आंगनबाड़ी सेविका चयन का बहिष्कार क्यों ?

आवेदकों को आवेदन करते समय नही दी गयी थी पूर्ण जानकारी
CDPO ने कहा- सभी स्टाफ और ऑफिसर को 1 घण्टे का लन्च ब्रेक मिलता है. क्या CDPO भुखे खटती रहेगी?

आरा,13 जून. भोजपुर के तरारी में आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका पद हेतु आम सभा के आयोजन का बहिष्कार कर ग्रामीणों ने इसमें घोर अनियमितता का भंडाफोड़ कर दिया. मिली जानकारी के मुताबिक आवेदकों को आवेदन के पूर्व यह नही बताया गया कि उक्त पद सिर्फ SC कोटि के लिए आरक्षित है,लेकिन चयन के वक्त जब इस बात का खुलासा हुआ तो आवेदकों के गुस्से को ग्रामीणों ने जायज समझ उनका समर्थन किया और आमसभा का बहिष्कार कर दिया.




तरारी क्षेत्र के बसौरी पंचायत अंतर्गत बसौरी ग्राम में वार्ड नम्बर 4 के आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका पद हेतु आम सभा का आयोजन किया गया, जिसमें सुपरवाइजर पुष्पा कुमारी ने भाग लिया. परन्तु बसौरी गाँव के लोगो ने इसका बहिष्कार कर दिया. ग्रामीणों का कहना था कि जब आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका के पद के लिए आवेदन लिया जा रहा था तब यह स्पष्ट नही किया गया था कि उक्त सीट किस कोटि के लिए आरक्षित है,जिसकी वजह से ग्रामीणों ने सामान्य कोटि समझ आवेदन कर दिया. लेकिन जब बुधवार को जब चयन के वक्त सुपरवाइजर द्वारा बताया गया कि यह सीट SC कोटि का है. इतने पर ग्रामीण भड़क गए और हंगामा करने लगे. ग्रामीणों का कहना था कि पूर्व में इसकी जानकारी क्यों नही दी गयी. आवेदकों का कहना था कि अगर यह जानकारी पहले दी गयी होती तो वे आवेदन ही नही करते. यही नही मौके पर वार्ड 4 के पार्षद केशव राम की मौजूदगी के बाद भी उनके बिना हस्ताक्षर के ही सुपरवाइजर ने रजिस्टर बन्द कर दिया. वार्ड पार्षद ने बताया कि बिना उनके हस्ताक्षर के चयन करना ही गलत है और नियम के विरुद्ध है. बताते चले की कुल 3 आवेदन में 2 SC और 1 पिछड़ा वर्ग से था. इस संदर्भ में वार्ड पार्षद ने CDPO को शिकायत भी भेजी है.

मामले में सुपरवाइजर पुष्पा कुमारी से जब पटना नाउ ने उनका पक्ष जानने के लिए सम्पर्क किया तो उनसे सम्पर्क नही हो सका उनके मोबाइल पर एक पुरुष ने भड़के हुए अंदाज में पहले नम्बर कहाँ से मिलने का सवाल पूछा और उससे जब नाम पूछा गया तो नाम नही बताते हुए उसने बताया कि वो बाहर गयी हैं उनसे बाद में बात कर लीजिएगा.

CDPO का जवाब- कल ऑफिस टाइम में बात करेंगे

आंगनबाड़ी सेविका के चयन के बहिष्कार के बारे में जब तरारी की CDPO आकांक्षा प्रियदर्शनी से “पटना नाउ” ने बात किया तो उन्होने कहा कि वे सुबह ग्यारह बजे से जिला के मीटिंग में थीं. घटना की जानकारी उन्हें हुई लेकिन सुपरवाइजर से आमना-सामना नही हुआ. उन्होंने कहा कि “अभी घर पहुँचे हैं, दिनभर से भूखे-प्यासे हैं. सभी स्टाफ और ऑफिसर को 1 घण्टे का लन्च ब्रेक मिलता है. क्या CDPO भुखे खटती रहेगी? ऐसा कोई मशीनरी है जो भूखे काम कर सके? अभी हम आ के खाना खा रहे हैं. अभी कुछ नही बताएंगे कल ऑफिस टाइम में बात करेंगे.”

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट