पृथ्वी के बिना हमारा अस्तित्व नहीं

‘‘राष्ट्र की रक्षा तभी होगी, जब हम अपनी प्रकृति एवं पर्यावरण की रक्षा करें. प्रकृति की रक्षा के बिना राष्ट्र की रक्षा का कोई मतलब नहीं है.’’ ये पंक्तियाॅ उस पोस्टर प्रर्दशनी से उदधृत हैं जो ‘‘पृथ्वी दिवस’’ पर टी.पी.एस. काॅलेज में आयोजित विज्ञान एवं पर्यावरण उत्सव: इद्रधनुष 2019 में प्रर्दशित की गई थी. उत्सव का उद्घाटन करते हुए पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के प्रति-कुलपति    प्रो. गिरीश कुमार चैधरी ने महाविद्यालय परिवार को इस अनूठे आयोजन की बधाई देते हुए कहा कि हर विभाग के छात्र-छात्राओं, विशेषकर उर्दू साहित्य के विद्यार्थियों की इसमें भागीदारी पर्यावरण जागरूकता का परिचय देती है. आज पर्यावरण को बचाने के लिए नित नये शोध हो रहे है. जिस तरह हमारे विद्यार्थियों ने अपने माॅडल द्वारा वर्षा के पानी के उपयोग को प्रदर्शित कर के दिखाया वह अनुकरणीय है. हम परिवहन के क्षेत्र में ध्यान देकर एवं पौधारोपण को बढ़ावा देकर बहुत हद तक पृथ्वी को बचाने की दिशा में अपनी भूमिका निभा सकते हैं. मुख्य वक्ता के रूप में जन्तु विज्ञान विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो. अरूण कुमार ने बताया कि प्रकृति में कोई भी चीज अकेले नहीं चलती. एक की रक्षा में ही दूसरे की रक्षा निहित है. गिद्ध जैसी प्रजातियाॅ लुप्त हो रही हैं, जो जैविक गंदगी को साफ करने का काम करती रही है. हमारी वैदिक परम्परा में प्रकृति की सर्वत्र वंदना है, आज हम उसे भुला चुके है.

  उत्सव के मुख्य अतिथि महाविद्यालय के पूर्व प्रधानाचार्य प्रो. श्रीकांत शर्मा ने कहा कि इस तरह के आयोजन से सामाज में जागरूकता बढ़ती हैं. हमारा पूरा जीवन-जगत, पर्यावरण, जीव-जन्तु एक जैविक चक्र में बंधे है. हमारे युवाओं को ही मानसिकता बदलनी है, जिसका एक उदाहरण यह सफल आयोजन ही है. हमे यह समझाना है कि प्रकृति एवं पर्यावरण का विनाश दरअसल हमारी अपनी सभ्यता का ही विनाश हैं, जिस पर हम इतना गर्व करते हैं. जन्तु विज्ञान विभाग, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के अध्यक्ष डाॅ. अजीत कुमार सिंह ने विश्व में ‘‘पृथ्वी दिवस’’ की परम्परा के बारे में बताते हुए कहा कि इस समय 193 देशों में इस तरह का आयोजन हो रहा है. 




 आरम्भ में अतिथियों का स्वागत करते हुए महाविद्यालय के प्रधानाचार्य प्रो. उपेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि महाविधालय में इस तरह का यह पहला आयोजन है और हम परिसर में इस तरह की गतिविधियों को प्रोत्साहित करने में कोई कसर नहीं रखेंगे. इस आयोजन से महाविद्यालय का भी सम्मान बढ़ा है.

इन्द्रधनुष 2019 का आयोजन टी.पी.एस. काॅलेज के द्वारा किया गया था, जिस का नैक मूल्यांकन में अत्यधिक महत्व है. संयोजक प्रो. रूपम ने बताया कि महाविद्यालय में प्रति वर्ष यह आयोजन इसी नाम से किया जाएगा. इस अवसर पर महाविद्यालय के सभी विभाग के शिक्षकों, शोधार्थियों एवं छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. इस उत्सव के तीन संभाग ये – माॅडल प्रर्दशनी, प्रोस्टर प्रर्दशनी एवं पाॅवर प्वाइंट पे्रजेन्टेशन. आरम्भ में अतिथियों द्वारा सभी संभागों की प्रर्दशनी का अवलोकन किया गया एवं निर्णयक मंडली द्वारा निम्नलिखित विभागों को पुरस्कृत किया गया.

Poster

1st-      Geography

2nd-     Psychology

3rd-     Mathematics

Model

1st-      Chemistry

2nd-     Physics

3rd-     Economics

PPT

1st-      Economics

2nd-     Geography

3rd-     Philosophy

डॉ अबु बकर रिजवी ने बताया कि इस मौके पर डाॅ जावेद अख्तर खाॅ, डाॅ. महेश कुमार, डाॅ. शशि भूषण चौधरी, डाॅ. कृष्णनंदन प्रसाद, डाॅ. विजय कुमार सिंह, डाॅ. शशि प्रभा दूबे, डाॅ. हेमलता, प्रो. नूरी, डाॅ. धर्मराज राम, डाॅ. शिवनारायण, डाॅ. एन.के सिंह आदि शिक्षक मौजूद थे. कार्यक्रम का संचालन डाॅ. अंजलि प्रसाद एवं धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. श्यामल किशोर ने किया.