धरती के भगवान

डॉक्टर एक ऐसा इंसान होता हैं, जो इंसान के रूप में भगवान् होता हैं, हमें कौनसी भी बीमारी या रोग हो जाये तो हम सबसे पहले डॉक्टर के पास जाते हैं. डॉक्टर्स को “धरती का भगवान” माना जाता है, क्योंकि भगवान के बाद डॉक्टर ही किसी भी व्यक्ति को नया जन्म देता है और किसी भी व्यक्ति की जिंदगी के प्रति उम्मीद जगाता है. डॉक्टर न सिर्फ मनुष्य के जन्म होने में मदद करता है, बल्कि वह किसी व्यक्ति को मृत्यु से भी बचाता है. डॉक्टर लोगों को दवाई लेने से ज्यादा खुद का ख्याल रखने और खुद के जीवन से प्यार करना सिखाते हैं. वहीं माता-पिता के बाद एक डॉक्टर ही होते हैं जो हमारी जिंदगी की बेहद ईमानदारी और निस्वार्थ ख्याल रखते हैं. डॉ विजय गुप्ता और उनकी पत्नी डॉक्टर संगीता गुप्ता ने दिनांक 19 जून को शहर सम्मानित कायस्थ जी के सी के प्रवक्ता डॉक्टर निर्मल कुमार की पत्नी एवं महिला प्रकोष्ठ की उपाध्यक्ष डॉक्टर पुष्पलता को पेट में अचानक असहनीय पीड़ा हुई. वह डॉ विजय गुप्ता के क्लीनिक में गई मुझे बहुत आश्चर्य हुआ कि उन्होंने बिना जेब टटोले उनकी पीड़ा को देखते हुए उन्हें चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने लगे और बिना किसी तरह के फी जमा किए बिना ही उन्होंने पित्ताशय की पथरी को निकाल दिया. बाद में जब उनसे बात हुई उन्होंने कहा एक चिकित्सक होने के नाते सबसे पहले मेरा फर्ज था रोगी का जान बचाना और मैंने अपने उसी दायित्व का निर्वहन किया. मेरी हार्दिक शुभकामना है पति-पत्नी एक चिकित्सक के रूप

Read more