“निष्ठा” प्रशिक्षण के अंतर्गत तीसरे बैच का प्रशिक्षण प्रारंभ

कोइलवर (पटना नाउ रिपोर्ट) | प्रशिक्षण में प्रारंभिक विद्यालय के बच्चों को खेल-खेल में सीखने-सिखाने, स्वास्थ्य कल्याण के प्रति जागरूकता, विद्यालय विकास के लिए सरकारी पहल, पाठ्यचर्या, पाठ्यक्रम की समझ तथा शिक्षकों में नेतृत्व क्षमता विकसित करने पर विशेष जोर दिया गया है. निष्ठा प्रशिक्षण का उद्घाटन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (लेखा एवं योजना)प्रकाश रंजन एवं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, कोईलवर, विनीता कुमारी द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर संयुक्त रुप से किया गया. निष्ठा प्रशिक्षण के उद्देश्य एवं महता का उल्लेख करते हुए केआरपी राजाराम सिंह ‘प्रियदर्शी’ ने कहा कि समतामूलक समाज के निर्माण में यह प्रशिक्षण कारगर सिद्ध होगा क्योंकि इस प्रशिक्षण में विषयगत जानकारियों के अलावे शारीरिक रुप से स्वस्थ, सामाजिक रुप से स्वच्छ, भावनात्मक रुप से मजबूत और मानसिक रुप से सतर्कता की भी बात शिक्षकों से की जा रही है ताकि प्रशिक्षणोंपरांत विद्यालय तक इसे ले जाया जा सके. निष्ठा प्रशिक्षण में सम्मिलित शिक्षकों को संबोधित करते हुए पदाधिकारी द्वय ने कहा कि यह ऐसा प्रशिक्षण है जो पूरे देश में एक साथ चल रहा है. यह भी जानकारी दी गई कि इस प्रशिक्षण से देशभर के कुल बयालीस लाख शिक्षक लाभान्वित होंगे जिन्हें तैतीस हजार एसआरपी एवं केआरपी प्रशिक्षित करने का कार्य करेंगे. कोईलवर बाईट प्रशिक्षण केन्द्र पर एसआरपी, सुरेंद्र प्रसाद सिंह, केआरपी राजाराम सिंह ‘प्रियदर्शी’, मो. रफी, महातम सिंह और रुपेश कुमार सिंह के द्वारा शिक्षकों को विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इस बैच में कोईलवर, संदेश और बड़हरा प्रखंड के कुल एक सौ पचास शिक्षक सम्मिलित हैं. अभी तक दो बैच

Read more

“निष्ठा” प्रशिक्षण का उद्घाटन

कोइलवर (ब्यूरो रिपोर्ट) | इन्टीग्रेटेड टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत नेशनल इनिसिएटिव फार स्कूल हेड्स एन्ड टीचर्स हालिस्टिक एडवान्समेंट (विद्यालय प्रमुखों और शिक्षकों की समग्र उन्नति के लिए राष्ट्रीय पहल) हेतु पांच दिवसीय गैर आवासीय प्रशिक्षण का उद्घाटन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, समग्र शिक्षा, राघवेंद्र प्रताप सिंह, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, माध्यमिक शिक्षा, कृष्ण मुरारी गुप्ता एवं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, कोईलवर, विनीता कुमारी द्वारा संयुक्त रुप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया. जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्व में बच्चों को शिक्षण के तहत विषयगत जानकारी पर ही बल दिया जाता था परन्तु आज किताबों की दुनिया से बाहर निकलकर सीखने-सिखाने की बात की जा रही है. सूचना एवं संचार तकनीकी के दौर में बच्चों की सोच में भी परिवर्तन हुआ है इसलिए बच्चों की रुचि के अनुसार सिखाने की नई तकनीक की जानकारी हेतु प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है. जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, माध्यमिक शिक्षा कृष्ण मुरारी गुप्ता ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए बताया कि आज विद्यालयों में स्मार्ट कक्षा का संचालन हो रहा है जिसका सकारात्मक प्रभाव भी दिखाई दे रहा है. प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, कोईलवर, विनीता कुमारी ने कहा कि शिक्षक समाज का पथ- प्रदर्शक होता है और बच्चों के भविष्य का निर्माता होता है. उन्होंने ने आगे कहा कि प्रशिक्षण में समय का अनुपालन सुनिश्चित हो ताकि नवाचार को लेकर शिक्षक विद्यालयों में जायें और बच्चों को भी देने का कार्य करें. पांच दिवसीय प्रशिक्षण में जिला प्रशिक्षण संभाग प्रभारी शाश्वत अवतार, एसआरपी, सुरेंद्र प्रसाद सिंह, केआरपी,राजाराम सिंह, मो.रफी, महातम

Read more