नगर को छोड़ चली माँ

हमनी के छोड के नगरिया नू हो .

गडहनी ( भोजपुर ) 10 दिनों के उमंग और उल्लास के नवरात्रि के बाद मां दुर्गा नगर को छोड़ चलीं. अगले वर्ष फिर आने के लिए मन से ओकारने वाले भक्तों ने अश्रुपूर्ण नम आंखों से विदाई दी.




हमनी के छोड के नगरिया नू हो, कहवा जईबू ए माई……. जैसे भाव विह्वल करने वाले गीतों व जय माता दी …………….. जय माता दी के जयघोष के बीच मां दुर्गा को यहां भावपूर्ण विदाई दी गई । प्रशासन द्वारा पुराने रूट से प्रतिमा विसर्जन जुलुस निकालने की अनुमति नहीं मिलने की स्थिति में इस बार दुर्गा की प्रतिमाओं को अलग अलग वाहनों से सहंगी रोड स्थित बनास नदी के लिए रवाना किया गया। इसके पूर्व गोला बाजार आरा सासाराम मुख्य मार्ग पर गडहनी मे स्थापित सभी प्रतिमाओं को जिसमे बिचली पट्टी गोला बाजार पुरानी बाजार शिव मंदिर सहंगी रोड स्थित प्रतिमाओं को लाया गया जहां बडी तादाद में लोग मां दुर्गा को विदाई देने के लिए उमड पडे।श्रद्धालु महिलाओं द्वारा परम्परानुसार मां दुर्गा को खोइछा देने की रस्म अदायगी की गई । तत्पश्चात पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में मां दुर्गा की प्रतिमाओं को सहंगी रोड स्थित बनास नदी तक पहुंचाया गया । प्रतिमाओं के साथ लोगों का हुजूम जयकारा लगाते आगे बढा । जबकि रास्ते में पडने वाले घरों की छतों पर महिलाएं और बच्चे मां के दर्शन के लिए काफी देर से जमे हुए थे।इस दौरान माहौल काफी गमगीन दिखा।वैसे यहां संवेदनशील स्थिति को देखते हुए बडी संख्या में पुलिस बल के साथ चारपोखरी थानाध्यक्ष ओम प्रकाश कुमार प्रशिक्षु डीएसपी संदीप गोल्डी गडहनी थानाध्यक्ष शाजिद हुसैन दल बल के साथ मौजुद रहे। मां दुर्गा की प्रतिमाओं को शांति एवं सौहार्द पूर्ण महौल मे विसर्जित किया गया।

गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट