छात्राओं ने ऐलुमिनाई मीट 2018 में यादें ताज़ा की | नोट्रेडेम एकेडमी, पटना

पटना (अजित की रिपोर्ट) | रविवार को नोट्रेडेम एकेडमी छात्र संघ के तत्वाधान में नोट्रेडेम एकेडमी के पूर्ववर्ती छात्राओं, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं का मिलन समारोह 2018 का आयोजन किया गया. इसमे करीब 120 पूर्ववर्ती छात्राओं, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने भाग लिया. सिस्टर बीना, प्रोवेंशियल सुपीरियर सिस्टर टेस्सी एवं नोट्रेडेम एकेडमी की प्रिंसिपल सिस्टर जेस्सी ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उदघाटन किया. ऐलुमिनाई मीट में पूर्ववर्ती छात्र -छात्राओं, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं की नजरें जैसे ही कैम्पस में एक दूसरे से मिली तो सभी गले अपनी पुरानी यादों में खो गये. छोटों ने बड़ो के पैर छूकर आशीर्वाद लिया वहीं बड़ो ने गले लगाकर अभिवादन भी किया. इस दौरान अपनी अपनी यादें साझा करते हुए सभी भावुक हो गए. सबों ने एक दूसरे की वर्तमान गतिविधियों के बारे में जानकर रोमांचित भी होती रही. संघ की अध्यक्ष सुमन चौबे ने कार्यक्रम में शामिल होने आये पूर्ववर्ती छात्र -छात्राओं, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं का आभार जताते हुए कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य यह है पुराने और नए छात्रो के बीच आपसी सामंजस्य पैदा हो तथा सभी लोग सामाजिक गतिविधियों में बढ़ चढ़कर भाग ले. संघ की सचिव सना फहीम ने बताया की इस सत्र में संघ ने छात्राओं, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं, और छात्रों के अभिभावकों के लिए स्वास्थ्य शिविर, कैरियर परामर्श इत्यादि का आयोजन किया गया. उन्होंने कहा कि संघ चालू कैलेंडर वर्ष में छात्र छात्राओं, शिक्षकों, सिस्टरों और कर्मचारियों के लिए कई और कार्यक्रम का आयोजन करेगा. कार्यक्रम में नोट्रेडेम एकेडमी स्कूल के लिए लंबे समय तक समर्पित सेवा भाव के लिए

Read more

उपेन्द्र कुशवाहा का अगला कदम क्या – एक आकलन

मांग नहीं मानी गई तो कुशवाहा ने आरोप लगाकर एनडीए छोड़ा महागठबंधन को मजबूत करेंगे या खुद कमजोर होंगे , पार्टी में फूट की सम्भावना से यह सवाल मौजूं  पटना (वरिष्ठ पत्रकार अनुभव सिन्हा की कलम से) | राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन से रिश्ता तोड़ लिया. रिश्ता तोड़ने का पहला कारण अपमानित किया जाना बताया और यह भी जोड़ा कि उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा था. उन्होंने बिहार की आवाज को सदन के माध्यम से उठाने की हर सम्भव कोशिश की, बिहार में शिक्षा की स्थिति में सुधार करने की चेष्टा की लेकिन बिहार सरकार ने उनके साथ कदमताल करने के बजाय उनकी पार्टी को ही कमजोर करने की साजिश कर डाली. एनडीए से अलग होने का उन्होंने ऐसे कारण गिनाए. लेकिन विश्वस्त सूत्रों के अनुसार कुशवाहा ने यह निर्णय अपने लिए सीटों की संख्या न बढ़ाए जाने के कारण खीज कर लिया है. अपनी बात कहने के बाद मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए दिल्ली में उन्होंने यह खुलासा किया कि अब इसकी चर्चा वह पार्टी में करेंगे और जो सर्वानुमति बनेगी, उसी आधार पर निर्णय लिया जायेगा. अपने तीन आॅप्शन बताते हुए उन्होंने यह कहकर कि शरद यादव की पार्टी अभी इममैच्योर है , इशारा कर दिया कि वह तीसरा फ्रंट बनाने के मूड में नहीं हैं. लेकिन यदि महागठबंधन में शामिल हुए तो किसी के करीब रहेंगे या रालोसपा के स्वतंत्र अस्तित्व के साथ जायेंगे यह अभी तय नहीं हुआ है परंतु सोमवार की शाम होने वाले

Read more

सीट बंटवारे पर बोले मुख्यमंत्री

2019 लोकसभा चुनाव में बिहार की 40 सीटों में से किसे कितनी सीट मिलेगी, इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार बयान दिया है. सीएम ने कहा कि सीट बंटवारे पर फैसला जल्द ही हो जाएगा. एनडीए के सभी घटक दल बीजेपी, जदयू, लोजपा और रालोसपा के मुख्य नेता एक साथ बैठेंगे और इस मसले को हल करेंगे. उन्होंने कहा कि सीटों को लेकर आमने-सामने बात होगी. अमित शाह से मुलाकात के बाद लोक संवाद में सीएम ने बीजेपी अध्यक्ष से मुलाकात पर  कहा कि उनसे कई मुद्दों पर बात हुई है. लेकिन बंद कमरे में जो बातें हुईं उसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता. उन्होंने ये भी कहा कि जितनी बातें मीडिया में आ रही थीं, उनपर तो अमित शाह ने बोल ही दिया. सीएम नीतीश के मुताबिक, एक महीने में सीट बंटवारे को लेकर बातचीत संभावित है. बीजेपी के प्रस्ताव पर जदयू और अन्य घटक दल मिलकर बात करेंगे.

Read more

NDA में आपको कोई दिक्कत दिख रही है क्या!

NDA को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार बयान दिया है. पिछले कई दिनों से लगातार सीट शेयरिंग और टूट को लेकर एनडीए में बिखराव की खबर आ रही है. विपक्ष भी लगातार एनडीए में टूट का दावा कर रहा है. इन सबपर विराम लगाने की कोशिश करते हुए सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि एनडीए पूरी तरह साथ है. मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए सीएम ने कहा कि जब चुनाव का वक्त आएगा तो सीट शेयरिंग पर चर्चा होगी. फिलहाल आपको कोई दिक्कत दिख रही है क्या. उन्होंने कहा कि कौन पार्टी क्या दावा कर रही है ये जानने में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है. नीतीश कुमार ने कहा कि आज एनडीए के सभी घटक दल मिलकर काम कर रहे हैं. इसलिए मैं बेकार की बातों पर ध्यान नहीं देता. दरअसल पिछले दिनों पहले एनडीए की पहली बैठक में उपेन्द्र कुशवाहा की अनुपस्थिति और फिर इफ्तार पार्टी में भी रालोसपा से अन्य दलों की दूरी देखने को मिली. हालांकि बीजेपी ने हरसंभव कोशिश की है रालोसपा संग नजदीकी की. लेकिन जदयू और लोजपा की रालोसपा से दूरी बीजेपी के लिए एनडीए में एकजुटता बनाने की कोशिश को मुश्किल बना सकती है.

Read more

नीतीश ने खोले सारे राज

NDA के साथ सरकार बनाने के बाद आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहली बार मीडिया के सामने आए और इत्मीनान से सारे सवालों के जवाब दिए. सीएम ने महागठबंधन सरकार चलाने में हुई अपनी पीड़ा को भी बयां किया और वो सारे राज खोले कि कैसे उन्होंने लगातार राजद नेताओं के कड़वे बोल सहे और लालू के ट्वीट को भी बर्दाश्त किया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि मैंने महागठबंधन धर्म का पालन किया और सरकार चलाने की कोशिश की लेकिन जब पानी सिर से ऊपर चला गया तो मैंने अपने विधायकों से सलाह लेने के बाद इस्तीफा दे दिया. नीतीश कुमार ने कहा कि राजद की तरफ से मुझपर ही आरोप लगने शु्रू हो गए लोग मेरा ही मजाक उडा़ने लगे थे. नीतीश ने कहा कि एेसे में मेरे पास कोई चारा नहीं था. जब मेरे पास कोई विकल्प नहीं बचा तो मैंने यह फैसला लिया. सीएम ने इस दौरान वो सारी बातें भी बताईं कि कैसे इस्तीफा देने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें फोन किया और NDA के साथ सरकार बनाने का न्योता दिया. सुनिए क्या कहा सीएम ने आज- सीएम ने कहा कि मैंने कभी किसी से इस्तीफा नहीं मांगा था. मैंने कई बार तेजस्वी से कहा कि स्थिति स्पष्ट करें, जनता के सामने स्पष्टीकरण जरूरी होता है. मेरी पार्टी भ्रष्टाचार के खिलाफ थी और यह पार्टी का फैसला था. आज मुख्यमंत्री पूरी तरह पीएम मोदी के रंग में रंगे दिखे. उन्होंने कहा कि फिलहाल देश में मोदी की टक्कर का कोई नेता नहीं है. नीतीश ने

Read more

नीतीश ने पेश किया सरकार बनाने का दावा

बुधवार देर रात करीब 12 बजे नीतीश कुमार बीजेपी के कई नेताओं के साथ राजभवन पहुंचे और राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया. नीतीश कुमार के साथ कई जदयू नेता भी साथ थे. बीजेपी की ओर से सुशील मोदी, अवधेश नारायण सिंह, प्रेम कुमार समेत कई नेता भी नीतीश कुमार के साथ थे. इससे पहले बुधवार शाम नीतीश कुमार को NDA विधायक दल का नेता चुन लिया गया. गुरुवार सुबह 10 बजे नीतीश कुमार फिर से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. इससे पहले शाम 5 बजे का समय तय किया गया था. उनके साथ बीजेपी नेता सुशील मोदी डिप्टी सीएम के पद की शपथ लेंगे. शपथग्रहण में प्रधानमंत्री मोदी के भी भाग लेने की संभावना है. File Pic शपथग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा भी शामिल होंगे. बता दें कि वर्तमान विधानसभा में जदयू के 71 विधायक और बीजेपी के 58 विधायक हैं. यानि कुल संख्या 129 है NDA के पास. बिहार विधानसभा में सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 122 होना चाहिए. इसके अलावा नीतीश कुमार को तीन निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी हासिल है. इस लिहाज से ये आंकड़ा 132 तक पहुंच गया है. JDU-71 BJP-53 RLSP-02 LJP-02 HAM-01 OTHERS- 03 TOTAL 132 नीतीश के इस्तीफे के बाद क्या बोले लालू यादव- ये भी पढ़ें- https://goo.gl/iG2YwV

Read more