भड़के PHI छात्रों को स्वास्थ्य सचिव ने दिया आश्वासन

पिछले कई महीने से अपनी मांग पूरी होने का इंतजार कर रहे PHI छात्रों का आक्रोश मंगलवार को फूट पड़ा. पटना स्थित पब्लिक हेल्थ इंस्टीट्यूट के छात्र दरअसल अपनी कोर्स अवधि बढ़ाने को लेकर आन्दोलन कर रहे हैं.




6 महीने पहले उन्हें स्वास्थ्य मंत्री से आश्वासन भी मिला था जिसके बाद 4 साल थ्याेरी और 6 माह इंटर्नशिप पर कमिटी गठित की गई थी, जिसमें छात्रों की मांगा काे सर्वसम्मति से पास किया गया. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा इसपर विधि विभाग से परामर्श मांगा गया. वहां भी इसे हरी झंडी मिल गई. लेकिन इस बीच छात्रों को जानकारी मिली कि संस्थान की डायरेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग को इससे संबंधित अधिसूचना जारी नहीं करने आैर इसे ठंडे बस्ते में डालने का आग्रह किया गया. इसके बाद भड़के PHI छात्र आज सड़क पर उतर गए और संस्थान के निदेशक की इस्तीफे की मांग करने लगे और धरना पर बैठ गये.

धरना प्रदर्शन के उग्र हाेने और टायर जलाकर आगजनी एवं शैक्षणिक कार्य बहिष्कार की स्थिति देखते हुए संस्थान के डायरेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव से बात की. जिसपर प्रधान सचिव ने दाे हफ्ते के अंदर कैबिनेट से मांगाें काे पूरा करने का वादा किया.

देखिए PHI छात्रों का उग्र प्रदर्शन-

इसके बाद डायरेक्टर ने सभी छात्राें काे विश्वास दिलाया आैर छात्राें ने धरना समाप्त करने का निर्णय लिया. लेकिन छात्राें ने चेतावनी दी है कि तय सीमा के अंदर अगर मांगाें काे पूरा नहीं किया गया ताे स्थिति नियंत्रण से बाहर हाे जाएगी. धरना में  जय प्रकाश , अमित, बाबूधन, प्रकाश, किशन , नारायण, अंजनी आदि शामिल हुए.