत तक वैसे सभी लोगों से मिलने का प्रयास करेंगे जिन्होंने उनसे संपर्क किया है या जिनसे उन्होंने संपर्क किया है. फिर उसके बाद पदयात्रा के समय सभी जिलों के एक लंबा समय बिताने की योजना है. तब हर उस सही व्यक्ति से मिलेंगे जो बिहार की बेहतरी

Read more

कोर्ट ने दे दी जमानत, रिहा होंगे लालू

झारखंड हाईकोर्ट का फैसला, सशर्त मिली बेल रांची,17 अप्रैल. बहुचर्चित चारा घोटाले में सजा काट रहे आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को झारखंड हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. यह जमानत उन्हें दुमका कोषागार मामले में मिली है. शनिवार को सुनवाई के दौरान झारखण्ड कोर्ट ने यह फैसला सुनाया. कोर्ट ने उन्हें एक लाख के निजी बॉन्ड और 10 लाख के जुर्माने की राशि पर यह जमानत मुकर्रर की है. निजी बांड भरने के बाद वे बाहर आ सकते हैं. ऐसे में ऐसी उम्मीद की जा रही है कि 2 से 3 दिनों के बाद दुमका कोषागार मामले में आधी सजा काट चुके लालू प्रसाद जेल से बाहर आ जाएंगे. कोर्ट ने यह जमानत उन्हें सशर्त दी है. इसके अनुसार वे न तो देश से बाहर जाएंगे और न ही अपना पुराना दिया हुआ पता और मोबाइल नम्बर ही बदलेंगे. इसके पूर्व उन्हें चाइबासा कोषागार मामले के निकासी में भी जमानत मिल चुकी है और डोरंडा कोषागार का मामला फिलहाल कोर्ट के विचाराधीन है लेकिन फ़िलहाल CBI कोर्ट ने कोविड की वजह सुनवाई टाल दिया है. बताते चलें कि लालू प्रसाद इस वर्ष जनवरी से अपने इलाज के लिए दिल्ली एम्स में भर्ती हैं. Pncb

Read more

17 साल बाद लौटेगी इस आयुर्वेदिक महाविद्यालय की रौनक !

17 सालों से बंद पड़े आयुर्वेदिक महाविद्यालय के कर्मचारियों की सेवाएं होंगी बहाल ! बक्सर,27 फरवरी. भगवान श्रीराम ने 14 वर्ष का वनवास काटा था. लेकिन वे 14 वर्षो के बाद घर वापस लौट गए थे. यह सन्दर्भ इसलिए याद आ रहा है क्योंकि बक्सर जिले के अहरौली में एक राज्यीकृत आयुर्वेदिक महाविद्यालय है जिसका नाम है श्री धन्वंतरि आयुर्वेदिक महाविद्यालय. यह महाविद्यालय जिले का एकमात्र महाविद्यालय है जहाँ आयुर्वेद की पढ़ाई होती थी. स्वास्थ्य विभाग की ओर से 29 अगस्त 2003 को एक सूचना (सूचना-पत्र संख्या 839) भेज कर बिना कोई कारण बताए ही महाविद्यालय के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी गयी. तब से लेकर अबतक जिले की शान बढ़ाने वाला यह महाविद्यालय अब इतिहास बन कर अपनी बदहाली पर आँसू बहा रहा है. प्रभु श्रीराम की तरह यह महाविद्यालय भी पिछले 17 सालों से वनवास ही काट रहा है. लेकिन 17 सालों के बाद भी यह पुराने स्तीत्व में लौटेगा यह कहना एक यक्ष सवाल है. 17 सालों से बंद पड़े महाविद्यालय का ढाँचा भी अब जर्जर हो चुका है. बक्सर की धरोहर को बचाने के लिए विधानसभा में मुखर होकर स्थानीय विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने आवाज उठाया साथ ही इसके जर्जर होती जा रही बिल्डिंग के मरम्मती के लिए भी आवाज उठाया. गुरुवार को जब हाउस में बक्सर के जनप्रिय विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी का नाम सभापति ने पुकारा तो माननीय विधायक ने बक्सर के अहरौली स्थित राजकीय धन्वंतरि आयुर्वेदिक महाविद्यालय बक्सर के अधिकारियों व कर्मचारियों

Read more