10 राज्यों में पीएफआई के ठिकानों पर NIA-ED की रेड




PFI की साजिश की वजह से कर्नाटक में हिजाब का विवाद पैदा हुआ: SC

100 से ज्यादा कार्यकर्ता लिए गए हिरासत में

 छापेमारी के विरोध में सड़कों पर उतरे संगठन के कार्यकर्ता

हिजाब मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पीएफआई को जैसे ही दोषी ठहराया नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी ने गुरुवार सुबह 3.30 बजे से 10 राज्यों में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के कई ठिकानों पर छापेमारी शुरू कर दी है. टेरर फंडिंग केस में हो रही इस कार्रवाई में उत्तर प्रदेश, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, असम, ओडिशा, महाराष्ट्र, बिहार, मध्यप्रेदश में संगठन से जुड़े 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस रेड को NIA के करीब 200 अधिकारी अंजाम दे रहे हैं. NIA ने ED और राज्य पुलिस के साथ मिलकर 11 राज्यों से 106 लोगों को गिरफ्तार किया है.

NIA, ED और राज्य पुलिस की तरफ की जारी इस रेड के विरोध में PFI के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. केरल के मल्लपुरम, तमिलनाडु के चेन्नई, कर्नाटक के मंगलुरु समेत कई जगहों पर संगठन के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए हैं. PFI ने बयान जारी करते हुए कहा है कि आवाज दबाने के लिए यह कार्रवाई की जा रही है. सेंट्रल एजेंसी हमें प्रताड़ित कर रही है.

जुलाई में पटना पुलिस ने फुलवारी शरीफ में छापेमारी कर आतंकी साजिश का खुलासा किया था. खुलासे के मुताबिक आंतकियों के निशाने पर प्रधानमंत्री मोदी थे. इस केस में PFI के कार्यकर्ताओं का नाम सामने आने के बाद सितंबर में NIA ने बिहार में छापेमारी की थी. कर्नाटक के उडुपी में इसी साल के शुरुआत में हिजाब का विवाद शुरू हुआ. कर्नाटक सरकार के मुताबिक इस विवाद के पीछे भी PFI के कार्यकर्ता थे. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि PFI की साजिश की वजह से कर्नाटक में हिजाब का विवाद पैदा हुआ.

PNCDESK