किताब के लिए सरकार ने जारी की राशि, इसी हफ्ते बच्चों के अकाउंट में होगी ट्रांसफर

प्राथमिक स्कूलों के 1.34 करोड़ बच्चों के किताब के लिए ₹416.23 करोड़ जारी बिहार के 72 हजार सरकारी प्राइमरी-मिडिल स्कूलों के 1से 8 कक्षा के एक करोड़ 34 लाख बच्चों को किताब के लिए 416 करोड़ 23 लाख रुपये सरकार ने बैंक को जारी कर दिया है. अब इसी हफ्ते बच्चों के अकाउंट में ये राशि डीबीटी के जरिए भेज दी जाएगी. बिहार शिक्षा परियोजना परिषद से मिली जानकारी के मुताबिक 1 से 4 कक्षा के बच्चों को प्रति बच्चा 250 रुपये जबकि 5वीं से 8वीं कक्षा के बच्चों को प्रति बच्चा 400 रुपये मिलेंगे. बता दें कि 1 से 8वीं कक्षा के बच्चों को शिक्षा का अधिकार कानून के तहत पाठ्यपुस्तकों की खरीदारी के लिए पैसे दिये जाते हैं. राज्य में 43 हजार प्राइमरी स्कूल हैं, जिनमें 1से 5वीं कक्षा की पढ़ाई होती है जबकि 29 हजार मिडिल स्कूल हैं, जिनमें 1 से 8वीं कक्षा की पढ़ाई होती है. pncb

Read more

प्रारंभिक स्कूलों को शिक्षा विभाग की गाइडलाइंस का इंतजार

बिहार सरकार ने आखिरकार एक साल के बाद राज्य के तमाम सरकारी और निजी प्रारंभिक स्कूलों को लेकर बड़ा फैसला ले लिया है. बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने इस बात की पुष्टि की है कि एक मार्च से कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल खुल जाएंगे. पिछले दिनों शिक्षा विभाग ने इस बात की जानकारी दी थी कि कक्षा 1 से 5 तक के स्कूलों को खोलने को लेकर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में फैसला होगा. बिहार के तमाम स्कूल कोविड 19 के कारण हुए लॉकडाउन की वजह से 14 मार्च 2020 से ही बंद पड़े हैं. 4 जनवरी 2021 को कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खोले गए थे. 8 फरवरी 2021 से कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल खोले गए और अब 1 मार्च से कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल भी खुल जाएंगे. शिक्षा विभाग जारी करेगा विस्तृत गाइडलाइंस राज्य सरकार के सैद्धांतिक निर्णय के बाद अब बिहार का शिक्षा विभाग प्रारंभिक स्कूलों को खोलने के बारे में विस्तृत गाइडलाइंस जारी करेगा. कोविड-19 की वजह से बने हुए खतरे के कारण शिक्षा विभाग और राज्य सरकार बेहद सावधानी पूर्वक फूंक-फूंक कर कदम रख रहे हैं. यही वजह है कि स्कूलों में फिलहाल 50% से ज्यादा छात्रों को आने की अनुमति नहीं मिलेगी. इसके अलावा शिक्षा विभाग की ओर से जारी होने वाली गाइडलाइंस का भी स्कूलों को सख्ती से पालन करना होगा. सरकार 15 दिन के बाद सभी स्कूलों की स्थिति की समीक्षा करेगी जिसके बाद आगे इन स्कूलों को

Read more