वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही | 45.5% की बढ़त के साथ जियो को 990 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | शुक्रवार को रिलायंस जियो द्वारा चालू वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही के परिणाम जारी किए गए. जुलाई-सितंबर तिमाही में रिलायंस जियो का कुल मुनाफा 45.5 प्रतिशत बढ़कर 990 करोड़ रुपए रहा. वहीं इस तिमाही में जियो का ग्राहक आधार भी तेजी से बढ़ा. एक साल पहले समान तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 681 करोड़ रुपए दर्ज किया गया था. वर्ष 2018-19 की इसी तिमाही में कंपनी का परिचालन राजस्व 33.7 प्रतिशत बढ़कर 12,354 करोड़ रुपए हो गया, जबकि बीते साल की समान अवधि में ये में 9,340 करोड़ रुपए था.रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रेसिडेंट एवं एमडी, मुकेश डी अंबानी ने इस मौके पर एक बयान में कहा कि “जियो ने दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती डिजिटल सर्विस कंपनी बनने के लिए 350 मिलियन ग्राहक का आंकड़ा पार कर लिया है, और हम अभी भी हर महीने 10 मिलियन से अधिक नए ग्राहकों को जोड़ रहे हैं. जियो ग्राहकों और राजस्व के मामले में न केवल भारत का सबसे बड़ा दूरसंचार इंटरप्राइज है बल्कि डिजिटल गेटवे ऑफ इंडिया भी बन गया है.कंपनी ने पिछली तिमाही की तुलना में 120 रुपये प्रति उपयोगकर्ता औसत राजस्व के साथ इसमें 2 रुपए की गिरावट दर्ज की. हालांकि, सब्सक्राइबर बेस में वृद्धि के कारण ही इसकी भरपाई हुई है. पिछली तिमाही में रिलायंस जियो के ग्राहकों की संख्या 33.13 करोड़ से बढ़कर 35.52 करोड़ पर पहुंच गई.

Read more

न्यायाधीश संजय करोल | पटना हाइकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | पटना हाइकोर्ट आने वाले नए मुख्य न्यायाधीश संजय करोल मूलतः हिमाचल प्रदेश के हैं. जस्टिस संजय करोल का जन्म 23 अगस्त 1961 में शिमला में हुआ था. उन्होंने सेंट एडवर्ड स्कूल, शिमला से पास किया और गवर्नमेंट कॉलेज, संजौली से इतिहास ऑनर्स में स्नातक किया. करोल ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की. 1983 में एक वकील के रूप में एनरोल होने के बाद उन्होंने कई न्यायालयों में प्रैक्टिस किया. उन्होंने संवैधानिक, कराधान, कॉर्पोरेट, आपराधिक और नागरिक मामलों में भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय में भी प्रैक्टिस किया. वे सुप्रीम कोर्ट में अंतर-राज्य जल विवाद (बीबीएमबी परियोजना) में परामर्शदाता के रूप में भी उपस्थित हुए थे. करोल 1998 से 2003 तक हिमाचल प्रदेश के एडवोकेट जनरल के रूप में संवैधानिक कर्तव्यों का निर्वहन किया है. वर्ष 1999 में उन्हें वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था. वे सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के लिए वरिष्ठ पैनल पर बने रहे. उन्हें 8 मार्च, 2007 को हिमाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया. 25 अप्रैल 2017 से उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में भी कार्य किया. न्यायमूर्ति करोल 14 नवंबर 2018 को त्रिपुरा उच्च न्यायालय के चौथे मुख्य न्यायाधीश बने. ये भी पढ़ें – पटना हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस CJ एपी शाही का तबादला, उनकी जगह लेंगे संजय करोल 275 सहायक बंदोबस्त अधिकारी की बहाली का रिजल्ट | पटना हाईकोर्ट ने किया रद्द

Read more

275 सहायक बंदोबस्त अधिकारी की बहाली का रिजल्ट | पटना हाईकोर्ट ने किया रद्द

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बृहस्पतिवार को पटना हाइकोर्ट ने सहायक बंदोबस्त अधिकारी की नियुक्ति के रिजल्ट को रद्द कर दिया. हाई कोर्ट ने सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों के बी0टेक0 डिग्री धारी अभ्यर्थियों को तरजीह देने को अवैध करार देते हुए नए सिरे से रिजल्ट निकालने का निर्देश दिया है.जस्टिस चक्रधारी शरण सिंह की एकल पीठ ने अमित कुमार आजाद की रिट याचिका पर ये आदेश दिया. कोर्ट ने इस रिट याचिका को मंजूर करते हुए आदेश दिया कि सरकार द्वारा निकाला गया रिजल्ट अवैध है. ज्ञातव्य है, बिहार सरकार ने सहायक बंदोबस्त अधिकारी के 275 पदों पर नियुक्ति के लिए रिजल्ट निकाला था. नियुक्ति की इस प्रक्रिया में सरकार ने सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों के बी0टेक0 डिग्री धारियों को तरजीह देते हुए 50 फ़ीसदी आरक्षण का लाभ दिया था. नियुक्ति की इस प्रक्रिया में कुल 15000 अभ्यर्थीयों ने परीक्षा दी थी.

Read more

राजधानी के न्यू बाईपास के पास किया सड़क जाम

पटना (स्वतंत्र पत्रकार मनोज चौधरी की रिपोर्ट) | एक ओर जहां समूचे प्रदेश में पिछले दिनों हुई भारी बारिश और जल जमाव ने जनता के नाक में दम कर दिया है, वहीं स्थानीय लोगों द्वारा सरकार के खिलाफ आवाज उठना शुरू हो गया है. बुधवार को राजधानी के न्यू बाईपास पर दशरथ्था के पास स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर दिया तथा प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. उनका कहना था कि वर्तमान सरकार की ओर से इस प्राकृतिक आपदा से लड़ने के लिए कुछ इंतजाम नहीं किये गए थे. उनके अनुसार आसपास के इलाकों में बहुत जल जमाव होने से जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. प्रशासन की तरफ से उन्हें सहायता नहीं मिल पा रही है.

Read more

बादशाह इंडस्ट्रीज और गुरुद्वारा की तरफ से राहत सामग्री वितरित

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बिहार में जोरदार बारिश के कारण कई लोगों की जान जा चुकी है. वही आम भी जनजीवन बुरी तरह अस्त व्यस्त हो गया है. राजधानी पटना के जलमग्न इलाकों में फंसे लोगों को निकालने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है. सोमवार को वायुसेना के हेलिकॉप्टर से खाने के पैकेट और अन्य आवश्यक सामग्री गिरायी जा रही है. सोमवार को पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि के नेतृत्व में एसडीआरएफ के दल ने तीन दिनों से पटना के राजेंद्र नगर इलाके में जलजमाव के कारण घर में फंसे उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और उनके परिवार के सदस्यों को नौका से सुरक्षित जगह पहुंचाया. बिहार की मशहूर लोकगायिका शारदा देवी को भी उनके परिवार के साथ उनके राजेंद्रनगर स्थित निवास से निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया, जो बिना बिजली पानी अपने घर में पानी के बीच कैद हो गई थी. पानी जमाव के बीच बीमारियों का प्रकोप का डर बढ़ गया है. झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों की स्थिति और भी खराब है. जल से डूबे मुहल्लों, खासकर झुग्गी-झोपड़ियों में राहत सामग्री, दवा, खाद्य पदार्थ के वितरण की व्यवस्था शुरू कर दी गई है. प्रभावित इलाकों में जहां एक ओर प्रशासन अपनी पूरी ताकत लगा रहा है वही दूसरी तरफ गैर सरकारी एवं प्राइवेट संस्थाएं भी इस नेक काम में आगे आई हैं. इसी क्रम में बिहार की एक अग्रणी कंपनी जो अगरबत्ती बनाती है, बादशाह इंडस्ट्रीज ने गुरुद्वारा के साथ मिलकर कंकड़बाग के प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्री बांटा. गुरुद्वारा ने अपने लंगर से 3000

Read more

‘जियो स्वच्छ रेल अभियान’ | जियो के कर्मचारी व सदस्य जुड़े

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | स्वच्छ वातावरण बनाने की दिशा में जियो ने अपनी जिम्मेदारी निभाने की दिशा में एक कदम और बढ़ाया. शनिवार 28 सितम्बर को देश भर में एक साथ करीब 900 रेलवे स्टेशनों की सफाई का अभियान ‘जियो स्वच्छ रेल अभियान‘ शुरू किया. जियो का मकसद स्वच्छ भारत के संदेश को जन जन तक पहुंचाने का है. इस राष्ट्र-व्यापी अभियान में 25,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया, जिसमें जियो कर्मचारी, सहयोगी, साझेदार और उनके परिवार के सदस्य शामिल थे.‘जियो स्वच्छ रेल अभियान’ भारत के सबसे बड़े स्वच्छता अभियानों में से एक है. इस अभियान में जियो ने अपने कर्मचारियों के प्रयासों के साथ अधिक से अधिक रेलवे स्टेशनों को स्वच्छ बनाने का सफल प्रयास किया है, जिससे देश के लाखों आम लोगों के जीवन पर सकारात्मक रूप से प्रभाव पड़ेगा. इस अभियान को सफल बनाने में आम लोगों ने भी पूरी सक्रियता से सहयोग किया. इस अभियान के तहत पटना एवं दानापुर रेलवे स्टेशनों के प्रवेश द्वारों, वेटिंग रूम, बैठने की खुली जगहों, फुट ओवर ब्रिजों और दुकानों के आसपास के एरिया से सिंगल यूज प्लास्टिक यानि एक बार इस्तेमाल कर फेका गया प्लास्टिक कचरा एकत्र किया गया. इस तरह इन सबों ने स्वच्छ भारत अभियान में योगदान दिया. इस अभियान के तहत एकत्रित किये गए बोतलों, फूड पैकेजिंग, पुआल, चम्मच या सिंगल यूज प्लास्टिक कैरी बैग को पर्यावरण के सबसे अनुकूल तरीके से विशेष एजेंसियों की मदद से निपटाया जाएगा’.

Read more

प्रशिक्षित शिक्षक अब सड़क पर लड़ने को तैयार

पटना (राजेश तिवारी) | एनआईओएस से डीएलएड किए हुए प्रशिक्षित शिक्षक अपनी डिग्री को मान्यता दिलाने के लिए अब कोर्ट से लेकर सड़क पर लड़ने को तैयार हैं. ये प्रशिक्षित शिक्षक 25 सितंबर को राजधानी के गर्दनीबाग में धरना प्रदर्शन करेंगे. इन प्रशिक्षित शिक्षकों की मांग है कि “समान डिग्री समान नियोजन” किया जाए. इन प्रशिक्षित शिक्षकों का ये भी कहना है कि अगर एक ही संस्था से कराए गए डिग्री को अगर राज्य सरकार सरकारी शिक्षकों को मान्यता देती है तो गैर सरकारी शिक्षकों को नियोजन इकाई में क्यों नहीं मान्यता देगी. यह सभी नव प्रशिक्षु शिक्षक आगामी 25 सितंबर को राजधानी के गर्दनीबाग में धरना प्रदर्शन किए प्रशासन से इजाजत ले ली है. आपको बता दें कि बिहार में तकरीबन ढाई लाख प्रशिक्षित शिक्षक बिहार नियोजन प्रक्रिया 2019 -20 से सरकार की गलत नीतियों से नियोजन प्रक्रिया से बाहर हो गए हैं.

Read more

सोनपुर क्षेत्र के बिहार प्रांतीय सेवा समिति भवन की हालत जर्जर

सोनपुर (ब्रजेश पांडेय) | सोनपुर हरिहर क्षेत्र मेला के कालीघाट मंदिर जाने वाले रास्ते में गौरी शंकर मंदिर गेट की बाएं ओर पूर्वी छोर पर चमन कुंड एवं मेन रोड पर बिहार प्रांतीय सेवा समिति का भवन स्थित है जो लगभग 20 कट्ठा जमीन में फैला है. इस भवन में वर्षों पहले विद्यालय चला करता था. विद्यालय के पीछे एक तालाब/कुंड है, जिसे स्थानीय लोग चमन कुंड के नाम से जानते हैं. स्थानीय लोगों के अनुसार, इस तालाब/कुंड का जल कभी भी नहीं सूखता है. इसका स्रोत भवन के बगल में स्थित एक छोटा गड्ढा है जिससे जल रिसता रहता है जो तालाब/कुंड में जाता रहता है. ग्रामीणों से बातचीत के दौरान यह बात सामने आई कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव जी जब भी हरिहर क्षेत्र मंदिर दर्शन करने आते थे तो उक्त तालाब पर आकर पूजा अर्चना भी करते थे. ग्रामीणों के अनुसार आज भी बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री व सदन में प्रतिपक्ष नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती राबड़ी देवी, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव भी उक्त स्थल पर कभी कभी पूजा करने आते रहते हैं. विडंबना है कि यह कुंड और बिहार प्रांतीय सेवा समिति का भवन जीर्ण अवस्था में है जिसपर बिहार सरकार ने किसी प्रकार की सुध नहीं ली है. यहां के ग्रामीणों ने बिहार सरकार से इस चमन कुंड पर ध्यान आकृष्ट करते हुए मांग की कि इस पुराने कुंड का पुनर्निर्माण कराया जाए. उन्होंने यह भी मांग की कि बिहार प्रांतीय सेवा समिति विद्यालय का जीर्णोद्धार भी कराया

Read more

डिस्ट्रिक्ट फुटबॉल एसोशिएशन की बैठक | लिये गये कई निर्णय

कोइलवर/भोजपुर | प्रखण्ड के बहियारा में डिस्ट्रिक्ट फुटबॉल एसोशिएशन की बैठक राममूर्ति प्रसाद की अध्यक्षता में हुई. जिसका संचालन अशोक मानव ने किया. मौके पर डीएफए के अध्यक्ष राममूर्ति प्रसाद ने कहा कि देश का प्रमुख खेल फुटबॉल बिलुप्त हो गया है. ऐसे में हम सभी को आपस मे मिलकर इसे फिर से जिंदा करना होगा. और यह तब होगा जब इस पर कड़ी मेहनत करनी होगी. फुटबॉल जैसे खेल से होने वाले फायदे के बारे में लोगों के बीच जागरूकता लाना होगा. 19 साल बाद जिले के फुटबॉल के खिलाड़ियों को अब प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलेगा. जिससे जिले में फुटबॉल के नए नए खिलाड़ियों को मौका मिलेगा. साथ ही बताया कि किसी समय जिले में फुटबॉल खेल चरम पर था. एक से एक खिलाड़ी थे। जिन्होंने जिले के साथ साथ राज्य का भी प्रतिनिधित्व किया था. लेकिन उसके बाद यह खेल धीरे-धीरे विलुप्त होने लगा. और लोग व खिलाड़ी फुटबॉल से दूर होते चले गए. लेकिन एक बार फिर से जिला फुटबॉल संघ के गठन से खिलाड़ियों में उम्मीद जगी है. मौके पर डीएफए के सचिव रविन्द्र कुमार ने फुटबॉल को अनुशासन वाला खेल बताया और कहा मेहनत करने वाले कि कभी हार नही होती है. साथ ही बताया कि जिले में अभी 14 क्लब के निबन्धन किया गया है. जिन्हें आपस में लीग मैच खेलने को मौका मिलेगा. मौके पर सुधीर कुमार, अमरनाथ सिंह, गोपाल सिंह, अनिल कुमार सिंह, रामप्रताप सिंह, जुबैर खान, रवि कुमार, अमावस जी, योगेश प्रसाद,अमित कुमार, असगर अली, जावेद अख्तर समेत दर्जनों लोग

Read more

तो दो करोड़ लोगों की मौ’त तत्काल हो जाएगी….

पटना (आशीष झा, वरिष्ठ संवाददाता) | कश्मीर को लेकर पाकिस्तान अब अस्तित्व के संकट से जूझ रहा है. न्यूयॉर्क टाइम्स में छपे अपने लेख में इमरान एटमी जंग का अंदेशा जता चुके हैं. सवाल है क्या भारत और पाकिस्तान के बीच हो सकती है एटमी जंग? 2002 में पाकिस्तान में एटमी हथियार की हिफाजत करने वाले एसपीडी यानी स्ट्रैटजिक प्लांस डिवीजन के पहले प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल खालिद किदवई ने चार हालात का जिक्र किया था जिनमें पाकिस्तान भारत के खिलाफ एटमी हथियार का पहले इस्तेमाल कर सकता है- अगर भारत पाकिस्तान के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लेता है. अगर भारत पाकिस्तानी सेना, एयरफोर्स या नेवी को बहुत भारी नुकसान पहुंचाता है. अगर भारत पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को गंभीर तौर पर कमजोर कर देता है. अगर भारत पाकिस्तान को राजनीतिक तौर पर अस्थिर कर देता है या पाकिस्तान में आंतरिक अशांति की बड़ी साजिश को अंजाम देता है.पाकिस्तान अच्छी तरह जानता है कि वो भारत से एटमी जंग में दो तरह से कमतर है. एक ओर भारत इंटरसेप्टर तकनीक के जरिए पाकिस्तानी मिसाइलों को हवा में ही खत्म कर सकता है तो वहीं उसके पास अमेरिका, रुस, चीन और ब्रिटेन की तरह ट्रायड यानी जमीन, हवा और एटमी सबमरीन के जरिए स्टैटिक और मोबाइल दोनों तरह के लांचिंग पैड के जरिए हमला करने की तकनीक मौजूद है जो पाकिस्तान के पास नहीं है.एटमी जंग की शुरूआत हो गई तो क्या होगा ?पाकिस्तान क्या करेगा ?अगर कभी भारत और पाक के बीच एटमी जंग की शुरूआत होती है तो ये

Read more