गंगा: एक चुनौती….क्या बचेगा गंगा का अस्तित्व ?

गंगा को बचाने के लिए एकजुट हुए ग्रामीण
गंगा की निर्मलता के लिए जागे ग्रामीण, नमामि गंगे घाट कमिटियों का गठन शुरू
कटावरोधी कार्यों में गड़बड़ी, शिकायत के लिए ग्रामीणों ने की बैठक

Patna now Exclusive
आरा/सरैयां,5 मार्च. गंगा…जीवन को जीवन देने वाली गंगा… जो सदियों से आजतक अपने निर्मल और स्वच्छ जल से न जाने कितने प्रजातियों से जन-जातियों और भू-सम्पदाओ को बचाती है. अपने साथ खनिज लवणों और जड़ीबूटियों के असीमित संग्रह को साथ धोने वाली गंगा अब मैली हो चुकी है. जी हां ये कोई नई बात हम नही बता रहे हैं. इंडस्ट्रियल क्षेत्र में तो इसके मैले होने का कारण दिखता है लेकिन अब भोजपुर जैसे मैदानी क्षेत्र में गंगा का मैला हो जाना एक खतरे की घण्टी है. इतना ही नही एक तरफ जहां भोजपुरवासी गंगा की कटाव का दंश बरसात में झेल रहे हैं वही विगत दशकों में इसकी धार के साथ जल स्तर में भी कमी आयी है. गंगा के कटाव को भरने के लिए प्रशासनिक कार्यं में गड़बड़ी को देखने के बाद बड़हरा क्षेत्र के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है और अब जहां इसके खिलाफ कुछ लोगों ने प्रशासन से इसकी शिकायत का मूड बनाया है वही नमामि गंगे के लिए अब कई कमिटियां भी गांव में बनने लगी हैं.




बडहरा प्रखंड के नरगदा पंचायत अंतर्गत पशुरामपुर गाँव में 3 मार्च को महुली गंगा घाट कमिटी गठन के लिए एक बैठक का आयोजन किया गया. इस बैठक में मुख्य अतिथि नरगदा पंचायत के पंचायत समिति सदस्य संतोष कुमार तिवारी थे. बैठक का अध्यक्षता ज़िला संयोजक देवानंद उपाध्याय और संचालन ज़िला सोशल मीडिया प्रभारी अंकित सिन्हा ने किया. बैठक में महुली गंगा घाट की कमिटी की गठन के लिए चर्चा की गई, साथ ही गंगा स्वच्छता संकल्प पत्र भरवाया गया. धन्यवाद ज्ञापन सरैया मंडल भाजपा के उपाध्यक्ष अमरेन्र्द तिवारी ऊर्फ हिरा तिवारी ने किया. बैठक में वीर बहादुर सिंह, जयनाथ तिवारी ,राज कुमार राम , शिवजी यादव ,गंगा सागर राय , हरिद्वार यादव , अजय सिंह , अनिल तिवारी , सुमित पाण्डेय , लाल बिहारी यादव , रामबेलास यादव , अमरेन्द्र तिवारी , भोला ठाकुर , राकेश कुमार तिवारी , अभय कुमार तिवारी , बिकेश तिवारी सहित दर्जनो ग्रामीण थे.

वही नथमलपुर घाट के नथमलपुर गाँव में भी नमामि गंगे का बैठक किया गया जिसकी अध्यक्षता नमामि गंगे के संयोजक देवानन्द उपाध्याय और संचालन सह संयोजक शैलेंद्र कुँवर ने किया. बैठक में नथमलपुर गंगा घाट कमिटी गठन के साथ ही गंगा स्वच्छता पर भी ग्रमीणों ने चर्चा किया. धन्यवाद ज्ञापन ज़िला सोशल मीडिया प्रभारी अंकित सिन्हा ने किया. बैठक में सर्वसम्ति से नथमलपुर घाट का संरक्षक विभीषण कुँवर और घाट संयोजक शैलेंद्र कुँवर को बनाया गया. बैठक में अचल सिंह ,जय कुमार सिंह ,अमित कुँवर , विष्णु सिंह , संतोष कुँवर , जनमेजय सिंह , दीपक सिंह , आनंद कुमार , विभीषण कुँवर , मदन सिंह  और मनोज सिंह थे.

गंगा सफाई की लिया गया संकल्प
उधर 4 मार्च को बड़हरा विधानसभा के सलेमपुर मंडल अंतर्गत केवटिया गंगा घाट पर भाजपा नमामि गंगे प्रकल्प भोजपुर का बैठक किया गया. इस बैठक में आम लोगो ने अपनी समस्याओं से पार्टी कार्यकर्ताओं को बताया कि केवटिया गाँव में हो रहे कटाव रोधी कार्यों में हो रही अनियमितता को जिलाधिकारी के पास शिकायत किया जाए. गंगा घाट पर अनियमितता पानी एन. सी. 12 मीटर के बदले 7 मीटर और जियो बैग 13 पंक्ति के बदले 9 पंक्ति मे रखा जा रहा है. 

ग्रामीणो ने पटना नाउ को बताया कि इसी तरह का कार्य बलुआं पंचायत अचरज लाल के टोला मे किया गया था. जिससे वहां का कटाव रोधी मेटरियल ध्वस्त हो गया है. इसलिए बाढ़ आने पर स्थानीय जनता में डर बना रहता है. लोगो ने बताया कि हर पर्व त्योहार पर सरकारी सुविधा NDRF की टीम, ख़तरनाक घाटों पर लाइट  और शौचालय की सुविधा नही मिलती है. साथ ही पुराने बैठक की संपुष्टि, केवटिया घाट कमिटी की गठन, गंगा को निर्मल,अविरल, स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए लोगों से जनसंवाद किया गया. केवटिया घाट में जमा हो रहे गाद (सिल्ट) को साफ़ करवाने पर विचार किया गया. बैठक में घाट के लिए मुख्य संरक्षक पूर्व वार्ड सदस्य राजेन्द्र सिंह और घाट संयोजक उदय सिंह को बनाया गया. बैठक की अध्यक्षता नमामि गंगे के जिला संयोजक देवानंद उपाध्याय और संचालन सह संयोजक वरुण सिंह ने किया. धन्यवाद ज्ञापन ज़िला सोशल मीडिया प्रभारी अंकित सिन्हा ने किया. बैठक रघुवीर सिंह ,गंगा शरण सिंह , अमित सिंह ,बबलू शुक्ला ,विकाश कुमार ,सोनू सिंह , रवि सिंह  ,राजा सिंह , सोनू सिंह ,बजरंग दास और ,बिजेश्वर कुमार सहित दर्जनो लोग थे. अब देखना यह होगा कि ग्रमीणों की ये कमिटियां और इनका ये प्रयास मैली हो रही गंगा को स्वच्छ करती हैं या फिर गंगा के कम हो रहे जलस्तर को भी बढ़ा पाती है? नमामि गंगे का असर कितना को जगहों पर हुआ है यह सभी जानते हैं.ऐसे में भोजपुरवासियों पर फ़िलहाल नजरें सबकी टिकी है. इंतजार है…तो बस.. इन कमिटियों के कार्य स्वरूप को देखने की…स्वरूप तो खुद बन जायेगा.

(नोट: कल पढिये कैसे घट गई गंगा….? गंगा की गोद से रिपोर्टिंग….सिर्फ और सिर्फ patnanow.com पर)

बड़हरा से राकेश कुमार तिवारी के साथ ओ पी पांडेय की रिपोर्ट