मेले में ली बाल विवाह नहीं करने की शपथ

गड़हनी में पोषण मेला में योजनाओं की दी गई जानकारी

गड़हनी. प्रखण्ड के गड़हनी अवस्थित समेकित बाल बिकास परियोजना द्वारा राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत मनाए जा रहे राष्ट्रीय पोषण माह के दौरान पोषण मेला का विधिवत आयोजन कर विभाग द्वारा कुपोषण मुक्ति के लिए चलाई जा रही है. विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी आम लोगों को दी गई . गड़हनी बाल बिकास परियोजना कार्यालय परिसर में आयोजित पोषण मेला का उद्घाटन प्रखण्ड प्रमुख अनीता देवी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी धीरज सिन्हा, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी मधुरिमा प्रसाद, चिकित्सा प्रभारी पदाधिकारी डाॅक्टर रीता शर्मा व सामाजिक कार्यकर्ता निर्मल यादव ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया.




इस मौके पर अपने संबोधन में बाल विकास परियोजना पदाधिकारी मधुरिमा प्रसाद ने कहा कि कुपोषण की वजह से तमाम तरह की बीमारियां उत्पन्न होती है. खासकर बच्चों व महिलाओं में कुपोषण की समस्या सबसे अधिक देखी जा रही है. इसका एक मुख्य कारण बाल विवाह भी है. इसको ध्यान में रखकर समेकित बाल विकास परियोजना द्वारा कुपोषण मुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है.

।अधिकारियों द्वारा लाभुकों एवं किशोरियों को पोषण मेहंदी लगाकर पोषण संबंधी जानकारी दी गई. चिकित्सा प्रभारी डॉ रीता शर्मा द्वारा बताया गया कि गर्भावस्था से लेकर बच्चे को 2 साल तक होने तक बच्चों का अस्सी प्रतिशत शारीरिक और मानसिक विकास होता है. इस अवधि में हमें गर्भवती प्रसूति एवं बच्चो के कुपोषण एवं एनीमिया से मुक्ति हेतू पौष्टिक एवं संतुलित आहार पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है. वही बाल विकास परियोजना पदाधिकारी मधुरिमा प्रसाद द्वारा स्वास्थ्य शिक्षा समेत अन्य बिंदुओं पर विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई. पोषण मेले के दौरान प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गडहनी द्वारा पोषण मेला मे स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया.

इस मौके पर उप प्रमुख पति मो०असलम, समिति सदस्य मोहन राम, चिकित्सा कर्मी डॉ० ब्रजेश कुमार, आशुतोष कुमार मिश्र, पर्यवेक्षिका फूल कुमारी, सेविका सिमा तिवारी, जूही खातून,कलावती देवी समेत प्रखण्ड के तमाम आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका व कर्मी उपस्थित थे.

गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट