कुछ ऐसी है आयुष्मान भारत योजना

“आयु्ष्मान योजना के तहत राज्‍य के करीब एक करोड़ 08 लाख 24 हजार परिवारों के लगभग 5.85 करोड़ लोग कवर किए जाएंगे. प्रत्येक  परिवार सालाना पांच लाख रुपये तक इलाज करा सकेंगे। लाभुक सूचीबद्ध सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में गोल्डेन कार्ड के जरिए इलाज कर सकते हैं। बिहार में अभी तक 393 सरकारी एवं प्राइवेट अस्पताल सूचीबद्ध कर लिए गए हैं.
योजना में ओपीडी का खर्च शामिल नहीं किया जाएगा. इसका लाभ भर्ती होने पर ही मिलेगा. हां, भर्ती होने से तीन
दिन पहले से लेकर 15 दिन बाद तक के खर्च इसमें शामिल रहेंगे. इसके तहत दवाएं और जांच शामिल हैं.”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi launching the Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana (PMJAY), at Ranchi, in Jharkhand on September 23, 2018.
The Governor of Jharkhand, Smt. Droupadi Murmu, the Union Minister for Health & Family Welfare, Shri J.P. Nadda, the Chief Minister of Jharkhand, Shri Raghubar Das, Minister of State for Tribal Affairs, Shri Sudarshan Bhagat and other dignitaries are also seen.

भाजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष नित्यानन्द राय ने प्रधानमंत्री के संबोधन को सुनने के बाद कहा कि यह बड़ी बात है
कि- “कैंसर जैसी 1300 गंभीर बीमारियों को इस योजना में शामिल किया गया है. इन बीमारियों का इलाज सरकारी ही
नहीं प्राइवेट अस्पतालों में भी सुलभ होगा.




उन्होंने बताया कि  हर गरीब परिवार 14555 हेल्पलाइन नंबर पर इस योजना की जानकारी मिलेगी. यही नहीं 4 सालों में देश में डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर तैयार किया जायगा तो 4 सालों में देश में 14 नए एम्स की स्वीकृति दी गई. 82 नए सरकारी मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं. भविष्य में एक लाख डॉक्टर तैयार करने की क्षमता विकसित होगी.“ बिहार भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री नित्यानंद राय ने आयुष्मान भारत योजना के शुभारम्भ के मौके पर समस्तीपुर में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत भी की.