बिहार में इन्हें लगा कोरोना का पहला टीका

राज्य में सीएम ने किया कोविड-19 टीकाकरण का शुभारंभ, 301 सत्र स्थल पर 18,122 कोरोना योद्धाओ को लगाया गया टीका

•IGIMS में सफाईकर्मी रामबाबू को लगा पहला टीका




•मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों को प्रमाण पत्र देकर किया सम्मानित

पटना(ओ पी पांडेय). कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण के महाअभियान का शुभारंभ बिहार में शनिवार को किया गया. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के द्वारा इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, पटना में टीकाकरण का शुभारंभ किया गया. प्रथम चरण में बिहार में लगभग 18122 लोगों को टीका दिया गया. पहले दिन राज्य में 301 टीकाकरण सत्र स्थल का संचालन किया गया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के सफाईकर्मी रामबाबू को कोविड-19 का पहला टीका लगाया गया. रामबाबू के बाद वहां के एंबुलेंस चालक अमित कुमार, लैब टेक्नीशियन सोनू पंडित, डॉ सनत कुमार एवं कर्मवीर सिंह राठौर को टीका लगाया गया. टीकाकरण के पश्चात 30 मिनट के और अवलोकन को पूरा कर सभी लाभार्थी पूर्ण रूप से स्वस्थ दिखे एवं अपने अपने कार्यों में लग गए.

मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों को किया सम्मानित

टीकाकरण के पश्चात पहला टीका लगवाने वाले सफाई कर्मी समेत अन्य लाभार्थियों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया. इस मौके पर मुख्यमंत्री के द्वारा पौधारोपण भी किया गया. इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आज से बिहार में टीकाकरण की शुरुआत हुई है. हम लोग इस अवसर पर यहां उपस्थित हुए हैं. पूरे देश की तरह बिहार में भी टीकाकरण के पूर्ण तैयारी की गई है.

यह एक ऐतिहासिक पल है

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक पल है जिसके लिए सभी को शुभकामनाएं देता हूं. यह गर्व की बात है कि देशवासी स्वदेशी निर्मित कोरोना के टीके का इस्तेमाल कर रहे हैं.

इस अवसर पर मुख्य सचिव दीपक कुमार, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, राज्य स्वास्थ समिति के कार्यपालक निदेशक सह विशेष सचिव मनोज कुमार, अपर निदेशक डॉ करुणा कुमारी, इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉ एनआर विश्वास, राज्य स्वास्थ्य समिति के प्रशाषी पदाधिकारी खालिद अरशद, राज्य प्रतिरक्षण पदाधिकारी एनके सिन्हा के साथ राज्य स्वास्थ्य समिति के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.